Navratri 1st Day: माँ दुर्गा के 9 स्वरूपों के प्रथम स्वरूप के करें दर्शन ! वाराणसी में है यूपी का एकमात्र माता शैलपुत्री का मन्दिर

Shailputri Temple In Varanasi: शारदीय नवरात्रि को लेकर प्रथम दिन देवी मन्दिरों में जय माता दी के जयकारों के साथ देर रात से ही देश के प्रसिद्ध देवी मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ने लगी है. माता के 9 स्वरूपों की पूजा की जाती है, यह नवरात्रि माँ की भक्ति और साधना के दिन हैं. प्रथम दिन माँ शैलपुत्री की पूजा की जाती है, वाराणसी की काशी नगरी में अलईपुर में माता शेलपुत्री का प्राचीन और दिव्य मन्दिर हैं, यहां वैसे तो भक्तों की भीड़ रहती है है, लेकिन नवरात्रि के दिनों में भक्तों का सैलाब उमड़ता गया

Navratri 1st Day: माँ दुर्गा के 9 स्वरूपों के प्रथम स्वरूप के करें दर्शन ! वाराणसी में है यूपी का एकमात्र माता शैलपुत्री का मन्दिर
वाराणसी में माता शैलपुत्री के करें दर्शन, फोटो साभार सोशल मीडिया

हाईलाइट्स

  • शारदीय नवरात्रि में माता शैलपुत्री के करें दर्शन, प्रथम दिन माता की होती है पूजा
  • यूपी का एकमात्र शैलपुत्री मन्दिर काशी के अलइपुर में, दर्शन से भक्तो की होती है मनोकामना पूरी
  • सुहागिन महिलाओं और शादीशुदा जोड़ों को दर्शन करने चाहिए, होती है मनोकामना पूर्ण

Visit Mata Shailputri on the first day of Shardiya Navratri : शारदीय नवरात्रि के पावन 9 दिन वाला पर्व प्रारम्भ शुरू हो रहा है, प्रसिद्ध देवी मंदिरों में भक्तो का पहुंचना शुरू हो गया है. जय माता दी के जयकारों की गूंज समस्त देवी मंदिरों में गूंजने लगी है. काशी नगरी में दिव्य,प्रसिद्घ माता के 9 स्वरूपों में प्रथम स्वरूप माँ शेलपुत्री माता का मन्दिर है. चलिए बताते है इस देवी मंदिर का  पौराणिक महत्व, क्या है मान्यता और क्या कथा इसके पीछे प्रचलित है.

प्रथम स्वरूप माता शैलपुत्री के करें दर्शन

शारदीय नवरात्रि शुरू होने जा रहे हैं, दुर्गा माता के 9 स्वरूपों के पूजन का विशेष महत्व है, काशी नगरी वाराणसी में माता दुर्गा के प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री का प्रसिद्ध और दिव्य मन्दिर है, जिसकी अद्भुत मान्यता है, माता शैलपुत्री का प्रथम दिन पूजन किया जाता है, सुबह से ही देवी मंदिरों में भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा है. यह 9 दिन भक्ति और साधना के लिए महत्वपूर्ण हैं, व्रत,पूजन का विशेष महत्व है. अलईपुर स्थित यह माता शैलपुत्री का दिव्य मन्दिर अपने आप में अद्भुत है.

माँ के दर्शन से होती है मनोकामना पूर्ण

Read More: Narsimha Jayanti 2024: कब है नरसिंह जयंती ! भक्त प्रह्लाद की रक्षा और राक्षस हिरण्यकश्यप के अत्याचारों का अंत करने के लिए भगवान ने धारण किया नरसिंह अवतार

आमतौर पर हर दिन यहां दर्शन के लिए भीड़ उमड़ती है, लेकिन नवरात्रि में भक्तों का हुजूम दर्शन के लिए देर रात से ही उमड़ पड़ता है. इस मन्दिर की मान्यता की बात करें तो सुहागिन महिलाओं को यहां दर्शन करना चाहिये, शादीशुदा जोड़ो को माता के समक्ष आकर दर्शन करना चाहिए, इससे उनके वैवाहिक कष्टों का निवारण होता है. इसके साथ ही विधि विधान से व्रत पूजन करने से माता प्रसन्न होती है, अपने भक्तों पर कृपा करती हैं.

