Eid-Ul-Fitr Ka Matlab Kya Hai: ईद क्यों मनाई जाती है? त्याग और समर्पण से क्यों जोड़ा जाता है

पवित्र रमजान माह (Holy Month of Ramadan) अंतिम पड़ाव पर है और शव्वाल (Shavval) की पहली तारीख ईद-उल-फितर (Id-ul-fitra) के रूप में मनाया जाता है. मुस्लिम धर्म मे ईद का पर्व, आपसी भाईचारे, प्रेम, त्याग और समर्पण का प्रतीक माना जाता है. चांद नजर आते ही ईद के पर्व का ऐलान किया जाता है. इस बार 11 अप्रैल को ईद का पर्व मनाया जाएगा. इस दिन सुबह की नमाज पढ़कर लोग घर में मिष्ठान, सेवइयां बनाते हैं इसके साथ ही एक दूसरे को गले मिलकर ईद की बधाइयां भी देते हैं. चलिए इस आर्टिकल के जरिए आपको बताएंगे ईद क्यों मनाई जाती है.

Eid-Ul-Fitr Ka Matlab Kya Hai: ईद क्यों मनाई जाती है? त्याग और समर्पण से क्यों जोड़ा जाता है
ईद-उल-फितर, image credit original source

शव्वाल की पहली तारीख को मनाई जाती है ईद

रमजान (Ramadan) का पवित्र महीना अंतिम पड़ाव (The Last Stop) पर है. रमजान में इस्लाम धर्म के लोग अल्लाह की इबादत करते हैं. इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार रमजान का नवां महीना बहुत पवित्र (Holy Month) माना गया है. दसवें महीने के शव्वाल के चांद वाली रात ईद (Eid) की रात कही जाती है इस ईद को मीठी ईद (Mithi eid) भी बोला जाता है, तो वही ईद-उल-फितर भी कहा जाता है. इस बार ईद-उल-फितर (Eid-ul-Fitr) का पर्व 11 अप्रैल को मनाया जाएगा यानी 10 अप्रैल की रात को चांद देखने के बाद ईद का ऐलान कर दिया जाएगा.

मुस्लिम धर्म में ईद का पर्व खुशी का प्रतीक माना गया है. इसके साथ ही आपसी भाईचारे व सौहार्दपूर्ण तरीके से इस्लाम धर्म के लोग ईद मनाते हैं ईद का पावन पर्व त्याग और समर्पण का भी प्रतीक है. सऊदी अरब समेत कुछ देशो में 10 अप्रैल को तो भारत में 11 अप्रैल को ईद मनाई जाएगी. भारत मे रमजान का माह सऊदी से एक दिन बाद शुरू हुआ माना जाता है.

अल्लाह की इबादत करने वाला पवित्र महीना

रमजान का महीना जो इस्लाम धर्म में सबसे पाक और पवित्र महीना (Holy Month Of Ramadan) माना जाता है इसमें लोग रोजे रखते हैं और लोग अल्लाह की इबादत (Worship Of Allah) करते हैं. यही नहीं परवरदिगार का शुक्रिया भी करते है कि आपने इतने दिन रोजे रखने की आपने ताकत (Power) दी जिसे हम कर पाए. इसके साथ ही इस माह में रोजे रखने को फर्ज नाम से भी जाना जाता है. रमजान के आखिरी दिन दसवें महीने के शव्वाल की पहली तारीख को ईद मनाई जाती है.

eid_festival_celebrations_news
ईद, image credit original source
ईद-उल-फितर भी कहा जाता है

रमजान के अंतिम दिन अल्लाह (Allah) एक दिन अपने बंदों को बख्शीश और इनाम देते हैं, जिसे ईद और ईद-उल-फितर भी कहते हैं. ईद में जकात के रूप में जरूरतमंदों को दान दिया जाता हैं. जकात का अर्थ है किसी जरूरतमंद को दान देना. यह दान दो किलोग्राम कोई भी प्रतिदिन खाने की चीज़ का हो सकता है, जैसे आटा, या फिर उन दो किलोग्रामों का मूल्य भी, यह ज़कात ईद की नमाज़ से पहले ग़रीबों में बाँटा जाता है.

Read More: Congress Released Manifesto: कांग्रेस का 5 न्याय-25 गांरटी वाला घोषणा पत्र जारी ! जानिए घोषणा पत्र की बड़ी बातें

क्यों मनाई जाती है ईद?

