Up News: यूपी में कानून व्यवस्था की समीक्षा अब जिलाधिकारी के हाथों में, CM डैशबोर्ड में होगी ग्रेडिंग और रैंकिंग

उत्तर प्रदेश शासन ने यूपी में अब कानून व्यवस्था को लेकर समीक्षा बैठक के सम्बंध में पुनः पुरानी व्यवस्था को बहाल करने का शासनादेश जारी किया है. यह आदेश मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा समस्त जिलों में भेज दिए हैं.अब 68 जिलों में पुरानी व्यवस्था के तहत डीएम की अध्यक्षता में कानून व्यवस्था व समीक्षा बैठक आयोजित पुलिस लाइन में की जाएगी.जबकि जहां पुलिस कमिश्नरेट लागू है वहाँ पुलिस आयुक्त ही समीक्षा करेंगे.

Up News: यूपी में कानून व्यवस्था की समीक्षा अब जिलाधिकारी के हाथों में, CM डैशबोर्ड में होगी ग्रेडिंग और रैंकिंग
डीएम करेंगे कानून व्यवस्था की समीक्षा,फोटो साभार सोशल मीडिया

हाईलाइट्स

  • उत्तर प्रदेश शासन का शासनादेश जारी,डीएम करेंगे कानून व्यवस्था की समीक्षा
  • जिन जिलों में पुलिस कमिश्नरेट लागू है वहां समीक्षा पुलिस आयुक्त करेंगे
  • सीएम डैशबोर्ड में समस्त कार्यो की समीक्षा की रैंकिंग व ग्रेडिंग की जाएगी

DM will review law and order in all the districts : पहले की तरह उत्तर प्रदेश शासन ने जिले की कानून व्यवस्था की समीक्षा की अध्यक्षता डीएम को दी है.पुरानी व्यवस्था को शासन ने बहाल कर दिया है.यानी 75 जिलों के इस प्रदेश में जिलाधिकारी 68 जिलों की कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक करेंगे.जबकि बचे 7 जिलों की अध्यक्षता पुलिस आयुक्त करेंगे.जिसके बाद शासन स्तर पर मॉनिटरिंग करते हुए कानून व्यवस्था ,विकास कार्यों के मूल्यांकन और निगरानी बराबर ग्रेडिंग और रैंकिंग भी तय की जाएगी.

डीएम करेंगे कानून व्यवस्था की समीक्षा,7 जिलों में पुलिस आयुक्त करेंगे समीक्षा

योगी सरकार ने जिलों में कानून व्यवस्था की समीक्षा को लेकर पुरानी व्यवस्था को लागू कर दिया है.अब जिन जिलों में पुलिस कमिश्नरेट लागू नहीं है, उनमें कानून व्यवस्था की समीक्षा पुलिस लाइन में डीएम करेंगे.उनके साथ पुलिस के अधिकारी व प्रशासन के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे. जबकि जिन जिलों में पुलिस कमिश्नरेट की प्रणाली लागू है,वहां पर कानून व्यवस्था की समीक्षा पुलिस आयुक्त ही करेंगे.

68 जिलों की कानून व्यवस्था की समीक्षा करेंगे डीएम

Read More: Lucknow News In Hindi: शर्मनाक ! पत्नी पर कॉल गर्ल बनने का डालता था पति दबाव, पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

प्रदेश के 7 जिले ऐसे हैं जहां पर पुलिस कमिश्नरेट प्रणाली लागू है जिनमें कानपुर,नोएडा, लखनऊ, वाराणसी, प्रयागराज, आगरा और गाजियाबाद शामिल है.बाकी जिलों में पुरानी व्यवस्था ही चल रही है. यह निर्देश मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा की ओर से दिए गए हैं. यानी 68 जिलों की कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक की जिम्मेदारी डीएम की अध्यक्षता में की जाएगी.पहले पुलिस अधीक्षक थानाध्यक्ष की तैनाती करते थे अबसे उन्हें डीएम की परमिशन लेनी होगी.यहां एसएसपी डीएम की बैठक से पहले कानून व्यवस्था की बैठक कर लें. 7 जिलों में क्योंकि पुलिस कमिश्नरेट लागू है,तो वहां पुलिस आयुक्त की बैठक बुलाने की जिम्मेदारी होगी.और वे ही समीक्षा करेंगे.

