×
विज्ञापन

Navratri Vrat Paran Vidhi: नवरात्रि व्रत पारण की सही विधि क्या है जानें विस्तार से

विज्ञापन

शारदीय नवरात्रि व्रत पारण की सही विधि क्या है.औऱ इस साल किस दिन व्रत का पारण किया जा सकता है.आइए जानते हैं. Navratri vrat paran vidhi paran navratri date 2021

Navratri vrat paran vidhi In Hindi:इस साल का शारदीय नवरात्रि व्रत अपने समापन की ओर है.14 अक्टूबर को नवमी तिथि है औऱ फ़िर 15 को दशमी यानि विजयादशमी (दशहरा का त्योहार मनाया जाएगा.इस साल नवरात्रि व्रत का पारण किस दिन करें इनको लेकर हमारी एक रिपोर्ट हाल ही में प्रकाशित हो चुकी है.जिसको आप नीचे दी हुई लिंक को क्लिक करके विस्तार से पढ़ सकते हैं. Navratri vrat paran vidhi

ये भी पढ़ें- Navratri 2021 Paran Kab Hai: शारदीय नवरात्रि 2021 का व्रत पारण किस दिन करें क्या है सही डेट जान लें पूरी बात

फ़िर भी यहाँ संक्षेप में जान लें इस साल व्रत का पारण नवमी तिथि यानि 14 अक्टूबर को शाम 4 बजे के बाद औऱ 6 बजे के पहले शुभ मुहूर्त में कर सकते हैं.या 15 अक्टूबर की सुबह सूर्योदय के समय कर सकते हैं. Navratri vrat paran 2021 vidhi

विज्ञापन
विज्ञापन

नवरात्रि व्रत पारण की विधि (Navratri Vrat Paran Vidhi In Hindi) 

जो लोग नवमी तिथि को व्रत का पारण करते हैं तो उन्हें हवन औऱ कन्या पूजन के बाद माता को लगाया जाने वाला भोग जैसे हलवा पूड़ी, चना, खीर पूड़ी आदि से  व्रत खोल लेना चाहिए.जो लोग दशमी को पारण करना चाहते हों वह माता रानी को पूजा के समय जो भी भोग अर्पित कर रहे हों जैसे फल, मिठाई, मेवा आदि से व्रत खोल सकते हैं.इसके बाद फिर घर में बने भोजन को खा सकते हैं.एक बार व्रत का पारण हो जाने के बाद कुछ भी खाने की मनाही नहीं होती है.हालांकि यह इस बात का विशेष ध्यान दें कि व्रत का पारण बिना लहसुन प्याज़ पड़े हुए भोज्य पदार्थों से करें.औऱ पारण वाले दिन पारण के बाद भी ऐसा भोजन करने से बचें.Sharad navratri paran vidhi 2021

इसके पूर्व में कलश स्थापना, घर में माता की चौकी, आदि का हवन पूजन के बाद विधि विधान से विसर्जन कर दें.जिस तरह कलश स्थापना पूरे विधि विधान औऱ शुभ मुहूर्त में होती है.उसी तरह इसका विसर्जन औऱ पारण भी पूरे विधि विधान से करना चाहिए. Navratri vrat ka paran kaise kre

ये भी पढ़ें- Navratri 2021 Paran Kab Hai: शारदीय नवरात्रि 2021 का व्रत पारण किस दिन करें क्या है सही डेट जान लें पूरी बात

ये भी पढ़ें- Navratri: जय अम्बे गौरी आरती हिंदी में Jay Ambe Gauri Arati In Hindi अंबे माता जी की आरती


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।