×
विज्ञापन

विकास दुबे एनकाउंटर मामले में यूपी सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में ये कहा गया है..!

विज्ञापन

हिस्ट्रीशीटर बदमाश विकास दुबे और उसके साथियों की पुलिस मुठभेड़ में हुई मौत के मामले में यूपी सरकार की तरफ़ से सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाख़िल कर कई बातें कही गई हैं..पढ़ें पूरी खबर युगान्तर प्रवाह पर..

नई दिल्ली:दो/तीन जुलाई की दरम्यानी रात कानपुर के बिकरु गाँव में हुई जघन्य वारदात के बाद पूरे देश में कुख्यात हुए विकास दुबे और उसके पाँच साथियों की पुलिस मुठभेड़ के दौरान हुए एनकाउंटर में मौत हो गई है।हालांकि इन एनकाउंटर पर कई तरह के गम्भीर सवाल भी खड़े हुए हैं।एनकाउंटर को फर्जी भी बताया गया है।

ये भी पढ़ें-गुना:दलितों की पीठ शिवराज की पुलिस ने उधेड़ दी..रोते बिलखते बच्चों की तस्वीरों ने खड़े किए सिस्टम पर सवाल.!

सुप्रीम कोर्ट में अपराधी-पुलिस-राजनेता संबंध के अलावा बिकरू गाँव में हुई मुठभेड़ और उसके बाद विकास दुबे और उनके कई साथियों की एनकाउंटर में मौत को लेकर कई याचिकाएँ दायर की गई हैं। इसी के जवाब में यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफ़नामा दायर किया है।

ये भी पढें-कानपुर कांड:विकास दुबे के दो और साथी गुड्डन त्रिवेदी व सोनू तिवारी मुम्बई एटीएस के हत्थे चढ़े..!

अपने हलफ़नामे में उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव ने कहा है कि विकास दुबे ने पुलिस से पिस्तौल छीनकर फ़ायरिंग शुरू कर दी थी। उन्होंने दावा किया कि घटना बिल्कुल वास्तविक है, इसे गढ़ा नहीं गया है।

ये भी पढ़ें-UP:मामी के प्यार में बाधा बने मामा को भांजे ने दे दी दर्दनाक मौत..दस हज़ार वाला भी साथ रहा..!

यूपी सरकार का कहना है कि 10 जुलाई को मध्य प्रदेश के उज्जैन से कानपुर लाते समय पुलिस की गाड़ी पलट गई थी और विकास दुबे ने वहाँ से भागने की कोशिश की। सरकार का कहना है कि भागते समय वो लगातार पुलिसवालों पर गोलियाँ चला रहे थे।पुलिस के पास विकास को मारने के सिवा कोई रास्ता नहीं बचा था।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।