Who is Sonam Wangchuk: कौन हैं सोनम वांगचुक ! जिनके Pashmina March से डरी सरकार, Leh में धारा 144 लागू

सोनम वांगचुक

पर्यावरणविद् व क्लाइमेट एक्टिविस्ट सोनम वांगचुक (Sonam Wangchuk) ने लेह से चीन बॉर्डर (China Border) तक गांधी जी के दांडी मार्च की तर्ज पर पशमीना मार्च (Paschmina March) निकालने का ऐलान कर दिया है. वांगचुक के इस आंदोलन की खबर लगते ही सरकार की नींद उड़ गई है. वांगचुक ने 7 अप्रैल से इस यात्रा को शुरू करने का आव्हान किया है. जिसके बाद केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख (Laddakh) में प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दी गई है.

Who is Sonam Wangchuk: कौन हैं सोनम वांगचुक ! जिनके Pashmina March से डरी सरकार, Leh में धारा 144 लागू
सोनम वांगचुक, Image credit original source

सोनम वांगचुक के पशमीना मार्च पर उड़ी प्रशासन की नींद

पर्यावरणविद सोनम वांगचुक (Sonam Wangchuk) 21 दिन के अपने भूख हड़ताल, जलवायु उपवास आंदोलन को लेकर चर्चाओं में रहे. जहां उनकी मांग थी कि केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख (Laddakh) को पूर्ण राज्य का दर्जा दिया जाए. इस आंदोलन में भारी संख्या में युवाओ और महिलाओं ने हिस्सा लिया था.

इस अनशन के बाद 10 दिन का अनशन महिलाओ ने किया था. वांगचुक ने खुद बताया कि हमारे इस अनशन में धूप हो या छांव या ठंड शांतिपूर्ण ढंग से अनशन (Anshan) किया जा रहा है. सरकार को अपने किये हुए वादों को याद दिला रहे हैं. शायद अब सरकार इस मार्च को रोकना चाहती है.

पशमीना मार्च पर प्रशासन ने धारा 144 की लागू

7 अप्रैल से गांधी जी की दांडी यात्रा की तर्ज पर लेह से 300 किलोमीटर चीनी बार्डर तक यह शांतिपूर्ण मार्च निकालने का आव्हान किया. लगता है यह सरकार को रास नहीं आया. वांगचुक के इस फैसले के बाद सरकार की हवाइयां उड़ गई, यहां का प्रशासन जबरदस्ती करने लगा, गांवों से गाड़ियों को रोककर, थाने बुलाया जा रहा है. और लद्दाख प्रशासन ने केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में धारा 144 लागू कर दी यही नहीं इंटरनेट की सेवाएं भी स्लो कर दी गई है. उधर लाउड स्पीकर और 5 से ज्यादा लोगों के एकजुट होने पर भी रोक लगा दी है. शांतिपूर्ण ढंग से अनशन किया जा रहा है उसके बावजूद भी लोगों पकड़ कर थाने क्यों ले जाया जा रहा है.

climate_activist_sonam_wangchuk

Read More: Recruitment In Uidai : यूआईडीएआई ने निकाली इन पदों पर भर्तियां ! आवेदन की प्रक्रिया होगी ऑफ़लाइन

चीन अतिक्रमण करता जा रहा

सोनम वांगचुक का आरोप है कि पशमीना मार्च के मद्देनजर लद्दाख को वारजोन (Warzone) बना दिया गया है. ज्यादातर चीनी सेना ने कब्जा कर लिया है जहां पर भारतीय चरवाहों को जाने में पहले ही रोक दिया जाता है. पिछले कुछ सालों से चीन लगातार यहां पर अतिक्रमण पर अतिक्रमण करता आ रहा है और उसने काफी जमीन पर कब्जा भी कर लिया है. हम सरकार को याद दिलाने के लिए ये शांतिपूर्ण ढंग से मार्च निकाल रहे हैं. शायद ये लोग चाहते नहीं है कि यह मार्च निकले.

Read More: How to Add Name In Voter List In UP: वोट डालने के लिए कैसे घर बैठे करवा सकते हैं मतदाता सूची में अपना नाम शामिल ! कैसे वोटर आईडी में करें करेक्शन

क्या है पशमीना मार्च?

