फतेहपुर:इंजीनियर हत्याकांड-बहुत कुछ जानते हुए भी..सब कुछ बताने में झिझक रहे जीएमआर के अधिकारी.?गोल गोल चक्कर काट रही पुलिस.!

इंजीनियर अजय कुमार की हत्या को पूरे 48 घण्टे से ज्यादा का समय हो चुका है,लेक़िन पुलिस के हाँथ अब तक कोई ठोस सबूत या सुराग नहीं लग पा रहा है..पढ़े इंजीनियर हत्याकांड पर कुछ नए पहलुओं के साथ युगान्तर प्रवाह की फॉलोअप रिपोर्ट।

फतेहपुर:इंजीनियर हत्याकांड-बहुत कुछ जानते हुए भी..सब कुछ बताने में झिझक रहे जीएमआर के अधिकारी.?गोल गोल चक्कर काट रही पुलिस.!
जीएमआर कम्पनी का एकारी में लगा प्लांट

फतेहपुर: इंजीनियर अजय कुमार की बीते मंगलवार को हुई सनसनीखेज हत्या में वारदात के क़रीब 48 घण्टे बाद भी पुलिस के हाँथ कुछ ठोस सबूत नहीं लग पाया है।ज़िले की  पुलिस के आला अफसरों की इस हत्याकांड के बाद से नींद उड़ी हुई है।पुलिस के ऊपर घटना के खुलासे को लेकर दबाव बढ़ता जा रहा है चूंकि मामला रेलवे के दोहरीकरण के काम को सुपरविजन करने वाली शिस्ट्रा कम्पनी के एक इंजीनियर से जुड़ा हुआ है। साथ ही जिस तरह से बेख़ौफ़ अंदाज में बीच सड़क दिनदहाड़े बदमाशों ने इस घटना को अंजाम देकर जिले की पुलिस को खुली चुनौती दी है।उसको लेकर भी ज़िले की पुलसिंग व्यवस्था पर कई सवाल खड़े हो गए हैं। 

ये भी पढ़े: फतेहपुर-इंजीनियर हत्याकांड:दिनदहाड़े हुई इंजीनियर की हत्या में पुलिस दोहरीकरण के काम में लगे ठेकेदारों पर कस सकती है शिकंजा ड्राइवर से भी पूछताछ जारी.!

हालांकि मामले की गम्भीरता को देखते हुए एडीजी प्रयागराज ने घटना वाले दिन ही मौक़े-ए-वारदात पर पहुंचकर पूरे घटनाक्रम का बारीकी से परीक्षण कर केश को जल्द से जल्द खोलने के निर्देश पुलिस अधीक्षक को दिए हैं।जिसके बाद पुलिस अधीक्षक ने इस केश के खुलासे के लिए कई पुलिस टीमों का गठन कर तेज़ी से जाँच पड़ताल शुरू कर दी है।पुलिस की टीमें ज़िले के साथ अगल-बगल के जिलों में भी पहुंच हमलावरों की खोज के लिए पूछताछ कर रही हैं लेक़िन अब तक नतीजा सिफर ही रहा है।

जीएमआर प्लांट के चक्कर काट रही पुलिस...

Read More: Haryana Crime In Hindi: ठेके के सेल्समैन से उधार मांग रहा था शराब ! फिर छिड़ा विवाद, सेल्समैन के साथी ने मार दी गोली

एकारी रेलवे नाका के पास बने हुए जीएमआर प्लांट पर पहुंच पुलिस वहाँ मौजूद कम्पनी के अधिकारियों व कर्मचारियों से कई बार पूछताछ कर चुकी है।पुलिस की एक टीम गुरुवार शाम एक बार फिर प्लांट में पूछताछ करने के लिए पहुंची। पुलिस टीम के साथ ड्राइवर महेंद्र उर्फ श्यामू भी था जो घटना वाले दिन उसी बोलेरो को ड्राइव कर रहा था जिसमें इंजीनियर  अजय कुमार बैठे हुए थे।और उनकी हत्या बिलन्दा अतरहा मार्ग पर अज्ञात हमलावरों द्वारा कर दी गई थी।आपको बता दे कि इस हत्याकांड के बाद से ही पुलिस लगातार बोलेरो चालक महेंद्र उर्फ श्यामू से पूछताछ कर रही है।

Read More: Ghaziabad Crime In Hindi: रिश्ते हुए तार-तार ! 13 वर्षीय बहन के साथ दो भाई करते रहे गैंगरेप, गर्भवती होने के बाद हुआ खुलासा

यह भी पढ़े:फतेहपुर-इंजीनियर हत्याकांड-क्या इंजीनियरिंग का पेशा बना अजय कुमार की मौत का कारण.?पुलिस की शंका की सुई रेलवे ठेकेदारों पर आकर टिकी.!

