Munawwar Rana Passes Away: दिल को छू लेती थीं इनकी शेरों-शायरियां ! मशहूर शायर मुनव्वर राना का लंबी बीमारी के चलते निधन, राम मंदिर पर फैसले से भी थे ख़फ़ा

मशहूर उर्दू शायर मुनव्वर राणा बायोग्राफी

माँ से जुड़ी दिल को छू लेने वाली नज्म और शेरों-शायरियां कहने वाली आवाज थम गई. मशहूर उर्दू शायर (Famous Urdu Poet) मुनव्वर राणा (Munawwar Rana) का 71 वर्ष की उम्र में बीमारी के चलते लखनऊ (Lucknow) में निधन हो गया. उनके यादगार शेरों-शायरियों और नज़्म की पूरी दुनिया कायल थी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने इनके निधन पर शोक जताते हुए श्रद्धाजंलि दी है.

Munawwar Rana Passes Away: दिल को छू लेती थीं इनकी शेरों-शायरियां ! मशहूर शायर मुनव्वर राना का लंबी बीमारी के चलते निधन, राम मंदिर पर फैसले से भी थे ख़फ़ा
मशहूर शायर मुनव्वर राणा : Image Credit Original Source

मशहूर शायर मुनव्वर राणा का लंबी बीमारी के चलते निधन

मुनव्वर राणा (Munawwar Rana) जाने-माने प्रसिद्ध उर्दू शायर (Urdu Poet) जिनकी शेरों-शायरियां और नज्में हमेशा दिलों को छू लेती हैं. मुनव्वर राणा ने खास तौर पर अपने 'मां' पर कहे शेरों से ज्यादा ख्याति मिली. जो लोगों के दिलो में बसती चली गयी. 71 वर्ष की उम्र में लंबी बीमारी के चलते उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया. मुनव्वर अपने पीछे अपनी पत्नी नायला राणा, 5 बेटियां सुमैया राणा, फोजिया राणा, उरूसा राणा, हिबा राणा, अर्शिया राणा और बेटे तबरेज राणा को छोड़ गए हैं.

कौन थे मुनव्वर राणा (Who Is Munawwar Rana)?

शायर मुन्नवर राणा (Poet Munawwar Rana) का जन्म 26 नवम्बर 1952 को उत्तर प्रदेश के रायबरेली (Raebareli) जिले में हुआ था. उर्दू साहित्य और कविताओं में शुरू से ही रुचि रही. मुनव्वर की मां का निधन साल 2016 में हुआ था, मुनव्वर को शेरों व शायरी और गजलें लिखने का शुरू से शौक था. धीरे-धीरे मुनव्वर को अपनी इस कला यानी शेरों-शायरियों (Poetry) में लोकप्रियता मिलने लगी. उनका यह शेर सबकी जुबा पर रहता है, 'किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकां आयी, मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में मां आयी' यह काफी लोकप्रिय हुआ.

माँ से जुड़ी नज्में और शेर भी काफी लोकप्रिय रहे. उनके प्रसिद्ध शेरों व नज्मो के लिए वर्ष 2014 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी नवाजा गया. हालांकि लगभग एक साल बाद पुरस्कार लौटा दिया. इसके साथ ही अमीर खुसरो पुरस्कार (Ameer Khusro Award), मीर तकी मीर पुरस्कार, गालिब पुरस्कार, डॉ. जाकिर हुसैन पुरस्कार और सरस्वती समाज पुरस्कार शामिल हैं. उनकी रचनाओं का कई भाषाओं में अनुवाद किया गया है.

मुनव्वर राणा राम मंदिर पर आए फैसले से थे नाराज

उर्दू शायर मुनव्वर राणा का विवादों से भी उनका गहरा नाता रहा, राम मंदिर पर फैसला आने के बाद मुनव्वर राणा (Munawwar Rana) ने पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) पर सवाल उठाया था. उनका कहना था कि विवादित जमीन पर जो फैसला सुनाया गया उसमें कहीं न कहीं हिंदुओं का पक्ष लिया गया. इस बयान के बाद काफी विवाद बढ़ गया था.

