Makar Sankranti 2024: जीवन में आएगी खुशहाली ! मकर संक्रांति पर बनाये ये खास पारम्परिक व्यंजन, आसान है RECIPE

मकर संक्रांति के पकवान

मकर संक्रांति (Makar Sankranti) का पर्व 15 जनवरी को देश भर में मनाया जाएगा. इस दिन को लेकर हर किसी के मन में यही बात रहती है कि क्या नया व्यंजन ट्राई (Try Dishes) करें. मकर संक्रांति में तिल, गुड़ और मूंगफली का जबतक मेल न हो तबतक यह पर्व अधूरा माना जाता है. इन व्यंजनों का सांस्कृतिक और पारम्परिक महत्व (Traditional Importance) है. इसलिए पुराने और नए तरह के व्यंजन (Dishes)को आप ट्राई रक सकते हैं. इनकी रेसिपी (Recipe) भी आसान है.

Makar Sankranti 2024: जीवन में आएगी खुशहाली ! मकर संक्रांति पर बनाये ये खास पारम्परिक व्यंजन, आसान है RECIPE
मकर संक्रांति पर घर पर बनाएं ये व्यंजन, फोटो साभार सोशल मीडिया

15 जनवरी को मनाई जाएगी मकर संक्रांति, पारम्परिक व्यंजन करें तैयार

सूर्य जब मकर राशि (Capricorn Zodiac) में प्रवेश करते हैं तब मकर संक्रांति (Makar Sankranti) लगती है. 15 जनवरी को यह पर्व देश भर में बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा. लोगों के मन में ऐसे कई सवाल रहते हैं कि इस दिन क्या खास व्यंजन (Dishes) बनाना चाहिए. इन व्यंजनों की क्या परंपरा (Tradition) है और इन सभी व्यंजनों की रेसिपी (Recipe) का क्या नया ट्रेंड चल रहा है. इन सभी जरूरी बातों को इस लेख के जरिये आपतक पहुँचाएंगे. जिससे आपके जीवन में खुशियों की मिठास बनी रहे.

मकर संक्रांति पर इन व्यंजनों का है विशेष महत्व

शास्त्रों में ऐसा बताया गया है कि मकर संक्रांति (Makar Sankranti) का पर्व बिना तिल और गुड़ के व्यर्थ है, इसलिए इस दिन तिल और गुड़ से बने व्यंजनों (Dishes) का इस्तेमाल किया जाता है इसके साथ ही अब गृहणी घर पर ही इन चीजों को बनाना पसंद करती हैं, गुड़ पट्टी, मूंगफली, गुड़ की चिक्की बनाई जाती है कहते है कि, गुड़ और तिल स्वास्थ्य (Better Health) के लिए काफी बेहतर भी माना जाता है क्योकि सर्दियों (Winters) में तिल और गुड़ आपके शरीर को गर्म रखता है. 

तिल के लड्डू और पूरन पोली ऐसे बनाएं

मकर संक्रांति पर तिल-गुड़ के लड्डू (Til Laddu) का बड़ा महत्व है. इन लड्डुओं के बनाने के इन तरीकों को भी जान लें, सबसे पहले तिल को कच्चे या भूनकर गुड़ के साथ खरल में कूट लिया जाता है. जब दोनों सही से मिश्रित (Mixture) हो जाएं, तब हाथ में मिश्रण वाली सामग्री रखकर लड्डू का आकार दें. इसके स्वाद (Taste) को बढ़ाने के लिए इसमें मूंगफली, घी और इलाइची भी मिला सकते है. 

पूरन पोली (Puran Poli) एक मीठी रोटी कह सकते हैं. इसे बनाने के लिए सबसे पहले मैदा और घी (Ghee) लायें फिर दोनों को अच्छे से मिला दें. अब पानी डालकर आटे की तरह इसे गूथ लें. चना-दाल को 20 मिनट तक पानी में पकाएं और इसे छान लें. अब दाल, जायफल, इलायची और गुड़ को 5 मिनट तक पकाएं, आटे की लोई बनाकर बेलें और फिर उसमें दाल वाला मिश्रण भरकर इसे फिर से बेल लें. फिर देसी घी में भूरा होने तक पकाएं लो आपका पूरन पोली (Puran Poli) तैयार हो गया अब लीजिए इसका आनंद. महाराष्ट्र के लोग इसे बड़ा ही चाव से खाते हैं पूरन पोली यह भी एक महाराष्ट्रीयन व्यंजन है यह एक मीठी रोटी की तरह होता है यह व्यंजन खुशी का प्रतीक भी माना जाता है. 

