फतेहपुर:सावन स्पेशल-एक ऐसा शिवमंदिर जिसकी खोज क़रीब हज़ार साल पहले गाय चराते हुए एक चरवाहे ने की थी!

सावन महीने में युगान्तर प्रवाह लेकर आ रहा सावन स्पेशल सीरीज जिसमें आप को मिलेगी फतेहपुर के शिव मंदिरों की वो अनसुनी व रोचक जानकारियां जो आपने शायद पहले न सुनी या पढ़ी हो।सबसे पहले आज बात करते हैं गाजीपुर क्षेत्र के चुरियानी गाँव मे स्थित रुरेश्वर धाम शिवमंदिर की।

फतेहपुर:सावन स्पेशल-एक ऐसा शिवमंदिर जिसकी खोज क़रीब हज़ार साल पहले गाय चराते हुए एक चरवाहे ने की थी!
रुरेश्वर मन्दिर फ़ोटो युगान्तर प्रवाह

फतेहपुर:हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार सावन का महीना बहुत ही पवित्र व पावन माना जाता है।ऐसी मान्यता है कि सावन माह में भगवान शंकर की पूजा करने से मनुष्य को विशेष पुण्य लाभ की प्राप्ति होती है।शिव मंदिरों में सावन माह में श्रद्धालुओं की भीड़ इकट्ठा रहती है खासकर सावन के सोमवार को तो मंदिरों व शिवालयों में भारी भीड़ पूजा पाठ करने के लिए इक्क्ठा होती है।जिले भर में अलग अलग क्षेत्रों में कई शिवमन्दिर हैं जिनमे भगवान शंकर की पाताली मूर्ति स्थापित हैं।ऐसा ही एक मंदिर गाजीपुर क्षेत्र के चुरियानी गाँव मे स्थित है जिसे रुरेश्वर धाम के नाम से जाना जाता है।

ये भी पढ़े-फतेहपुर:फिर बरपा आकाशीय बिजली का कहर..सात की मौत आधा दर्जन से ज्यादा घायल!

वैसे तो पूरे साल श्रद्धालुओं की भीड़ इस मन्दिर में बनी रहती है लेक़िन सावन माह क्षेत्र भर से लोग इस मन्दिर में भगवान शिव का दर्शन करने के लिए जाते है।

क्या है मन्दिर का इतिहास...

Read More: Pradeep Mishra Radha Rani Controversy: राधा रानी टिप्पणी पर फंसे कथावाचक प्रदीप मिश्रा ! Premanand Maharaj ने दिया करारा जवाब

फतेहपुर से गाजीपुर को जाने वाली मुख्य सड़क पर स्थित चुरियानी गाँव में रुरेश्वर धाम मन्दिर है।यह मंदिर गाँव के बाहर एक ऊंचे टीले में स्थित होने के कारण रुरेश्वर के नाम से जाना जाता है।मन्दिर के विषय मे क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि इस मंदिर में स्थापित भगवान शिव के प्रतीक शिवलिंग की खोज क़रीब एक हज़ार वर्ष पूर्व हुई थी।शिवलिंग की खोज को लेकर लोंगो ने बताया कि पड़ोसी गाँव फुलवामऊ में रहने वाले एक वैश्य(बनिया) अपनी गाय को इसी क्षेत्र में चरा रहा था और एक दिन जब उसने घास काटने से पहले अपने हंसिये में धार लगाने के लिए एक पत्थर में रगड़ा तो देखा पत्थर शिवलिंग के आकार का है लेक़िन उस वक्त तक उसे शिवलिंग का आभास नहीं हुआ।

Read More: Akshay Tritiya 2024: आज है अक्षय तृतीया का पावन पर्व ! दान-पुण्य और सोना खरीदने का है बड़ा महत्व

यह भी पढ़े:जब भैरवेश्वर महादेव को संतो ने सुनाया रामचरित मानस और यथार्थ गीता.!

