×
विज्ञापन

कोरोना:शादी के दो दिनों बाद हुई दूल्हे की मौत से मचा हड़कम्प..समारोह से जुड़े 111 लोग अब तक संक्रमित..!

विज्ञापन

शादियों में जुट रही भारी भीड़ किस क़दर कोरोना के संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसका ताज़ा उदाहरण बिहार में घटी एक घटना है..क्या है पूरा मामला पढ़े युगान्तर प्रवाह की इस रिपोर्ट में..

डेस्क:कोरोना का नया ब्लास्ट बिहार से सामने आया है।यहाँ एक शादी समारोह में शामिल हुए या शामिल हुए लोगों के सम्पर्क में आने से अब तक 111 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पाज़िटिव आ चुकी है।यह आँकड़ा अभी बढ़ेगा क्योंकि कई लोगों की अभी रिपोर्ट आनी शेष है और पूरी चेन का पता लगाकर सबके सैंपल लगातार भेजे जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें-UP:फर्रुखाबाद के सरकारी अस्पताल में घुसकर गुंडों ने की तोड़फोड़..स्वास्थ्यकर्मी को पीटा..!

दरअसल ये पूरा मामला पटना ज़िले के पालीगंज में हुई एक शादी समारोह का है।बीबीसी हिंदी की एक रिपोर्ट के अनुसार यह शादी 15 जून को थी।शादी में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए थे।सब कुछ सही सलामत निपट गया था।लेकिन शादी के दो दिनों बाद यानी 17 जून को अचानक इस शादी के दूल्हे की मौत हो गई।इसके बाद यह चर्चा पूरे इलाके में फैल गई कि दूल्हे की मौत कोरोना से हुई है।और फिर उस शादी में शामिल हुए लोगों के बीच हड़कम्प मच गया।लोगों ने डर कर ख़ुद से फ़ोन करके मेडिकल टीम बुलवाई।पहले चरण में नौ संक्रमित मिले।फिर 22 जून को 15 और लोगों की रिपोर्ट पॉज़िटिव आई। इसके बाद प्रशासन हरकत में आया और इलाक़े को कंटेनमेंट ज़ोन घोषित कर दिया गया।और सभी की स्क्रीनिंग होने लगी।अब आंकड़ा 111 पहुंच चुका है।कईयों की जाँच होनी बाक़ी है और अभी कई लोगों की रिपोर्ट आनी भी शेष है।हो सकता है कोरोना संक्रमितों का यह आंकड़ा अभी और बढ़ें।

दूल्हे के पिता भी कोरोना संक्रमित..

दूल्हे की अचानक मौत के बाद से इलाके में तरह तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म हुआ।चूंकि दूल्हा गुड़गांव में इंजीनियर था।अपनी शादी के लिए ही 23 मई को कार से यहां आया था। शादी तो ठीक से हो ही चुकी थी।लेकिन जैसे ही दूल्हे की मौत हुई इलाक़े में इस बात की हवा चलने लगी कि दूल्हा कोरोना से मर गया।लोग तरह-तरह की बातें करने लगे।किसी ने कहा कि लड़के की तबीयत ख़राब रहती थी, कोई कह रहा था वे लोग झाड़-फूंक करा रहे थे।

ये भी पढ़े-UP:कांग्रेसियों पर लाठीचार्ज..प्रदेश अध्यक्ष फिर हुए गिरफ्तार..!

अपने बेटे की मौत से दुःखी उसके पिता कहते हैं कि-"मेरा बेटा एकदम स्वस्थ था।गुड़गांव में उसने अपनी जाँच कराई थी। कार से दो भाई और बहन-बच्चों के संग छह लोग आए थे।सभी ने हमारे घर के सबसे ऊपरी तल्ले पर 14 दिनों तक क्वारंटीन का वक़्त बिताया था।वह छह जून से हमलोगों के साथ रहने लगा था क्योंकि आठ जून को उसका तिलक था"।

ये भी पढ़े-कोरोना:दिवंगत वरिष्ठ सपा नेता के पुत्र की कोरोना से मौत..सपाइयों में शोक की लहर..!

पिता आगे कहते हैं, "लोग मुझ पर कलंक लगा रहे हैं। मैंने अस्पताल प्रबंधन से दो बार बात की उसकी मेडिकल रिपोर्ट के लिए लेकिन तबतक तैयार नहीं हुई थी।इस दौरान मेरी भी जाँच कराई गई तो रिपोर्ट पॉज़िटिव आ गई।फिर जा नहीं सका रिपोर्ट लेने के लिए क्योंकि 23 जून से मुझे भी इस आइसेलेशन सेंटर में रख दिया गया है।"

यहाँ यह स्पष्ट कर दे कि अब तक इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है कि दूल्हे की मौत किन कारणों से हुई है।उसे कथित तौर पर पेट दर्द की शिकायत के बाद परिजन अस्पताल लेकर पहुँचे थे।लेकिन अस्पताल पहुँचने पर उसकी मौत हो चुकी थी।

ये भी पढ़े-फतेहपुर:ईंट भट्ठे में बंधक बनाए गए बिहार प्रान्त के मजदूर..ठेकेदार ने एसपी से लगाई मदद की गुहार.!

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव के बीच जमकर शादी समारोहों का आयोजन हो रहा है।लॉकडाउन में तो शादियां थमी रहीं।हुई भी तो बहुत गिनी चुनी और उसमें भी नियमों के सख़्त होने के चलते एकदम सादगीपूर्ण।लेकिन अनलॉक-1 के बाद 8 जून से 50 मेहमानों समेत शादियों के आयोजन की अनुमित दे दी गई।फिर क्या था छुप-छुपाकर ही सही लेकिन ज्यादातर जगहों पर शादियां पहले की तरह होने लगीं।50 की अनुमति के नाम पर शादी समारोहों में पहले जैसे ही भीड़ जुट रही है।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।