Read More: Mp Harda Factory Blast: पटाखा फैक्ट्री में ज़ोरदार धमाके से लगी भीषण आग से थर्रा उठा हरदा ! आधा दर्जन लोगों के मारे जाने की खबर, कई घायल

मीठा पोंगल और पिन्नी बनाएं

अब बात आती है मीठा पोंगल (Mitha Pongal) की. इसमें चावल व मूंगदाल का प्रयोग करते है. सबसे पहले चावल और मूंगदाल को सूखा भून लें, फिर इन दोनों सामग्रियों को एक पैन में पानी के साथ डालकर लगभग 11 से 12 मिनट तक पकाएं. इसी बीच धीमी आंच पर पानी और गुड़ की चाशनी बनाकर इसमें थोड़ा-सा इलायची पाउडर डालें. लीजिए आपका मीठा पोंगल तैयार हो गया. पिन्नी (Pinni) पंजाब का स्वादिष्ट व्यंजन है. इसे देसी घी, गेहूं का आटा, गुड़ और बादाम से मिलकर बनाया जाता है. पंजाब में लोहड़ी (Lohdi) मनाई जाती है व इसे कई जगह मकर संक्रांति के दौरान तैयार किया जाता है.

Read More: Supreme Court Electoral Bonds: लोकसभा चुनाव के एलान से पहले सरकार को बड़ा झटका ! सुप्रीम कोर्ट ने इलेक्टोरल बांड को असंवैधानिक करार देते हुए लगाई रोक, जानिए क्या है इलेक्टोरल बांड स्कीम?

खिचड़ी और दही चूड़ा, मकराचोला का यहाँ महत्व

यही नहीं इन सभी व्यंजनों के साथ-साथ सबसे आसान और खूब पसंद किए जाने वाली खिचड़ी, पापड़ और दही बड़े साथ लोग बड़े चाव से खाते हुए इस त्योहार को मनाते है.आजकल लोग इसमें हरी सब्जियां भी डाल देते हैं जिससे खिचड़ी का मजा दोगुना हो जाता है. मकर संक्रांति के दिन चावल और उड़द दाल से बनने वाली खिचड़ी, देश के कई हिस्सों में बनाई जाती है लेकिन खासकर उत्तर प्रदेश और बिहार के कुछ हिस्सों में इसे खास तौर पर बनाया जाता है क्योंकि इन राज्यों में संक्रांति के त्योहार को खिचड़ी पर्व भी कहा जाता है.

Read More: Basant Panchami 2024: जानिए देश के इन राज्यों में कैसे मनायी जाती है बसंत पंचमी ! हर जगह का अलग ही महत्व

अब बात बिहार में दही-चूड़ा का विशेष महत्व है, बिहार-झारखंड के लोग संक्रांति के दिन दही-चूड़ा जरूर खाते हैं देश के कई हिस्सों में चूड़ा को चिवड़ा या पोहा (Poha) भी कहा जाता है इसे दही, चीनी या गुड़ के साथ मिलाकर तैयार किया जाता है. तिलवा या तिल के लड्डू भी बिहार-झारखंड की खासियत है, गजक की तरह इसे भी भूने हुए सफेद या काले तिल और गुड़ के मिश्रण का साथ मिक्स करके तैयार किया जाता है फिर इसे लड्डू के आकार में गोल बनाया जाता है।

मकरा चोला अलग तरह का व्यंजन है ये ओडिशा का व्यंजन है. यह लोग मकरा चौला (Makra Chola) तैयार करते हैं. इसे बनाने के लिए चावल के आटे को पीसकर इसमें नारियल को घिसकर मिलाये, फिर इसमें दूध, गन्ने के छोटे-छोटे टुकड़े, पका केला, चीनी, सफेद मिर्च पाउडर, पनीर, घिसा हुआ अदरक और अनार का प्रयोग होता है. संक्रांति के दिन इस व्यंजन का यहां बड़ा ही महत्व है.