इस्लाम धर्म में पहली बार ईद-उल-फितर पैगंबर मोहम्मद (Paigambar Mohammad) जंग-ए-बदर के रूप में मनाया गया था. तब से यह परंपरा ईद मनाने की चली आ रही है. सन् 624 ईस्वी में पैगंबर हजरत मोहम्मद ने निहत्थी सेना के साथ बद्र के युद्ध में जीत हासिल की थी. उनके साथ निहत्थे लोग थे फिर भी वह जीते. विजयी होने की खुशी में इस दिन को ईद के त्योहार के रूप में याद करते हुए खुशियां मनाई जाती है. इस जीत के बाद एकदूसरे को मिठाईयां खिलाई गई तबसे इसे मीठी ईद भी कहा जाने लगा.

Read More: ECI Halts Delivery Viksit Bharat: चुनाव आयोग सरकार पर हुआ सख्त ! कहा व्हाट्सएप पर 'विकसित भारत' के मैसेज शेयर करना कर दें बंद

वैसे ईद एक अरबी शब्द है जिसे खुशी के पर्व के रूप में जाना जाता है. यानि वह खुशी का दिन जो बार-बार आए. इसके अलावा, ईद को प्रेम का त्योहार भी कहते हैं, क्योंकि इस दिन सभी गिले शिकवे भुलाकर नमाज में नमाज़ी सभी की सलामती की दुआएं करते है. सभी मुस्लिम लोग आपस में गले मिलते हैं और अपनी सारी नाराजगी दूर करते हैं. ईद के दिन सुबह इस्लाम धर्म के लोग स्नान कर मस्जिदों में सुबह की नमाज अदा करने से पहले जकात देते हैं.

Read More: Kerala Elephants Arattupuzha Video: केरल में मेले के दौरान भिड़ गए आपस में दो हाथी ! मेले में मची भगदड़, वीडियो हुआ वायरल

sweet_dishes_sevai_eid
मीठी सेवइयां, image credit original source
विशेष पकवान बनाये जाते हैं

ईद खुशियों का पर्व है इस दिन मुस्लिम धर्म के लोग नए कपड़े पहनते हैं इत्र लगाकर पुरुष मस्जिद में जाकर नमाज पढ़ते हैं और आपसी सौहार्द व भाईचारे को लेकर दुआएं भी करते हैं. इसके साथ ही घरों में विशेष प्रकार के पकवान भी बनाए जाते हैं. जिसमें ईद में खासतौर पर मीठी सेवइयां (Sweet Sevai) जिसे सभी पसंद करते हैं इसके साथ ही अन्य पकवान भी इस दिन बनाए जाते हैं. सेवइयां इसलिए क्योंकि रिश्तों में मिठास बनी रहे. इस दिन मुस्लिम लोग अपने रिश्तेदारो को दावत पर आमंत्रित करते हैं. बच्चों को ईदी देते हैं और ईद की बधाई भी देते हैं.

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Deoria Crime News: पुलिस चौकी में युवक की बेहरमी से पिटाई ! खून की उल्टियां करने के बाद हो गयी मौत, दरोगा पर आरोप दर्ज किया गया मुकदमा Deoria Crime News: पुलिस चौकी में युवक की बेहरमी से पिटाई ! खून की उल्टियां करने के बाद हो गयी मौत, दरोगा पर आरोप दर्ज किया गया मुकदमा
यूपी (Up) के देवरिया (Deoria) में पुलिस कर्मियों ने एक युवक को इतनी बेरहमी से पीटा कि वह खून की...
Kannauj Crime In Hindi: 17 वर्षीय लड़की ने बॉयफ्रेंड के साथ मिलकर पिता की कर डाली निर्मम हत्या ! घर के बाकी सदस्य भी थे निशाने पर
Kanpur Crime In Hindi: बदले की आग में जल रहे सास-ससुर ने बेटी को बनाया विधवा ! हत्या की ऐसी खौफ़नाक कहानी किसी वेब सीरीज से कम नहीं
Farukhabad Crime In Hindi: दोस्तों के साथ मिलकर कलयुगी पिता नाबालिग बेटी से करता रहा गैंगरेप ! कोर्ट ने सुनाया अपना फैसला
Motorola Edge 50 Fusion: 22 मई को लांच होने जा रहा मोटोरोला का यह किलर फोन ! फीचर्स और परफॉर्मेंस है लाजवाब
Tips To Manage Sugar Level : मधुमेह रोगियों को नुकसान पहुंचा सकती है ये गर्मी ! ऐसे करें कंट्रोल और बचाव
Fatehpur Lok Sabha Voting 2024: फतेहपुर में फंस गया चुनाव ! आपसी अंतर्द्वंद्व ने कम कर दिया जीत का आंकड़ा, सवर्ण मतदाता हुआ निर्णायक

Follow Us