Read More: Premanand Maharaj Motivational Quotes: दरवाजे पर आए भिखारी यदि पैसे की मांग करे तो क्या करें ! प्रेमानन्द महाराज ने दिया जवाब

लेक़िन जब वह वापस अपने घर पहुंचकर रात में सोया तो उसे सपना हुआ कि जिस पत्थर पर उसने अपने हंसिये को रगड़कर धार लगाई है वह भगवान शिव की पाताली मूर्ति है।इसके बाद जब वह सुबह जगा तो उसने अपने सपने के बारे में आस पास के गाँव वालों को बताया।जिसके बाद सभी लोग उस टीले पर पहुंचे और उस स्थान की खुदाई की काफ़ी गहरी खुदाई करने के बावजूद भी उस शिवलिंग नुमा पत्थर का कोई अंत नहीं मिला।जिसके बाद सभी को विश्वास हो गया कि यह भगवान शिव का प्रतीक पाताली शिवलिंग है।और फिर सभी लोग उस स्थान में पहुंच पूजा पाठ करने लगे।चुरियानी गाँव के रहने वाले पेशे से अध्यापक हरिओम द्विवेदी ने बताया कि सच्चे मन से इस मंदिर में पूजा करने वाले लोगों की हर मनोकामना को भगवान शिव पूर्ण करते हैं।

मन्दिर में होते हैं हर वर्ष धार्मिक आयोजन..

रुरेश्वर धाम मन्दिर में प्रतिवर्ष गुरुपूर्णिमा के अवसर पर भंडारे का आयोजन होता है।साथ ही वसंत पंचमी के अवसर पर तीन दिनों तक मन्दिर में वसन्तोत्सव मनाया जाता है जिसमें एक भारी मेले का आयोजन भी होता है।

प्रसिद्ध संत ब्रह्मलीन मूलानंद महाराज का है समाधि स्थल...

रुरेश्वर धाम के अंदर धीरे धीरे कई मंदिरों की स्थापना हो गई।प्रसिद्ध संत मूलानंद जी महाराज की तपोस्थली भी रुरेश्वर धाम रहा है और जब वह ब्रह्मलीन हुए तो लोगों ने रुरेश्वर धाम में ही समाधि स्थल बना।

Tags:

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Somnath Jyotirlinga Story: सावन स्पेशल-करिए प्रथम ज्योतिर्लिंग के दर्शन, चंद्रदेव से जुड़ा है सोमनाथ ज्योतिर्लिंग का पौराणिक महत्व Somnath Jyotirlinga Story: सावन स्पेशल-करिए प्रथम ज्योतिर्लिंग के दर्शन, चंद्रदेव से जुड़ा है सोमनाथ ज्योतिर्लिंग का पौराणिक महत्व
Somnath jyotirlinga Story: ज्योर्लिगप्रसिद्ध 12 ज्योतिर्लिंगों में से गुजरात के सोमनाथ मंदिर की अद्भुत महिमा है. कई बार आक्रमण करके...
Fatehpur News: फतेहपुर में क्यों हो रही है हिंदू महापंचायत ! हजारों की संख्या में पहुंचने का अनुमान
Bindki Accident News: फतेहपुर के बिंदकी में दर्दनाक हादसा ! बाइक सवार दो लोगों की मौत
Fatehpur Brajesh Pathak: फतेहपुर पहुंचे डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक अचानक क्यों भड़क उठे ! एक दिन का काटा वेतन
फतेहपुर थाना न्यूज़: मां-बेटे ने मिलकर पिता को लगाया 50 लाख का चूना ! तिकड़म जान कर रह जाएंगे भौचक्के
Fatehpur News: फतेहपुर में ससुराल गए युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौ'त ! परिजनों ने लगाया ह'त्या का आरोप
UPSC EPFO APFC Result 2024: फतेहपुर की विप्लवी बनी असिस्टेंट कमिश्नर ! गांव में ख़ुशी की लहर, जानिए लोगों ने क्या कहा

Follow Us