Bhai Dooj Kalam Davat Puja 2021: भैया दूज पर क्यों होती है कलम दवात पूजा जानिए महत्व

दीपावली के तीसरे दिन यानी द्वतीया तिथि को भैया दूज का पर्व मनाया जाता है. इस साल 6 नवंबर को पूरे देश में इसे बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है.इस दिन चित्रगुप्त महाराज का और कलम दवात व बही खातों का पूजन भी किया जाता है. आइए जानते हैं इसका महत्व. Bhaiya Dooj Chitragupt Kalam Davat Puja 2021

Bhai Dooj Kalam Davat Puja 2021: भैया दूज पर क्यों होती है कलम दवात पूजा जानिए महत्व
Bhai Dooj Kalam Davat Puja 2021

Bhai Dooj 2021 Kalam Davat Puja:धनतेरस से शुरू होने वाला पंचदिवसीय प्रकाश उत्सव भैया दूज के दिन से समाप्त हो जाता है. इस साल 6 नवंबर को भाई दूज का पर्व पूरे देश में बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है.भैया दूज के दिन भाई बहनों से टीका करवाते हैं. भाइयों को शादीशुदा बहनों के घर (ससुराल) पहुँच कर उनसे टीका करवाना चाहिए.Bhai dooj Ki puja 2021

कहा जाता है इस दिन भाइयों को बहनों के हाँथ का बना भोजन करना चाहिए. साथ ही इस दिन भाई बहनों का एक साथ यमुना नदी में स्नान करना भी फलदायक होता है.भैया दूज को यम द्वतीया के नाम से भी जाना जाता है. साथ ही इस दिन चित्रगुप्त महाराज औऱ क़लम दवात की पूजा भी की जाती है. Chitragupt Puja 2021 kalam davat puja

क्यों की जाती है चित्रगुप्त औऱ कलम दवात की पूजा..

पौराणिक कथाओं के अनुसार, चित्रगुप्त जी का जन्म ब्रह्मा जी के चित्त से हुआ था.ये देवताओं के लेखपाल हैं.इनका कार्य मनुष्य के अच्छे और बुरे कर्मों के हिसाब किताब रखना है.मनुष्य को उनके कर्मों के अनुसार ही फल की प्राप्ति होती है व उनके जीवन और मृत्यु की अवधि का लेखा-जोखा भी कर्मों के अनुसार ही लिखा जाता है.भाई दूज पर यम ने अपनी बहन को वरदान दिया था कि जो भाई इस दिन अपनी बहन के यहां पधारेगा उसे अकाल मृत्यु का भय नहीं रहेगा, इसलिए इस त्योहार को यम द्वितीया भी कहा जाता है और चित्रगुप्त जी मुख्य रूप से यमदेव के सहायक हैं.यही कारण है कि भाई दूज या यमद्वितीया के दिन चित्रगुप्त जी का पूजन भी किया जाता है.Bhaiya dooj ki katha 

Read More: Kanpur Bara Devi Temple: कानपुर के बारा देवी मन्दिर की दिलचस्प है कहानी ! मां के दर पर चुनरी बांधने की है मान्यता, एक साथ 12 बहनें बन गईं थीं मूर्ति

मुख्य रूप से चित्रगुप्त लेखा-जोखा रखने का कार्य करते हैं.इसलिए इनका मुख्य कार्य लेखनी से जोड़कर देखा जाता है, यही कारण है कि भाई दूज के दिन चित्रगुप्त जी के प्रतिरूप के तौर पर कलम या लेखनी का पूजन भी किया जाता है.धार्मिक मान्यता के अनुसार, चित्रगुप्त जी का पूजन करने से बुद्धि, वाणी और लेखनी का आशीर्वाद प्राप्त होता है.Chitragupt puja ka mahatv kalam davat puja 2021 bhaiya dooj

Read More: Narsimha Jayanti 2024: कब है नरसिंह जयंती ! भक्त प्रह्लाद की रक्षा और राक्षस हिरण्यकश्यप के अत्याचारों का अंत करने के लिए भगवान ने धारण किया नरसिंह अवतार

Tags:

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Unnao DSP Kripashankar Kanojiya: वाह रे CO साहब इश्कबाजी में बन गए सिपाही ! महिला कांस्टेबल के साथ होटल में धरे गए Unnao DSP Kripashankar Kanojiya: वाह रे CO साहब इश्कबाजी में बन गए सिपाही ! महिला कांस्टेबल के साथ होटल में धरे गए
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के उन्नाव (Unnao) में बीघापुर CO के पद पर तैनात रहे प्रमोटी पीपीएस अधिकारी कृपाशंकर कनौजिया...
Fatehpur News: फतेहपुर के कलयुगी पिता ने बेटियों को बनाया ह'वस का शिकार ! दो साल से करता रहा दु'ष्कर्म
Fatehpur Local News: फतेहपुर में 6 युवक यमुना में डू'बे ! दो की मौ'त, ग्रामीणों ने 4 को बचाया
Fatehpur Haji Raja News: फतेहपुर में सपा नेता हाजी रजा का विवादित बयान ! पीएम Narendra Modi पर की अभद्र टिप्पणी
Fatehpur Crime News: फतेहपुर में बीच सड़क बैंक कर्मी से जमकर मा'रपीट ! लोगों के रोकने पर भी डंडे से लागतार किया ह'मला
Fatehpur Teacher News: फतेहपुर का फर्जी टीचर पुलिस के हत्थे चढ़ा ! कूट रचित रस्तावेजों के सहारे बना था शिक्षक
Fatehpur Malwan Accident: फतेहपुर में खड़े ट्रक से टकराई डीसीएम ! एक की मौत कई घायल, गैस कटर से काट कर निकालती पुलिस

Follow Us