oak public school

Sawan Sampat Shanivaar: संपत शनिवार के दिन शनि की पूजा से बन जाएंगे बिगड़े काम शिव विष्णु और शनि की कृपा बरसेगी.ऐसे करें पूजा

सावन (sawan) का महीना भगवान शिव की आराधना के लिए विशेष महत्व रखता है.इस महीने में पड़ने वाले शनिवार को संपत शनिवार (Sampat shanivaar) कहा जाता जिसका बहुत ही बड़ा महत्व है.इस दिन शनि देव की पूजा करने से भगवान शिव (Shiv) भगवान विष्णु (Vishnu) के साथ-साथ शनिदेव (Shanidev) की विशेष कृपा मिलती हैं. आइए जानते हैं की श्रावण मास के शनिवार का आख़िर इतना महत्व क्यों हैं? (Importance of Sampat Shanivar in savan Puja Katha worship Upaye Sawan Puja Kab Hai)

Sawan Sampat Shanivaar: संपत शनिवार के दिन शनि की पूजा से बन जाएंगे बिगड़े काम शिव विष्णु और शनि की कृपा बरसेगी.ऐसे करें पूजा
प्रतीकात्मक फोटो

हाईलाइट्स

  • सावन के शनिवार का विशेष महत्व है इनको संपत शनिवार के नाम से जाना जाता है
  • संपत शनिवार में शनि की पूजा करने से शिव और शनि की कृपा मिलती है
  • संपत शनिवार में शनि की पूजा से शनि की साढ़ेसाती और महादशा में लाभ मिलता है

Sampat Shanivaar: सावन का महीना भगवान शिव का महीना कहा जाता है.सावन के सोमवार का भी बड़ा महत्व है।पूरे सावन भर शिव मंदिरों में पूजा दर्शन के लिए भारी भीड़ उमड़ती है ख़ासकर सोमवार के दिन विशेष रूप से भगवान शंकर का दर्शन, पूजन औऱ उपासना श्रद्धालुओं द्वारा की जाती है.लेकिन ज्योतिष औऱ अध्यात्म के जानकार बताते हैं कि सोमवार के अलावा सावन के शनिवार भी बहुत महत्व रखते हैं.इस महीने के शनिवार को संपत शनिवार (Sampat Shanivaar) के रूप में जाना जाता है. इस महीने शनि देव (Shanidev)  की पूजा औऱ उपासना करने से भगवान शिव और भगवान विष्णु के साथ-साथ शनिदेव की कृपा बरसने लगती है जिससे सभी तरह की समस्याओं से छुटकारा मिलता है.(Sampat Shanivaar Importance Puja Vidhi Upaye Katha Sawan Puja Kab Hai)

कहते हैं कि सावन का महीना जल तत्व का महीना होता है और इसमें वायु तत्व की कमी हो जाती है.इस वजह से मन, पाचन तंत्र और स्नायु तंत्र की समस्याएं लगातार व्यक्ति को परेशान करती रहती हैं.वायु तत्व और उसके स्वामी शनि को मजबूत करके हम स्वास्थ्य और मन की समस्याओं से मुक्ति पा सकते हैं.

क्या करें औऱ कैसे करें..

सावन के हर शनिवार को उपासना करने से व्यक्ति को अपार धन और संपत्ति की प्राप्ति हो सकती है.इसलिए सावन के हर शनिवार को संपत शनिवार ( Sampat Shanivaar) भी कहते हैं.कहा जाता है कि अगर शनि के लिए केवल सावन में उपासना की जाए तो वर्ष भर शनि की उपासना की जरूरत नहीं पड़ती है.शनिवार को सायंकाल पीपल के वृक्ष के निकट जाएं वहां पर एक सरसों के तेल का बड़ा सा दीपक जलाएं,पहले शिव जी के मंत्रों का जाप करें,फिर शनिदेव के मंत्रों का जाप करें,इसके बाद किसी निर्धन व्यक्ति को भोजन कराएं या भोजन करने के लिए धन दें,शिव जी और शनिदेव से कृपा करने की प्रार्थना करें।

Read More: Ram Lala Darshan: रघुनंदन राघव राम हरे ! करिए राम लला के प्रथम दर्शन, जानिए उनकी प्रतिमा की विशेषता

इसके साथ ही शनिवार की शाम को नीम की लकड़ी पर काले तिल से "ॐ शं शनैश्चराय स्वाहा" मंत्र बोलते हुए 108 बार आहुति देकर हवन करें. हवन के बाद काली चीज़ों का दान करें.(Sampat Shanivaar Importance Puja Vidhi Upaye Katha worship Sawan Puja Kab Hai)

Read More: Paush Putrada Ekadashi 2024: कब है पौष पुत्रदा एकादशी ! इस व्रत का क्या है महत्व, नोट कर लें तारीख़, मुहूर्त और पूजा विधि

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Fatehpur Shikha Tripathi: फतेहपुर के नलकूप ऑपरेटर की बेटी शिखा त्रिपाठी बनी वैज्ञानिक ! गरीबी नहीं रोक पाई हौसले की उड़ान Fatehpur Shikha Tripathi: फतेहपुर के नलकूप ऑपरेटर की बेटी शिखा त्रिपाठी बनी वैज्ञानिक ! गरीबी नहीं रोक पाई हौसले की उड़ान
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) अमौली विकास खंड के कुलखेड़ा गांव की रहने वाली शिखा त्रिपाठी ने रक्षा...
Kanpur Crime In Hindi: लग्जरी होटल के कमरे में चल रहा था सट्टे का बड़ा खेल ! विदेश से कौन कर रहा था इन्हें फंडिंग, पुलिस ने भंडाफोड़ करते हुए 3 को किया गिरफ्तार
Lsd 2 Trailer Released: बोल्डनेस के तड़के के साथ लव, सेक्स और धोखा 2 का ट्रेलर हुआ रिलीज ! पहली बार ट्रांसजेंडर मुख्य भूमिका में आएंगी नजर
Vishu Kya Hota Hai: विशु क्या होता है ? मलयाली इसे नववर्ष के रूप में क्यों मनाते हैं, श्री कृष्ण से जुड़ी है आस्था
Haryana Crime In Hindi: ठेके के सेल्समैन से उधार मांग रहा था शराब ! फिर छिड़ा विवाद, सेल्समैन के साथी ने मार दी गोली
Mirzapur Vindhyavasini Temple: क्या है मां विंध्यवासिनी मंदिर और अष्टभुजा कालीखोह मन्दिर का इतिहास ! जानिए पौराणिक मान्यताओं के पीछे की कहानी
Fatehpur AI Voice call Scam: मैं तुम्हारा जीजा बोल रहा हूं ! 16 हज़ार भेज दो, जानिए ठगी का नया तरीका

Follow Us