×
विज्ञापन

Dhanteras पर क्यों ख़रीदी जाती है झाड़ू

विज्ञापन

धनतेरस के दिन से दीपावली उत्सव की शुरुआत हो जाती है. धनतेरस पर वैसे तो लोग गणेश लक्ष्मी जी की मूर्ति, सोना चांदी, बर्तन, कपड़े, वाहन आदि की खरीददारी करते ही हैं, लेकिन इस दिन झाड़ू भी खरीदी जाती है, क्यों खरीदी जाती है, इसके पीछे कारण क्या है, आइए जानते हैं. Dhanteras 2022

Dhanteras 2022 : दीपावली से दो दिन पहले धनतेरस का पर्व मनाया जाता है,यह पर्व भी बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है.इस दिन धन्वंतरि देवता की पूजा होती है.साथ ही धनतेरस पर खरीददारी करना काफ़ी शुभ माना जाता है.लोग इस दिन सोना, चांदी, आभूषण, वाहन, कपड़े, बर्तन आदि खरीदते हैं. लेकिन इन सब के अलावा इस दिन झाड़ू खरीदने की भी परम्परा है, बताते हैं कि झाड़ू खरीदना काफ़ी शुभ माना जाता है.

विज्ञापन
विज्ञापन

क्यों खरीदी जाती है झाड़ू

धर्म शास्त्रों के मुताबिक, झाड़ू को एक तरह के धन का रूप माना जाता है. यही वजह है कि झाड़ू में पैर लगाने से मना किया जाता है. अगर गलती से घर के झाड़ू में पैर भी लग जाता है तो बड़े-बुजुर्ग प्रणाम करने के लिए कहते हैं. ज्योतिष ज्ञान के मुताबिक, झाड़ू दुख को दूर करने वाला और सुख को आकर्षित करने वाला बताया गया है. बहुत लोगों के मुंह से सुना होगा कि रोजाना घर में झाड़ू लगाने से कर्ज घटता है और दरिद्रता दूर होती है. इस लिए धनतेरस के दिन झाड़ू खरीदना काफ़ी शुभ माना जाता है. Dhanteras par jhadu kharidana

झाड़ू खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान 

बाजार में कई तरह की झाड़ू बिकती हैं। लेकिन धनतेरस में खास झाड़ू खरीदनी चाहिए.इस पावन दिन पर घर झाड़ू लानी है, तो सीकों और फूल वाली झाड़ू खरीदें। मान्यता है कि इस तरह की झाड़ू खरीदकर घर लाने से धन संबंधी परेशानियों से राहत मिलती है. मतलब प्लास्टिक से बनी झाड़ू नहीं खरीदना चाहिए. Dhanteras 2022

साथ ही अगर धनतेरस पर सींक वाली झाड़ू खरीद रहे हैं तो ध्यान रखें कि झाड़ू की सींक टूटी हुई न हों.इस तरह की झाड़ू को खंडित माना जाता है.मान्यता है कि टूटी सींक वाली झाड़ू दरिद्रता ला सकती है.

ये भी पढ़ें- Diwali 2022 Shubh Muhurat : इस बार दीपावली पर लक्ष्मी गणेश पूजा के लिए हैं ये शुभ मुहूर्त

ये भी पढ़ें- Latest Sarkari Naukri 2022 : यूपी में 701 पदों पर निकली सरकारी नौकरी आज से आवदेन शुरु

ये भी पढ़ें- UP Gram Pradhan News : यूपी में 1000 से ज़्यादा ग्राम प्रधानों की चली गई कुर्सी, जानें क्यों


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।