×
विज्ञापन

यूपी में भ्रष्टाचार:डीएम के खिलाफ DM आवास में ही धरने पर बैठे एसडीएम..!

विज्ञापन

यूपी में भ्रष्टाचार किस कदर फ़ैला हुआ है इसका अंदाजा इस मामले से लगाया जा सकता है..पूरी खबर पढ़ें युगान्तर प्रवाह पर...

प्रतापगढ़:यूपी के जिलों में तैनात शीर्ष प्रशासनिक अफ़सरों द्वारा भ्रष्टाचार किए जाने के नित नए मामले प्रकाश में आ रहे हैं।ताज़ा मामला प्रतापगढ़ ज़िले का है।हैरत की बात ये है कि भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाला औऱ कोई नहीं ज़िले का ही एक शीर्ष प्राशसनिक अफ़सर है।Pratapgarh news

ये भी पढ़ें-कृषि बिल के विरोध में किसानों का भारत बन्द.पूरे देश में दिख रहा असर.!

जानकारी के अनुसार प्रतापगढ़ ज़िले में शुक्रवार को उस वक़्त हड़कम्प मच गया जब वहां तैनात एक अतिरिक्त एसडीएम विनीत कुमार ने डीएम व दो एसडीएम पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए अपनी पत्नी सहित डीएम आवास पर ही धरने पर बैठ गए।Pratapgarh dharna news

ये भी पढ़ें-बिकरु कांड:हिंदी फिल्मों के इन खलनायकों से प्रभावित था विकास दुबे..इस डायलॉग को बोल करता था मर्डर.!

एसडीएम के धरने पर बैठने की सूचना से जिला प्रशासन में हड़कम्प मच गया।डीएम रूपेश कुमार सहित अन्य प्रशासनिक अफ़सर एसडीएम की नाराज़गी का कारण जानने का प्रयास करते हुए धरना समाप्ति के लिए मान मनौव्वल करते रहे।Pratapgarh sdm dharna

ये भी पढ़ें-UP:यूपी के दो चर्चित IPS अफ़सरों पर दर्ज हुई एफआईआर..लगें हैं गम्भीर आरोप.!

बताया जा रहा है कि मामला एक विद्यालय की मान्यता से जुड़ा हुआ है।एसडीएम का आरोप है कि जिस ज़मीन का पट्टा कराकर विद्यालय की मान्यता ली गई है वहाँ कोई विद्यालय ही नहीं है।विद्यालय किसी दूसरी जगह संचालित हो रहा है।इस मामले की जांच अतिरिक्त एसडीएम विनीत कुमार द्वारा की गई थी उनकी जाँच रिपोर्ट में पूरा खुलासा हुआ था।लेकिन डीएम ने एसडीएम की रिपोर्ट को न तो शासन में भेजा न ही ही इस पर कार्यवाही की।और पूरे मामले की फाइल दबा दी।इसी बात को लेकर एसडीएम ने डीएम आवास पर धरना दे दिया।Pratapgarh dm rupesh kumar

ये भी पढ़ें-बिकरु कांड:विकास दुबे की दस बीघे ज़मीन पर कब्ज़ा कर बो दी धान की फ़सल..प्रशासन के होश उड़े.!

पीसीएस अधिकारी विनीत उपाध्याय ने डीएम डॉ.रुपेश कुमार पर फाइलें दबाने का गंभीर आरोप लगाया है। विनीत उपाध्याय का आरोप है कि एसडीएम सदर, एडीएम वित्त तथा डीएम डॉ. रुपेश कुमार ने मिलकर भ्रष्टाचार किया है। 
हालांकि क़रीब चार घण्टे बाद डीएम के आश्वासन के बाद धरना समाप्त हुआ।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।