मुरक्कू और पीठे चावल की रेसिपी

तमिलनाडू में पोंगल के तौर पर मनाया जाता है और इस दिन मुरक्कु (Murakku) खाने की परंपरा है. उड़द दाल, आटा, अजवायन और तिल को मिलाकर एक आटे जैसा गूंदा जाता है और फिर उसे आकार देकर डीप फ्राई किया जाता है. यह खाने में बेहद कुरकुरा और स्वादिष्ट लगता है.

यह बंगाल की पारम्परिक रेसिपी (Recipe) है जिसे संक्रांति के दिन जरूर बनाया जाता है, पीठे, चावल के आटे से बनने वाला गुलगुला जैसा होता है जिसके अंदर घिसा हुआ नारियल भरा रहता है. इसे फिर दूध, चावल और गुड़ को मिलाकर तैयार की गई खीर जिसे पायेश कहते हैं में मिलाकर उबाला जाता है और फिर यह चावल तैयार हो जाते हैं.

गंगा स्नान और महत्व

मकर संक्रांति के अवसर पर ब्रह्म मुहूर्त पर यदि आप गंगा स्नान करते हैं तो आपको सौंदर्य, बल, विद्या और स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है साथ ही शास्त्रों में लिखा है कि आज के दिन स्नान करने से शरीर के कई कष्ट और बीमारियां भी दूर हो जाती है क्योंकि ब्रह्म मुहूर्त में ही ऋषि मुनि भी स्नान किया करते थे यदि आप सूर्योदय के बाद गंगा स्नान जितनी देरी से करेंगे आपको मिलने वाला फल उतना ही काम हो जाएगा गंगा स्नान से मिलने वाले फल को और भी प्रभावित करने के लिए इन मन्त्रो का उच्चारण भी कर सकते हैं.

गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वति।

नर्मदे सिन्धु कावेरी जलऽस्मिन्सन्निधिं कुरु ।।

ॐ अपवित्रः पवित्रो वा सर्वावस्थां गतोपि वा।

यः स्मरेत् पुण्डरीकाक्षं सः बाह्याभंतरः शुचिः।।

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Shaitaan Movie In Hindi: रोंगटे खड़े कर देने वाली 'शैतान' मूवी का टीज़र हुआ रिलीज ! R Madhvan का ये रूप देख डर गए लोग Shaitaan Movie In Hindi: रोंगटे खड़े कर देने वाली 'शैतान' मूवी का टीज़र हुआ रिलीज ! R Madhvan का ये रूप देख डर गए लोग
डायरेक्टर विकास बहल द्वारा निर्देशित अपकमिंग फिल्म शैतान (Shaitaan) का टीजर रिलीज (Teaser Released) हो चुका है. महज 2 मिनट...
Fatehpur News: फतेहपुर की जेल पहुंचे पुलिस महानिदेशक ! अब बंदी चलाएंगे कंप्यूटर, करेंगे इसकी खेती
Up Police Exam: पुलिस सिपाही भर्ती परीक्षा दोबारा कराए जाने की मांग पर अड़े अभ्यर्थी ! पेपर लीक होने का किया जा रहा दावा
Pm Surya Ghar Muft Bijali Yojana 2024: 300 यूनिट बिजली मिलेगी मुफ्त ! छत पर सोलर पैनल इंस्टाल होने के बाद मिलेगी सब्सिडी, जानिए क्या है पीएम सूर्य घर स्कीम?
Fatehpur News: फतेहपुर में यूपी बोर्ड की मेरिट लिस्ट के लिए अंतर्द्वंद ! सीटिंग प्लान से लेकर कॉपियों में पैसे रखने का बड़ा खेल
Dacoit Seema Parihar: 13 साल की उम्र में चंबल-बीहड़ के ख़तरनाक डाकुओं के चंगुल में आई सीमा परिहार ! कैसे बनी दस्यु सुंदरी? हाथों में चूड़ियों के बजाय पहन लिए हथियार, 30 साल पुराने मामले में हुई सजा
Jaya Kishori: महिला सशक्तिकरण के कार्यक्रम में पहुँची कथावाचक जया किशोरी के साथ बदसलूकी ! सिरफिरा गिरफ्तार

Follow Us