Read More: Banda Crime In Hindi: फतेहपुर बांदा सीमा पर बने पुल से महिला समेत दो बच्चे यमुना में कूदे ! तीनों की दर्दनाक मौत

दूसरी ओर जीएमआर प्लांट पर मौजूद अधिकारी व कर्मचारी इस मामले में पूरी तरह चुप्पी साधे हुए हैं और कुछ भी बताने से बच रहे हैं।जबकि सूत्रों की माने तो जीएमआर कम्पनी के एकारी रेलवे प्लांट में कार्यरत अधिकारी व कर्मचारियों डर व दहशत के मारे कुछ भी बोलने से बच रहे हैं।जबकि ऐसा माना जा रहा है कि इंजीनियर की हत्या एक बारगी नहीं हुई है कंही न कंही इस हत्या की बू बहुत पहले एकारी प्लांट में ही महशूस की गई होगी।गौरतलब है कि शिस्ट्रा कम्पनी के इंजीनियर अजय कुमार रेलवे के हो रहे दोहरीकरण के अंतर्गत बन रहे ब्रिजों के सुपर विज़न का काम करते थे और कई बार मानकों पर खरा न उतरने पर ब्रिजों को रिजेक्ट कर देते थे जिससे ठेकेदारों के अंदर इस बात को लेकर कंही न कंही गुस्सा जरूर रहता रहा होगा।

यह भी पढ़े:फ़तेहपुर-किशोरी की सिर कटी लाश मिलने से इलाके में हड़कंप शव की शिनाख्त में जुटी पुलिस.!

अब ऐसे में बड़ा सवाल यह उठता है कि क़रीब 8 महीने पहले एकारी में बने प्लांट में नियुक्त हुए इंजीनियर अजय कुमार का क्या एक बार भी ठेकेदारों से किसी मामले को लेकर कहासुनी नहीं हुई है ऐसा तो बिल्कुल भी नही हो सकता है।और यदि ठेकेदारों व इंजीनियर अजय कुमार के बीच कुछ विवाद या कहा सुनी पहले हुई है तो क्या इसकी जरा सी भी भनक जीएमआर के जिम्मेदार अधिकारियों को नहीं लगी है।ऐसी भी संभावना नगण्य है।जिसके चलते पुलिस भी उसी जीएमआर प्लांट के चक्कर पर चक्कर काटे जा रही है।जिसमें रोज की तरह घटना वाले दिन भी इंजीनियर अजय कुमार अपना काम करने के लिए जा रहे थे।

सेक्शन 202 में कुल 21 कांट्रेक्टरो ने ले रखा है काम...

जीएमआर कम्पनी के एकारी रेलवे प्लांट में तैनात एच आर सतीश द्विवेदी ने बताया कि जिस ट्रैक पर यह प्लांट आता है उसे सेक्शन 202 का नाम दिया गया है और यह सेक्शन मूरतगंज से सरशौल तक का है।उन्होंने बताया कि इस सेक्शन के मूरतगंज से सरसौल तक के हो रहे दोहरीकरण के काम मे कुल 21 ठेकेदारों को जीएमआर कंपनी ने काम कराने का ठेका दे रखा है।सतीश ने बताया कि इसके लिए जीएमआर के कुल 27 इंजीनियर और भारत सरकार द्वारा सुपरविजन के लिए शिस्ट्रा कम्पनी के चार इंजीनियर नियुक्त हैं।जिनमें से शिस्ट्रा कम्पनी के इंजीनियर अजय कुमार की अब हत्या हो चुकी है।
पुलिस अब इन 21 ठेकेदारों से पूछताछ कर हत्या के सुराग तलाशने में जुटी हुई है।

Tags:

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Fatehpur News: फतेहपुर की मोहिनी ने तोड़ दिया दम ! दो घंटे बिना इलाज के डॉक्टरों ने रोका, फिर किया रैफर Fatehpur News: फतेहपुर की मोहिनी ने तोड़ दिया दम ! दो घंटे बिना इलाज के डॉक्टरों ने रोका, फिर किया रैफर
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) में एक सात वर्षीय मासूम ने इलाज के अभाव में जिला अस्पताल में...
Fatehpur News Today: फतेहपुर के पिछड़े गांव का बेटा सेना में बना लेफ्टिनेंट ! किसान पिता के छलके आंसू
Pradeep Mishra Radha Rani Controversy: राधा रानी टिप्पणी पर फंसे कथावाचक प्रदीप मिश्रा ! Premanand Maharaj ने दिया करारा जवाब
NEET 2024 NTA Supreme Court Judgment In Hindi: नीट परीक्षा 2024 के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दिया ये निर्णय ! अब बदल जाएगी मेरिट लिस्ट
Fatehpur News: फतेहपुर में नलकूप पर सो रहे किसान की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत ! पास में पड़ीं थीं बोतले, शरीर नीला था
Fatehpur Local News: फतेहपुर में ट्रक की टक्कर से दो की मौ'त ! रात भर रौंदते रहे वाहन
Modi Cabinet 3.O List 2024: नरेंद्र मोदी के कैबिनेट में किसको मिला कौन सा मंत्रालय ! यूपी के इस नेता को मिली महत्वपूर्ण जगह

Follow Us