oak public school

History Of Bhutiya Bhangarh Kila: भानगढ़ किला भारत का सबसे हांटेड प्लेस ! जहाँ शाम होने के बाद नहीं मिलता प्रवेश, क्योंकि रात में सजती है भूतों की महफ़िल

भानगढ़ किले का इतिहास

हम सभी अक्सर बचपन से भूत-प्रेत की कहानियां (Horror Stories) और किस्से सुनते आ रहे है. लेकिन इन पर कुछ लोग यकीन करते है तो कुछ लोग इसे केवल एकमात्र इत्तेफाक का नाम देते है. देश भर के तमाम शहरों और गांवों में कुछ ऐसे भी स्थान है जिन्हें हॉन्टेड प्लेस का नाम दिया गया. ये जगह आपके गांव या शहर में भी हो सकती है यकीन करना या न करना ये आपके ऊपर है. आज हम आपको देश के एक ऐसे किले के बारे में बताने जा रहे है जिसमे कहा जाता है कि वहां पर भूतों का साया है. ये किला राजस्थान के अलवर जिले में स्थित भानगढ़ का किला (Bhangarh Fort) है.

History Of Bhutiya Bhangarh Kila: भानगढ़ किला भारत का सबसे हांटेड प्लेस ! जहाँ शाम होने के बाद नहीं मिलता प्रवेश, क्योंकि रात में सजती है भूतों की महफ़िल
भानगढ़ किला, image credit original source

देश का सबसे डरावना भानगढ़ किला

आगे बढ़ने से पहले यदि आप जरा कमजोर दिल वाले है तो यही से स्किप कर सकते है और यदि आपको ऐसी ही एडवेंचर पसंद है तो बने रहिये हमारे साथ. देश की राजधानी दिल्ली से तकरीबन 280 किलोमीटर दूर अलवर जिले में स्थित भानगढ़ का किला (Bhangarh Fort) तीनों ओर से पहाड़ियों से घिरे इस किले को लेकर कई डरावनी कहानियां प्रचलित है. जिसे सुनकर एक बार के लिए तो बड़े से बड़ा योद्धा भी डर जाता है तो वहीं इस डर को महसूस करने के लिए कुछ लोग यहाँ तक दौड़े चले आते है इस किले की बनावट पर अगर ध्यान दिया जाए तो देखकर ही बड़ा अजीब लगता है.

क्योंकि किले में बने घरों में छत ही नहीं है तो वहीं मन्दिर में देवी-देवताओं की एक भी मूर्ति नहीं जिसे देखकर अचम्भा होने के साथ साथ एक डर का भी एहसास होता है. यही कारण है कि इसे शापित किला भी कहा जाता है क्योंकि बहुत समय ओहले एक ऋषि के श्राप के चलते ये खूबसूरत किला खण्डहर में तब्दील हो गया कहा जाता है कि श्राप लगने के बाद से ही यहाँ पर भूत-प्रेतों का डेरा जम गया इसीलिए इस किले में सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद किसी का भी प्रवेश पूरी तरह से वर्जित है, हालांकि ये अमूल्य धरोधर अब पुरातत्व विभाग के अधीन है.

haunted_story_of_bhangarh_fort_know_the_history
भानगढ़ किला का इतिहास, image credit original source

इस किले से जुड़ी कहानियां

इतिहासकारो की माने तो इस किले का निर्माण आमेर के राजा भगवत दास के द्वारा अपने छोटे बेटे माधो सिंह प्रथम के लिए साल 1573 में कराया गया था ऐसा बताया जाता है कि जब इस किले का निर्माण करवाया जा रहा था उस दौरान एक तपस्वी भी वहां पर रहता था उस वक्त उसने राजा भगवत दास को चेतावनी देते हुए कहा था कि उनके महल की परछाई उसके घर पर न पड़े लेकिन राजा ने उसकी इस बात को नजरअंदाज करते हुए इस महल का निर्माण कराया जिसकी परछाई से उसका घर ढक गया फिर क्या था? तपस्वी ने राजा को श्राप दे दिया.

horror_bhangarh_fort_history
भानगढ़ किला, image credit original source
तांत्रिक की प्रेम कहानी, दिया श्राप

