oak public school

जयंती:पुलिस वाले से लाठी छीन जब दंगाइयो को नेहरू ने खुद दौड़ाया..!

बुधवार को देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की जयंती है, इस मौके पर युगान्तर प्रवाह लाया है अपने पाठकों के लिए नेहरू के जीवन से जुड़े कुछ किस्से...

जयंती:पुलिस वाले से लाठी छीन जब दंगाइयो को नेहरू ने खुद दौड़ाया..!
फाइल फोटो-जवाहर लाल नेहरु


दिल्ली: बात सन् 1947 की है हमें वर्षों की गुलामी के बाद आजादी तो मिली,पर उसके साथ मिला 1947 का वो विभाजनकारी काला अध्याय,चारो तरफ़ हत्या,लूट,चीख़ पुकार मची हुई थी,इसी बीच नेहरू को सूचना मिली कि दिल्ली के कनॉट प्लेस इलाके में कुछ मुसलमानो की दुकानें लूटी जा रहीं हैं,जब नेहरू वहाँ पहुंचे तो उन्होंने देखा कि पुलिस तो खड़ी तमाशा देख रही है और हिंदू और सिख दंगाई मुसलमानों की दुकान से औरतों के हैंडबैग, कॉस्मेटिक्स और मफ़लर ले कर भाग रहे हैं. नेहरू को इतना गुस्सा या कि उन्होंने पास खड़े एक सुस्त पुलिस वाले के हाथों से लाठी छीन कर दंगाइयों को दौड़ा लिया. बात यहीं ख़त्म नहीं हुई.

पूर्व आईसीएस अधिकारी और कई देशों में भारत के राजदूत रहे बदरुद्दीन तैयबजी अपनी आत्मकथा 'मेमॉएर्स ऑफ़ एन इगोइस्ट' में लिखते हैं, "एक रात मैंने नेहरू के घर पहुंच कर उन्हें बताया कि पुरानी दिल्ली से शरणार्थी शिविर पहुंचने की कोशिश कर रहे मुसलमानों को मिंटो ब्रिज के आस-पास घेर कर मारा जा रहा है."

बदरुद्दीन तैयबजी ने लिखा है, "ये सुनते ही नेहरू तमक कर उठे और तेज़ी से सीढ़ियाँ चढ़ते हुए ऊपर चले गए. थोड़ी देर बाद जब वो उतरे तो उनके हाथ में एक पुरानी, धूल से भरी एक रिवॉल्वर थी. दरअसल ये रिवॉल्वर उनके पिता मोतीलाल की थी, जिससे सालों से कोई गोली नहीं चलाई गई थी."

तैयबजी लिखते हैं, "उन्होंने मुझसे कहा कि हम लोग गंदे और पुराने कुर्ते पहन कर रात को मिंटो ब्रिज चलेंगे. हम ये दिखाएंगे कि हम भी भाग रहे मुसलमान हैं. अगर कोई हम पर हमला करने की कोशिश करेगा तो हम उसे गोली से उड़ा देंगे. मैं नेहरू की ये बात सुन कर हक्काबक्का रह गया. दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी आबादी वाले देश के प्रधानमंत्री को ये समझाने में मुझे एड़ी चोटी का ज़ोर लगाना पड़ा कि इस तरह के अपराध से निपटने के और भी बेहतर तरीके हैं."

Read More: Arvind Kejriwal Arrested: ..और गिरफ्तार हुए अरविंद केजरीवाल ! सीएम आवास के बाहर आप समर्थकों की नारेबाजी

माउंटबेटन को हमेशा इस बात का डर लगा रहता था कि नेहरू का इस तरह का आवेश एक दिन उनकी मौत का कारण बन सकता है. इसलिए उन्होंने इनकी निगरानी के लिए कुछ सैनिक लगा रखे थे.

Read More: Holi Called Different States In Hindi: होली के रंग अनेक ! जानिए देश के इन राज्यों में होली मनाए जाने की परंपरा, किन नामों से जाना जाता है

Tags:

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Sitapur Daroga Suicide News: फतेहपुर निवासी सीतापुर में तैनात दारोगा ने खुद को गोली से उड़ाया ! एसपी चक्रेश मिश्रा कर रहे हैं जांच Sitapur Daroga Suicide News: फतेहपुर निवासी सीतापुर में तैनात दारोगा ने खुद को गोली से उड़ाया ! एसपी चक्रेश मिश्रा कर रहे हैं जांच
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सीतापुर (Sitapur) के मछरेहटा थाने में तैनात दारोगा मनोज कुमार (Manoj Kumar) ने सर्विस रिवाल्वर...
Kanpur Buddha Devi Temple: कानपुर में दो सौ साल पुराना ऐसा देवी मंदिर ! जहां मिठाई की जगह हरी सब्जियों का लगता है भोग
Kanpur Dehat News: पारिवारिक कलह के चलते 7 महीने के बच्चे की माँ ने उठाया खौफ़नाक कदम ! जिसे सुनकर सभी की आंखे हुई नम
Harisiddhi Mata Shaktipith: उज्जैन नगरी में सिद्ध शक्तिपीठ हरिसिद्घि माता के करें दर्शन, यहाँ माता के हाथ की गिरी थी कोहनी
Kashi Vishwanath Police Pujari: काशी विश्वनाथ मंदिर में पुजारी की वेशभूषा में ड्यूटी करेंगे पुलिसकर्मी ! सपा अध्यक्ष ने साधा निशाना
Fatehpur News Today: फतेहपुर में भाजपा नेता समेत दस के खिलाफ़ मुकदमा ! कोर्ट के आदेश पर कार्रवाई
Crime In Fatehpur: फतेहपुर में ईद के दिन खूनी खेल ! मटन की दुकान में शेर अली के सीने पर कई वार

Follow Us