×
विज्ञापन

World Environment Day 2021: इस साल कौन सा देश कर रहा है विश्व पर्यावरण दिवस की मेजबानी औऱ क्या है ख़ास जानें सब कुछ

विज्ञापन

हर साल पांच जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है।इस साल पर्यावरण दिवस पर क्या कुछ है ख़ास आइए जानतें हैं. World Environment Day 2021 World Environment Day 2021 theme

World Environment Day 2021: विश्व पर्यावरण दिवस पूरे विश्व में पाँच जून को हर साल मनाया जाता है।पर्यावरण को संरक्षित करने के उद्देश्य से शुरू किए विश्व पर्यावरण दिवस को पुर्र विश्व में मनाया जाता है।इस साल इसकी मेजबानी भारत का पड़ोसी देश पाकिस्तान कर रहा है।संयुक्त राष्ट्र संघ की घोषणा पर विश्‍व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरूआत साल 1974 में की गई थी जिसे हर साल नए थीम ( World Environment Day 2021 theme ) के साथ मनाया जाता है।

विज्ञापन
विज्ञापन

क्या है इस साल की थीम..

विश्व पर्यावरण दिवस की मेजबानी इस साल पाकिस्तान कर रहा है।इस साल का थीम इकोसिस्टम रेस्टोरेशन यानी यानी कि पारिस्थितिकी तंत्र बहाली है। इकोसिस्‍टम रेस्‍टोरेशन के तहत पेड़ लगाकर या पर्यावरण की रक्षा कर प्रदूषण के बढ़ते स्तर को कम करना और इकोसिस्‍टम पर बढ़ते दबाव को कम करना है।world environment day 2021 theme

वर्चुअल फिफ्थ यूएन एनवायरनमेंट असेंबली (यूएनईए-5) के कार्यक्रम में घोषणा करते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के सलाहकार और जलवायु परिवर्तन मंत्री मलिक अमीन असलम ने दुनिया भर में पारिस्थितिक तंत्र के क्षरण को रोकने और इसकी पुर्नबहाली की आवश्यकताओं की बात कही थी।बता दें कि पाकिस्तान की सरकार ने अगले पांच वर्षो में 1000 करोड़ 'ट्री सुनामी पहल' के तहत देश में जंगलों के विस्तार और पुनस्‍थापन की योजना बनाई है।यही नहीं, इस कैम्पेन में पाकिस्‍तान मैन्ग्रोव और जंगलों को पुनस्‍थापित करने, स्कूल, कॉलेज, पार्क वगैरह सहित शहर के अन्य कई इलाकों में वृक्षारोपण की योजना पर काम कर रहा है।

विश्व पर्यावरण दिवस की आवश्यकता..

अगर आप भारत के किसी बड़े शहर में रहते हैं, तो आप जानते होंगे कि यहां रह रहे लोग हर साल बढ़ते तापमान और प्रदूषण के बीच किस तरह जी रहे हैं। ये हाल सिर्फ दिल्ली या मुंबई जैसे शहरों का नहीं है बल्कि पूरी दुनिया का है। आज तेज़ी से बढ़ता तापमान और प्रदूषण इंसानों के साथ-साथ पृथ्वी पर रह रहे सभी जीवों के लिए बड़ा ख़तरा बन गया है। यही वजह है कि कई जीव-जन्तू विलुप्त हो रहे हैं। साथ ही लोग भी सांस से जुड़े कई तरह के रोगों से लेकर कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं।

यह सब सिर्फ पर्यावरण में बदलाव और उसको पहुंचते नुकसान की वजह से है। हम ख़ुद अपने पर्यावरण का ख़्याल नहीं रख रहे हैं, यही वजह है कि धीरे-धीरे हमारी ज़िंदगी मुश्किल होती जा रही है। और इसीलिए पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक करना ज़रूरी है।

ये भी पढ़ें- Hanuman Jayanti 2021: किन राज्यों में आज मनाई जा रही हनुमान जयंती जानें.!

ये भी पढ़ें- World Bicycle Day 2021: आज है विश्व बाइसिकल दिवस कैसे हुई थी इसकी शुरुआत औऱ क्यों मनाया जाता है.!


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।