oak public school

कौन हैं Anna Mani जिन्हें Google Doodle के ज़रिए कर रहा है याद

भौतिक औऱ मौसम वैज्ञानिक अन्ना मनी की 104 वीं जयंती के अवसर पर गूगल डूडल के जरिए याद कर रहा है. आइए जानते हैं कौन हैं अन्ना मनी जिनकी मौसम भविष्यवाणी एकदम सटीक होती थी. (Anna Mani Google Doodle Today)

कौन हैं Anna Mani जिन्हें Google Doodle के ज़रिए कर रहा है याद
Google Doodle Anna Mani

Google Doodle Anna Mani:विश्व प्रसिद्ध भारत की मौसम औऱ भौतिकी वैज्ञानिक अन्ना मणि की 104 वीं जयंती के अवसर पर गूगल डूडल के ज़रिए उन्हें याद कर रहा है. 

कौन हैं अन्ना मणि (Anna Mani Biography In Hindi) 

भारत की पहली मौसम वैज्ञानिक अन्ना मणि (Anna Mani Birth Date) का जन्म 23 अगस्त 1918 को केरल के पीरुमेट में हुआ था.इनकी शोक की बात करें तो 1939 में प्रेसीडेंसी कॉलेज, मद्रास से भौतिकी और रसायन विज्ञान में बीएससी ऑनर्स की डिग्री के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की और नोबेल पुरस्कार विजेता सी.वी. रमन के साथ भारतीय विज्ञान संस्थान में शोध किया.

प्रसिद्ध भौतिक विज्ञानी के.आर. रामनाथन, जो वहां एक शोधकर्ता थे वह भी अन्ना की शोध गतिविधियों से काफी प्रभावित हुए थे.बताया जाता है कि अन्ना लंदन भी पढ़ने के लिए गईं थीं जहां उन्होंने मौसम संबंधी उपकरण में विशेषज्ञता हासिल की.

Read More: Kerosene Fridge History: रेफ्रिजरेटर का अविष्कार किसने किया? जब बिजली नहीं थी तो मिट्टी के तेल से कैसे चलते थे फ्रिज

1948 में भारत लौटी..

Read More: Paytm Bank Ban: RBI के इस फैसले के बाद रातों-रात PAYTM के गिरे शेयर ! पेटीएम पेमेंट बैंक पर आरबीआई का एक्शन, यूजर्स हुए कन्फ्यूज

क़रीब तीन साल तक लंदन में काम करने के बाद अन्ना मणि 1948 (Anna Mani Full Biography In Hindi) में भारत लौटी यहाँ लौटकर उन्होंने भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के लिए काम करना शुरू किया.जहां उन्होंने देश को अपने स्वयं के मौसम उपकरणों के डिजाइन और निर्माण में मदद की.1953 तक संभाग की प्रमुख बन गई.उनके नेतृत्व में, 100 से अधिक मौसम उपकरण डिजाइनों का उत्पादन किया गया था.

Read More: Fastag KYC News: 31 जनवरी से पहले कर लें ये काम ! नहीं हो जाएंगे FASTAG ब्लैकलिस्टेड या डिएक्टिवेट, जानिए वजह

मणि बाद में भारत मौसम विज्ञान विभाग के उप महानिदेशक बनीं, और संयुक्त राष्ट्र विश्व मौसम विज्ञान संगठन में कई प्रमुख पदों पर रहीं.1987 में, उन्होंने विज्ञान में उल्लेखनीय योगदान के लिए INSA KR रामनाथन पदक जीता.

उनकी सेवानिवृत्ति के बाद, उन्हें बैंगलोर में रमन अनुसंधान संस्थान के ट्रस्टी के रूप में नियुक्त किया गया था। 16 अगस्त 2001 को तिरुवनंतपुरम में उनका निधन हो गया.

Tags:

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Vishu Kya Hota Hai: विशु क्या होता है ? मलयाली इसे नववर्ष के रूप में क्यों मनाते हैं, श्री कृष्ण से जुड़ी है आस्था Vishu Kya Hota Hai: विशु क्या होता है ? मलयाली इसे नववर्ष के रूप में क्यों मनाते हैं, श्री कृष्ण से जुड़ी है आस्था
विशु (Vishu) भारत के केरल (Kerala) में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है इस साल यह त्यौहार 14 अप्रैल...
Haryana Crime In Hindi: ठेके के सेल्समैन से उधार मांग रहा था शराब ! फिर छिड़ा विवाद, सेल्समैन के साथी ने मार दी गोली
Mirzapur Vindhyavasini Temple: क्या है मां विंध्यवासिनी मंदिर और अष्टभुजा कालीखोह मन्दिर का इतिहास ! जानिए पौराणिक मान्यताओं के पीछे की कहानी
Fatehpur AI Voice call Scam: मैं तुम्हारा जीजा बोल रहा हूं ! 16 हज़ार भेज दो, जानिए ठगी का नया तरीका
CUET PG 2024 RESULT: सीयूईटी पीजी का परिणाम जारी ! ऑफिशियल वेबसाइट पर देखें अपना स्कोरकॉर्ड
Chaitra Navratri Par Laung Ke Totke: चैत्र नवरात्रि पर आजमाएं लौंग के टोटके व उपाय ! बन जाएंगे बिगड़े और रुके काम
Sitapur Daroga Suicide News: फतेहपुर निवासी सीतापुर में तैनात दारोगा ने खुद को गोली से उड़ाया ! एसपी चक्रेश मिश्रा कर रहे हैं जांच

Follow Us