×
विज्ञापन

Supreme Court में Ratan Tata और Niira Radia केस पर सुनवाई,टेप लीक से जुड़ा है मामला

विज्ञापन

सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में रतन टाटा और नीरा राडिया के केस को लेकर आज सुनवाई करेगा 12 साल पहले रतन टाटा (Ratan Tata) ने राइट टू प्राइवेसी को लेकर नीरा राडिया (Niira radia) के खिलाफ एक याचिका दर्ज कराई थी.इससे पहले 29 अप्रैल 2014 को इस मामले में सुनवाई हुई थी

Ratan Tata Niira Radia Case Hearing On Supreme Court: सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को रतन टाटा और नीरा राडिया से जुड़े लीक टेप केस को लेकर सुनवाई करेगा. आपको बतादें कि 12 साल पहले रतन टाटा (Ratan Tata) ने राइट टू प्राइवेसी को लेकर नीरा राडिया (Niira radia) के खिलाफ एक याचिका दर्ज कराई थी जिसमें आखिरी बार 29 अप्रैल 2014 में सुनवाई करते हुऐ SC ने कई सबूतों और पक्षों के आधार पर अगल-अलग पहुलुओं पर जोर दिया था. आठ साल के बाद जस्टिस डीवाई चंद्रचू़ड़, जस्टिस हिमा कोहली और जस्टिस पीएस नरसिम्हा की बेंच फिर इस मामले में सुनवाई करने जा रही है

विज्ञापन
विज्ञापन

क्या है रतन टाटा और नीरा राडिया टेप लीक केस? (Ratan Tata Niira Radia Tape Leak Case)

बड़े-बड़े उद्योगपतियों और कॉरपोरेट के बीच लाइजनिंग का काम करने वाली नीरा राडिया (Niira Radia) अपनी कंपनी बनाकर रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड और टाटा समूह के लिए लाइजनिंग का काम करतीं थी. साल 2010 के दौरान नीरा राडिया (Niira Radia) की कई उद्योगपतियों, राजनेताओं, पत्रकारों के साथ-साथ कई अधिकारियों से फोन पर आपस में बातचीत के करीब 800 टेप रिकार्डिंग मीडिया में लीक हो गए थे जिसमे रतन टाटा (Ratan Tata) से फोन पर हुई बातचीत भी शामिल है. लोगों का यह मानना था की नीरा राडिया ने जानबूझ कर अपने फायदे के लिए ये सब किया. इसी मामले को लेकर राइट टू प्राइवेसी का हवाला देते हुए रतन टाटा ने सुप्रीम कोर्ट में इसके खिलाफ याचिका दर्ज कराई थी. जानकारों की माने तो 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले में भी नीरा राडिया की भूमिका संदिग्ध थी.

ये भी पढ़ें- UP 16 IAS Transfer: उत्तर प्रदेश में 16 वरिष्ठ आईएएस अफ़सरों के तबादले संजय प्रसाद को बड़ी जिम्मेदारी

ये भी पढ़ें- Fatehpur News: फतेहपुर के एक औऱ दरोग़ा पर रिश्वत का आरोप महिला ने एसपी से की शिकायत

ये भी पढ़ें- NCRB Report 2021: एनसीआरबी की रिपोर्ट में घटा है यूपी में अपराध,योगी के राज्य में महिला बच्चे सुरक्षित


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।