वही इस किले से जुड़ी एक और कहानी भी प्रचलित है कहा जाता है कि इस महल में रहने वाली राजकुमारी से एक तांत्रिक एक तरफा प्यार करता था वह हर रोज राजकुमारी रत्नावती को देखकर मन ही मन खुश होता है और उसे अपना बनाना चाहता था राजकुमारी को पाने के लिए उसने वह खड़यंत्र रचने लगा लेकिन इससे पहले ही ये खबर राजा तक पहुँच गयी जिसके बाद गुस्साए राजा ने सजा के तौर पर उस तांत्रिक की हत्या करवा दी लेकिन मरते-मरते उस तांत्रिक ने श्राप देते हुए कहा कि ये महल कुछ ही समय मे खँडहर में तब्दील हो जाएगा. फिर देखते ही देखते ये खूबसूरत महल खँडहर में तब्दील हो गया.

Read More: Haryana Bhopal Singh News: हरियाणा HSSC चेयरमैन भोपाल सिंह ने दिया इस्तीफा

सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद प्रवेश वर्जित

हॉन्टेड प्लेस होने की वजह से यह लोगों के एडवेंचर का एक हिस्सा भी है. शायद इसीलिए इस डर को एहसास करने के लिए देश की नहीं दुनिया भर से हजारो पर्यटक यहां पहुँचते है.

Read More: How to Add Name In Voter List In UP: वोट डालने के लिए कैसे घर बैठे करवा सकते हैं मतदाता सूची में अपना नाम शामिल ! कैसे वोटर आईडी में करें करेक्शन

यदि आप भी इस किले को देखने के लिए जा रहे हैं तो जरा सावधान हो जाए और पुरातत्व विभाग द्वारा नोटिस पर जरूर ध्यान दें. जिसके मुताबिक सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद प्रवेश पर पूरी तरह से रोक है ऐसा बताया जाता है सूर्यास्त के बाद यहां पर भूतिया शक्ति हावी हो जाती है. रोज रात में यहाँ पर नाच-गाना होता है यही नहीं यदि इस किले की दीवारों पर कान लगाया जाए तो अजीब-अजीब तरह के लोगो के रोने की आवाजें आती है यही वजह है कि यहाँ इस गांव में रहने वाले लोग तो इस किले से जुड़ी किसी भी तरह की बात करने से ही कतराते है.

Read More: Anand Mahindra Truck Driver Rajesh: ट्रक ड्राइवर की प्रतिभा से प्रभावित हुए उद्योगपति आनंद महिंद्रा ! इस टैलेंट को किया प्रमोट

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

UP Board Result 2024 Intermediate Topper: यूपी बोर्ड की इंटरमीडिएट परीक्षा में सीतापुर के शुभम वर्मा टॉपर ! फतेहपुर को मिला तीसरा स्थान UP Board Result 2024 Intermediate Topper: यूपी बोर्ड की इंटरमीडिएट परीक्षा में सीतापुर के शुभम वर्मा टॉपर ! फतेहपुर को मिला तीसरा स्थान
उत्तर प्रदेश बोर्ड (UP Board) साल 2024 का इंटरमीडिएट परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया गया है. सीतापुर (Sitapur) के शुभम...
UP Board Result 2024 High School Topper: यूपी बोर्ड हाईस्कूल की परीक्षा में ये रहे टॉपर ! फतेहपुर में इन्होंने मारी बाजी
Fatehpur Local News: मौत बांट रहे हैं फतेहपुर के नर्सिंग होम ! धृतराष्ट्र बना स्वास्थ्य विभाग
Fatehpur UP News: फतेहपुर में पकड़ा गया अंतर्जनपदीय टप्पेबाज गैंग ! काली बुलेरो से ज्वैलरी शॉप को करते थे टार्गेट
Fatehpur News: जब निषादराज के लिए करुणा निधान बन उठ गए सहस्त्र हांथ ! विलख रहे पिता के नेत्र से निकल रही थी अविरल धारा
Google Pixel 8 A Smartphone: गूगल पिक्सल लवर्स के लिए खुशखबरी ! अगले महीने फीचर्स से भरपूर, लॉन्च हो सकता है यह नया स्मार्टफोन
Upsc Vishal Dubey Success Story: हवलदार पिता का सपना पूरा कर बेटा बनेगा आईपीएस अफसर

Follow Us