Read More: Mau Murder News: सात जन्मों का साथ निभाने के लिए 4 दिन पहले लिए थे फेरे ! शादी के पांचवे दिन हुआ कुछ ऐसा, कांप उठेगी रूह

यही नहीं किसान आंदोलन पर ट्विटर पर एक शेर लिखा जिसपर फिर से विवाद बढ़ा. मुनव्वर राणा ने कहा था कि संसद भवन को गिराकर वहां खेत बना देना चाहिए, जिसपर बवाल मचा था. आज यह आवाज हमेशा के लिए शांत हो गयी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निधन पर शोक जताते हुए श्रद्धांजलि दी है. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उन्हें श्रद्धांजलि दी. एक्स पर उन्ही का शेर लिखा, तो अब इस गांव में रिश्ता हमारा खत्म होता है, फिर आंखें खोल ली जाएं कि सपना खत्म होता है.  देश के जाने माने शायर मुनव्वर राना का निधन अत्यंत ह्रदयविदारक. 

Read More: Agra Crime In Hindi: व्यापार में लगातार मिल रही असफलता से परेशान होकर युवक ने उठाया बेहद खौफनाक कदम ! घर से उठेंगी तीन अर्थियां

शायर मुनव्वर राणा के कुछ मशहूर शेर

अभी ज़िंदा है माँ मेरी, मुझे कुछ भी नहीं होगा, मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है.

Read More: Sunny Leone UP Police: अभिनेत्री सनी लियोन बनेंगी पुलिस कांस्टेबल? वायरल हुआ पुलिस भर्ती एडमिट कार्ड

मिट्टी में मिला दे कि जुदा नहीं हो सकता, अब इससे ज्यादा मैं तेरा नहीं हो सकता.

छू नहीं सकती मौत भी आसानी से इसको, यह बच्चा अभी मां की दुआ ओढ़े हुए है.

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती, बस एक मां है जो मुझसे खफा नहीं होती.

लिपट को रोती नहीं है कभी शहीदों से, ये हौसला भी हमारे वतन की माओ में है, ये ऐसा कर्ज है जो मैं अदा कर ही नहीं सकता, मैं जबतक घर न लौटूँ मेरी माँ सजदे में रहती है.

किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकां आयी, मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में मां आयी.

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Kannauj Suicide News: पेपर लीक होने से हताश एक युवक ने कर ली आत्महत्या ! सुसाइड नोट पढ़कर छलक उठेंगे आंसू, अखिलेश यादव की सामने आयी प्रतिक्रिया Kannauj Suicide News: पेपर लीक होने से हताश एक युवक ने कर ली आत्महत्या ! सुसाइड नोट पढ़कर छलक उठेंगे आंसू, अखिलेश यादव की सामने आयी प्रतिक्रिया
यूपी के कन्नौज (Kannauj) से एक बेहद हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है जिसे सुनकर सभी के होश...
Shaitaan Movie In Hindi: रोंगटे खड़े कर देने वाली 'शैतान' मूवी का टीज़र हुआ रिलीज ! R Madhvan का ये रूप देख डर गए लोग
Fatehpur News: फतेहपुर की जेल पहुंचे पुलिस महानिदेशक ! अब बंदी चलाएंगे कंप्यूटर, करेंगे इसकी खेती
Up Police Exam: पुलिस सिपाही भर्ती परीक्षा दोबारा कराए जाने की मांग पर अड़े अभ्यर्थी ! पेपर लीक होने का किया जा रहा दावा
Pm Surya Ghar Muft Bijali Yojana 2024: 300 यूनिट बिजली मिलेगी मुफ्त ! छत पर सोलर पैनल इंस्टाल होने के बाद मिलेगी सब्सिडी, जानिए क्या है पीएम सूर्य घर स्कीम?
Fatehpur News: फतेहपुर में यूपी बोर्ड की मेरिट लिस्ट के लिए अंतर्द्वंद ! सीटिंग प्लान से लेकर कॉपियों में पैसे रखने का बड़ा खेल
Dacoit Seema Parihar: 13 साल की उम्र में चंबल-बीहड़ के ख़तरनाक डाकुओं के चंगुल में आई सीमा परिहार ! कैसे बनी दस्यु सुंदरी? हाथों में चूड़ियों के बजाय पहन लिए हथियार, 30 साल पुराने मामले में हुई सजा

Follow Us