Read More: UP Paper Leak News: युवाओं के हित में सीएम योगी का बड़ा फैसला ! सिपाही भर्ती परीक्षा की निरस्त, 6 माह के भीतर दोबारा आयोजित होगी परीक्षा

सीएम डैशबोर्ड में रैंकिंग और ग्रेडिंग की जाएगी

Read More: UP News Hindi: पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक का निधन ! ऐसा रहा उनका राजनीतिक सफर

मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने आदेश जारी करते हुए कहा कि, कानून व्यवस्था और विकास कार्यों की बैठक अलग-अलग की जाए.सभी बैठक की मॉनिटरिंग सीएम डैशबोर्ड में रैंकिंग के आधार पर की जाएगी. दरअसल सरकार समस्त विभागों द्वारा प्रदान की जा रही सेवाओं,योजनाओं और परियोजनाओं को सीएम डैशबोर्ड से सीधे जोड़ रही है. इन सभी सेवाओं और विभागों की योजनाओं को लेकर रैंकिंग और ग्रेडिंग की जाएगी.

बनाए गए नोडल अफसर

विकास कार्यों के लिए जिले के मुख्य विकास अधिकारी सीएम डैशबोर्ड के नोडल अधिकारी होंगे. और कानून व्यवस्था के लिए जिले में अपर पुलिस अधीक्षक और पुलिस उपायुक्त नोडल अफ़सर होंगे. राजस्व संबंधित समीक्षा के लिए अपर जिलाधिकारी वित्त नोडल अधिकारी होंगे. मंडल स्तर पर कानून व्यवस्था की समीक्षा मंडल आयुक्त करेंगे. जिन जिलों में पुलिस कमिश्नरेट प्रणाली लागू है.उन जिलों की कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक प्रदेश स्तर पर गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव और पुलिस महानिदेशक द्वारा हर महीने किया जाएगा.शासन ने यह निर्देश समस्त जिलों के डीएम और पुलिस आयुक्त को भेज दिया है.

 

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Fatehpur Sadar Asptal: मैं मना करती रही और वो हथौड़ी चलाता रहा ! डॉक्टर की करतूत बताते हुए भावुक हो गई सिस्टर इनचार्ज Fatehpur Sadar Asptal: मैं मना करती रही और वो हथौड़ी चलाता रहा ! डॉक्टर की करतूत बताते हुए भावुक हो गई सिस्टर इनचार्ज
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) मेडिकल कॉलेज से संबद्ध सदर अस्पताल के डॉ0 शरद (Dr Sharad) की ऐसी...
Cardiac Arrest: कार्डियक अरेस्ट आने पर नहीं मिलता है जान बचाने का मौका ! इसलिए हो जाइए सचेत
Lucknow News: दूल्हे को नहीं भा रहे थे पण्डित के मंत्र ! फिर बौखलाए दूल्हे ने पुरोहित को जमकर पीटा, फिर हुआ ये
Kanpur Crime In Hindi: एक लाख का इनामिया हिस्ट्रीशीटर अजय ठाकुर को क्राइम ब्रांच ने राजधानी दिल्ली से किया गिरफ्तार
Akhilesh Yadav News: बोले अखिलेश ! चुनाव आते ही नोटिस आने लगते हैं, सीबीआई के सामने नहीं होंगे पेश, जानिये किस मामले में भेजा गया समन?
Kanpur Crime In Hindi: लापता किशोरियों के बेर के पेड़ पर झूलते मिले शव ! परिजनों ने लगाए भट्टे ठेकेदार पर गम्भीर आरोप
Who Is Kanpati Maar Shankariya: कनपटी मार किलर जिसने 25 साल की उम्र में किए 70 कत्ल ! कोर्ट ने पांच महीने में दी फांसी, जानिए उसने मरने से पहले क्या कहा

Follow Us