पहले तो आपको बता दें कि पशमीना क्या है पशमीना पहाड़ी बकरियों यानी भेड़ो से मिलता है यह एक प्रकार का ऊन है. ठंडी जगहों पर पशमीना का चलन है, शॉल भी पश्मीना की बेहद प्रसिद्ध है. क्योंकि यह काफी गर्म होती है. इसका कारोबार लद्दाख और करगिल के लोगों का रोजगार का साधन है. लड़ाई इस बात की है कि ज्यादातर चरागाहों पर चीन का कब्जा होता जा रहा है. आरोप है सरकार चीन से इसे वापस नहीं ले रही है. जिस वजह से लद्दाख के लोग अपनी भेड़ों को चारागाह नहीं भेज पा रहे. जिसके बाद वांगचुक ने ये गांधीवादी रास्ता अपनाया है.

Read More: Paytm Fastag News In Hindi: जरूरी खबर ! 15 मार्च तक नहीं चेंज किया पेटीएम फास्टैग, तो देना होगा दोगुना टोल टैक्स, जान लें पूरी प्रक्रिया

पशमीना मार्च की बात करें तो महात्मा गांधी के ऐतिहासिक दांडी नमक यात्रा से प्रेरित होकर, सोनम वांगचुक ने पशमीना मार्च का एलान किया है. दरअसल लद्दाख के चारागाह क्षेत्रों में गलत तरह से चीनी घुसपैठ के विरोध में और ईको के लिए नाजुक क्षेत्र में जमीनी हकीकत को उजागर करने के लिए यह मार्च किया जाता है.

कौन हैं सोनम वांगचुक?

क्लाइमेट एक्टिविस्ट सोनम वांगचुक एक मैकेनिकल इंजीनियर हैं और हिमालयन इंस्टीट्यूट ऑफ अल्टरनेटिव्स, लद्दाख (HIAL) के निदेशक हैं. इनका जन्म 1966 में हुआ था. इनका नाम तब चर्चा में आया जब साल 2009 में आई राजकुमार हिरानी की ब्लॉक बस्टर सुपर हिट मूवी '3 इडियट' (3 Idiots) में एक्टर आमिर खान ने फुंसुक वांगड़ू का करेक्टर वांगचुक के किरदार के इर्द गिर्द प्ले किया. उन्हें वर्ष 2018 में मैगसेसे पुरस्कार मिल चुका है. वांगचुक को SECMOL परिसर को डिजाइन किया इसका काम यह है कि ये सौर ऊर्जा पर चलता है और खाना पकाने, प्रकाश या हीटिंग के लिए जीवाश्म ईंधन का उपयोग नहीं करता है.

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Fatehpur News: लूट की घटनाओं से महकमें में हलचल ! फतेहपुर पहुंचें एडीजी आईजी Fatehpur News: लूट की घटनाओं से महकमें में हलचल ! फतेहपुर पहुंचें एडीजी आईजी
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) में लागतार हो रही लूट की घटनाओं ने पुलिस महकमें को थर्रा दिया...
Fatehpur News: फतेहपुर में पुलिस एनकाउंटर में तीन बदमाश गिरफ्तार ! बीसी संचालक के साथ हुई थी लूट
Fatehpur UP News: फतेहपुर में भाजपा नेत्री के पुत्र की दबंगई ! बीच सड़क फायरिंग का वीडियो वायरल
Crime In Fatehpur: फतेहपुर में बाइक सवार बदमाशों से दहला जनपद ! बीसी संचालक को मारी गोली, 72 घंटे के अंदर तीसरी घटना
Fatehpur News: फतेहपुर में सपा भाजपा समर्थकों में जमकर चले लाठी डंडे ! भंडारे की गहमागहमी पहुंची चाकू तक
Fatehpur News: फतेहपुर में शादी की सालगिरह से पहले दंपति ने जीवन लीला की समाप्त ! ऐसे लटके मिले दोनो
Gujarat के Rajkot में भीषण अग्निकांड से जलकर ख़ाक हुआ TRP Gaming Zone ! 24 की मौत से हड़कंप, कई लापता

Follow Us