×
विज्ञापन

Fatehpur News: फ़तेहपुर पंचायत चुनाव के लिए यही रात अंतिम यही रात भारी।

विज्ञापन

फतेहपुर(Fatehpur News)में होने वाले पंचायत चुनाव के लिए अब कुछ ही घण्टों का समय बचा है।क्षेत्र पंचायत, जिला पंचायत और ग्राम प्रधान के प्रत्याशियों के गठजोड़ का अंतिम दौर का समय चल रहा है। 26 अप्रैल के दिन होने वाले मतदान में आख़िर ऊंट किस करवट बैठेगा यह आज की अंतिम रात तय करेगी।पढ़ें युगान्तर प्रवाह की एक रिपोर्ट..(Fatehpur Panchayat Chunav News)

Fatehpur Panchayat Chunav News: यूपी में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तीसरे चरण का मतदान 26 अप्रैल को सुबह 7 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक होगा। 3 करोड़ 5 लाख 71 हज़ार 6 सौ 13 मतदाता 49 हज़ार 7 सौ 89 पोलिंग बूथों पर अपना मतदान करेंगे। अमेठी,उन्नाव,औरय्या, कानपुर देहात,कासगंज,चंदौली, जालौन, देवरिया, पीलीभीत, फिरोजाबाद,बलरामपुर, बलिया,बाराबंकी, मुरादाबाद, मेरठ, मिर्जापुर, शामली,सिद्धार्थनगर,हमीरपुर सहित फ़तेहपुर में वोटिंग की जानी है।

ये भी पढ़ें- Fatehpur News: प्रत्याशियों की मृत्यु पर चुनाव हुआ रद्द.तैयारी पूरी पोलिंग पार्टी कल होंगी रवाना।

विज्ञापन
विज्ञापन

बीस जनपदों में होने वाले चुनाव में 748 जिला पंचायत सदस्यों 18530 क्षेत्र पंचायत और 180473 ग्राम प्रधान का चुनाव होगा।(Fatehpur Panchayat Chunav News)

क्या है फ़तेहपुर जिले की राजनीति.?

पंचायत चुनाव को लेकर प्रचार शनिवार को बंद हो चुका है।लेकिन फुटकर और टेलीफोनिक वार्ताएं अभी भी जारी हैं।जिला पंचायत सदस्यों के चुनाव में जहां एक ओर भाजपा के कुछ प्रत्याशियों का चुनाव बेहतर है तो वहीं भाजपा से बाग़ी कुछ प्रत्याशी अपना अच्छा प्रदर्शन कर रहें हैं। कुछ क्षेत्रों में कांग्रेस, सपा और बसपा से समर्थित प्रत्याशी भी भाजपा समर्थितों को कड़ी टक्कर दे रहें हैं। (Fatehpur Panchayat Chunav News)

सबसे कठिन राजनीति है ग्राम प्रधान का पद..

पंचायत चुनाव में सबसे कठिन राजनीति ग्राम प्रधान पद की मानी जाती है। 834 पदों पर ग्राम प्रधान पद के उम्मीदवारों ने साम दाम दंड भेज की राजनीति से अपने अपने मतदाताओं को अपने पक्ष में करने का भरसक प्रयास कर रहें हैं। मतदान की दो अंतिम रातें क्षेत्रीय लोगों के लिए अति महत्वपूर्ण भूमिका अदा करतीं हैं जिसमें राजनीति की विसात में मतदाताओं की स्थित की विवेचना की जाती है। कौन सा मतदाता किस विसात पर बैठेगा और किससे उसे मत दी जाए। चुनाव के इस अंतिम युद्व में रामानन्द सागर की रामायण का वो गीत याद आता है जो राम रावण के युद्ध की अंतिम रात्रि का था। "यही रात अंतिम यही रात भारी।"(Fatehpur Panchayat Chunav News)


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।