मुद्दा:नोटबंदी से एक ही झटके में 50 लाख लोग हुए बेरोजगार..एक रिपोर्ट में हुआ खुलासा.!

मोदी सरकार के नोटबन्दी वाले फ़ैसले से एक साथ 50 लाख लोगों की नौकरियां छिन गई,इसका खुलासा एक रिपोर्ट के ज़रिए हुआ है..पढ़े पूरे मामले पर युगान्तर प्रवाह की एक रिपोर्ट।

मुद्दा:नोटबंदी से एक ही झटके में 50 लाख लोग हुए बेरोजगार..एक रिपोर्ट में हुआ खुलासा.!
फोटो-युगान्तर प्रवाह

नई दिल्ली: मोदी सरकार द्वारा लिया गया नोटबंदी का फ़ैसला एक ऐसा निर्णय था जिसके चलते लोगों को भारी दिक्कतों का सामना उठाना पड़ा था।अब एक रिपोर्ट के ज़रिए यह दावा किया जा रहा है कि नोट बंदी से एक साथ पचास लाख लोगों की नौकरियां चली गई और इतनी बड़ी संख्या में लोग बेरोजगार हो गए।

यह भी पढ़े: भारत में बैन हुआ टिकटॉक-अब नहीं होगा डाउनलोड.!

क्या है आख़िर रिपोर्ट में..?

अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर ससटेनेबल इम्पलॉयमेंट की ओर से जारी ‘स्टेट ऑफ़ वर्किंग इंडिया 2019’ रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि नोटबंदी के चलते पिछले 2 सालों में 50 लाख लोगो की नौकरियां चली गईं हैं। रिपोर्ट कहती है कि देश में बेरोजगारी की दर 2018 में बढ़कर सबसे ज़्यादा 6 प्रतिशत हो गई है और यह 2000 से लेकर 2010 के दशक के दौरान बेरोज़गारी की दर से दोगुनी है।

Read More: Lakhpati Didi Scheme In Hindi: जानिए क्या है 'लखपति दीदी योजना'? कैसे महिलाओं को होता है लाभ, किस तरह से कर सकते हैं आवेदन

रिपोर्ट के जरिए किया गया एक और दावा बेहद चिंताजनक है।इसके मुताबिक़, 20 से 24 साल के आयु वर्ग में बेरोज़गारी सबसे ज़्यादा है। रिपोर्ट यह भी कहती है कि नौकरियाँ जाने से पुरुषों से कहीं ज़्यादा नुक़सान महिलाओं को हुआ है। रिपोर्ट तैयार करने वाली टीम ने बताया है कि यह रिपोर्ट 1,60,000 परिवारों से बातचीत के आधार पर तैयार की गई है।

Read More: Train Run Without Driver: अजब-गजब ट्रेन ! बिना ड्राइवर के ही 70 से 80 किलोमीटर की रफ़्तार से दौड़ती रही ट्रेन, जानिए कैसे रोकी गई?

8 नवम्बर 2016 को हुई थी नोटबंदी...

Read More: Amrit Bharat Station Scheme: अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत 550 से अधिक रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास ! प्रधानमंत्री ने किया शिलान्यास

प्रधानमंत्री मोदी ने 8 नवम्बर 2016 को रात 8 बजे राष्ट्र के नाम अपना संबोधन देते हुए नोटबंदी का फैसला सुनाया था उन्होंने अपने फैसले में कहा था कि 8 नवम्बर की रात 12 बजे से 1000 और 500 के नोट लीगल टेंडर नहीं रहेंगे जिसका मतलब था कि 1000 और 500 के नोटों को चलन से बाहर कर दिया गया है।

गौरतलब है कि नोटबंदी के बाद लोगो को अपना ही पैसा बदलने के लिए कई कई दिनों तक लाइनो में लगना पड़ा था जिससे लोगों को भारी दिक्कतों का सामना उठाना पड़ा था।तब प्रधानमंत्री मोदी ने देश की जनता से भ्रष्टाचार को जड़ से समाप्त करने के लिए 50 दिनों का वक्त मांगा था।लेक़िन अब जब रिपोर्ट में नोटबन्दी से इतनी बड़ी तादात में लोंगो के बेरोजगार होने का खुलासा हुआ है तो मोदी की इन लोकसभा चुनावों के बीच मुश्किलें बढ़ना तय है।क्योंकि विपक्ष लगातार मोदी के ऊपर नोटबन्दी के फैसले को लेकर हमलावर था और इसे तुग़लकी फरमान बताया था।

Tags:

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Amrit Bharat Station Scheme: अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत 550 से अधिक रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास ! प्रधानमंत्री ने किया शिलान्यास Amrit Bharat Station Scheme: अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत 550 से अधिक रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास ! प्रधानमंत्री ने किया शिलान्यास
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए रेलवे स्टेशनों के पुनर्निर्माण के लिए कई परियोजनाओं का उद्घाटन और...
Pankaj Udhas Biography In Hindi: चिट्ठी आई है गाने वाले पंकज उधास का निधन ! जानिए उनके जीवन का सफ़र
India Vs England Test Series 2024: अंग्रेज हुए पस्त ! शानदार जीत के साथ भारत ने सीरीज की अपने नाम, सीरीज में 3-1 से आगे
History Of Bhutiya Bhangarh Kila: भानगढ़ किला भारत का सबसे हांटेड प्लेस ! जहाँ शाम होने के बाद नहीं मिलता प्रवेश, क्योंकि रात में सजती है भूतों की महफ़िल
Parenting Tips: बच्चों की बेहतर परवरिश और उनके भविष्य को संवारने के लिए अपनाएं ये टिप्स
Aaj ka Rashifal 26 फरवरी 2024: इस राशि के जातक को पुराना पैसा मिल सकता है ! जानिए सभी राशियों का Kal Ka Rashifal
Oneplus 12R Refund: वनप्लस 12R सीरीज में आई ये समस्या ! अब कंपनी देगी फुल रिफण्ड, बस करना होगा ये काम

Follow Us