Read More: Bhagwan Ki Murti Uphar Me deni Chahiye: भगवान की मूर्ति गिफ्ट में देनी चाहिए या नहीं ! प्रेमानन्द महाराज ने क्या बताया

शैलपुत्री माता को वृषारूढ़ा भी कहा जाता है

Read More: Mohini Ekadashi 2024 Kab Hai: जानिए कब रखा जाएगा मोहिनी एकादशी का व्रत ! क्या है इस एकादशी का पौराणिक महत्व

माँ के मन्दिर में नवरात्रि पर देर रात से भक्तो की भीड़ उमड़ पड़ती है, इस मंदिर में तीन बार आरती होती है, माँ को चढ़ावे में नारियल और सुहाग का सामान चढ़ाया जाता है. शैलपुत्री माता सदैव बैल पर विराजमान होती हैं. यही कारण है कि इन्हें वृषारूढ़ा भी कहा जाता है. इनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का फूल सुशोभित है.

एक कथा भी है प्रचलित

माँ शैलपुत्री ही माता सती है और फिर माता पार्वती वाराणसी के मां शैलपुत्री के इस प्राचीन मंदिर के बारे में एक कथा प्रचलित है. वाराणसी में माता शैलपुत्री के इस मंदिर की अपने आप में अद्भुत मान्यता है, इसके पीछे जो कथा प्रचलित है, ऐसा कहा जाता है कि मां पार्वती ने शैलराज हिमवान के घर जन्म लिया और शैलपुत्री के नाम से जानी गईं, ऐसा भी आया है कि जब माता किसी बात पर भगवान शिव से नाराज हुई और कैलाश से काशी पहुंच गईं.

फिर भोलेनाथ भी माता को मनाने पहुंच गए, माता ने महादेव से आग्रह करते हुए कहा कि यह स्थान उन्हें बहुत प्रिय है और वह वहां से जाना नहीं चाहती जिसके बाद से माता यहीं विराजमान हो गयी. जो शैलपुत्री के नाम से प्रसिद्ध हैं. दुर्गा जी का पहला स्वरूप शैलपुत्री है. प्रथम दिन इन्हीं माता के पूजन का महत्व है.

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Fatehpur News: फतेहपुर में क्यों हो रही है हिंदू महापंचायत ! हजारों की संख्या में पहुंचने का अनुमान Fatehpur News: फतेहपुर में क्यों हो रही है हिंदू महापंचायत ! हजारों की संख्या में पहुंचने का अनुमान
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) में आगामी 21 जुलाई को हिंदू महापंचायत (Hindu Mahapanchayat) का आयोजन मलवां (Malwan)...
Bindki Accident News: फतेहपुर के बिंदकी में दर्दनाक हादसा ! बाइक सवार दो लोगों की मौत
Fatehpur Brajesh Pathak: फतेहपुर पहुंचे डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक अचानक क्यों भड़क उठे ! एक दिन का काटा वेतन
फतेहपुर थाना न्यूज़: मां-बेटे ने मिलकर पिता को लगाया 50 लाख का चूना ! तिकड़म जान कर रह जाएंगे भौचक्के
Fatehpur News: फतेहपुर में ससुराल गए युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौ'त ! परिजनों ने लगाया ह'त्या का आरोप
UPSC EPFO APFC Result 2024: फतेहपुर की विप्लवी बनी असिस्टेंट कमिश्नर ! गांव में ख़ुशी की लहर, जानिए लोगों ने क्या कहा
Fatehpur UPPCL News: फतेहपुर के बिजली विभाग में 14 सालों से जमा बुद्धराज बाबू हटाया गया ! इस एक्सईन का था राइट हैंड

Follow Us