×
विज्ञापन

Fatehpur News:सैकड़ों बीघे गेहूँ की फ़सल जलकर ख़ाक. किसान ने कहा कैसे जीएंगे बच्चे।

विज्ञापन

फ़तेहपुर में किसानों के साथ एक ऐसा हादसा हो गया है जिसने उसकी क़मर तोड़ दी हैं।मामला सदर तहसील के सनगांव कसेरूवा गांव का है जहां आग की एक चिंगारी ने किसानों के सैकड़ों बीघे की फ़सल को स्वाहा कर दिया है।पढ़ें युगान्तर प्रवाह की एक रिपोर्ट..

फ़तेहपुर(Fatehpur):बुधवार को सदर तहसील क्षेत्र के सनगांव और कसेरूवा समेत अन्य गांवों के बीच खेतों में आग लगने से सैकड़ों बीघे गेहूं की फ़सल जलकर खाक हो गई।बताया जा रहा है कि सनगांव के खेतों में भूसा बनाने की मशीन चल रही थी और उसी की चिंगारी से आग लगी है लेकिन इसका कारण अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है।

ये भी पढ़ें- Fatehpur News:जब किसानो के घर पैदा होंगे राजनेता तब सुधरेगा देश।

विज्ञापन
विज्ञापन

किसानों ने बातचीत के दौरान बताया कि सनगांव, झलहा पूरेताजमहमूदपुर और कसेरूवा गांव के बीच मे पड़ने वाले खेतों के बीच मे आग लगी है।पुरेताज महमूदपुर के रहने वाले विशाल ने बताया कि आग से करीब चार सौ बीघे गेहूं की फ़सल नष्ट हो गई है।फायर ब्रिगेड को जानकारी देने के बाद जब सारी फ़सल जल गई तब वो गई है। विशाल बताते है कि खेतो से ही सटी एक नहर है जिसमें पानी न रहने की वज़ह से देखते ही देखते सारे खेतों में आग पहुंच गई। अगर उसमें पानी होता तो फायर ब्रिगेड की जरूरत ही नहीं पड़ती।

वहीं कसेरूवा के रहने वाले एक किसान की सारी फ़सल जल गई उसने कहा कि अब वो अपने परिवार और मवेशियों को क्या खिलाएगा। अन्तर्द्वन्द में फसे इन किसानों का आखिर क्या होगा? कुछ किसानों का कहना था कि यहां तीन बार आग लग चुकी है लेकिन किसी भी प्रकार की प्रशासनिक सहायता नहीं मिलती है।

तहसीलदार विदुषी सिंह ने क्या...

मौके पर पहुंची तहसीलदार विदुषी सिंह ने युगान्तर प्रवाह से बातचीत करते हुए कहा कि आग का कारण स्पष्ट नहीं हैै उसकी जांच कराई जाएगी।लेकिन शुरुआती जानकारी के अनुसार भूसा बनाने वाली मशील की चिनगारी से ये आग लगी है। उन्होंने कहा नहर में पानी न होने के कारण सारे खेतों में आग लगी है उनके शुरूआती अनुमान से लगभग सौ बीघे खेतों की फ़सल नष्ट हुई है।उन्होंने कहा प्रशासनिक नियमों के आधार पर किसानों को मुवाबजा दिया जाएगा।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।