×
विज्ञापन

UP:108 नींबू,तीन ग्लास शराब और मुर्गे की बलि..दावा सारे रोगों का इलाज़..पुलिस ने धर लिया है..!

विज्ञापन

आज के समय में भी भारत में तंत्र मंत्र का फैला हुआ जाल इस बात का सबूत है कि यहाँ लोग अभी भी अंधविश्वास में फंसे हुए हैं..हमीरपुर से युगान्तर प्रवाह सवांददाता इरशाद खान की ये रिपोर्ट पढ़िए..

हमीरपुर:उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में तंत्र मंत्र के जरिए इलाज करने और कराने वाले लोगों को पुलिस ने गिरफ़्तार किया है, महिला के काफ़ी दिनों से बीमार होने पर उसके घर वालो ने दूसरे जनपद से तांत्रिक बुला कर मंदिर के अंदर तंत्र विद्या शुरू ही की थी तभी इलाके के लोगो को इसकी भनक लग गयी और उन्होंने पुलिस को सूचना दी, जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने सभी को गिरफ़्तार कर लिया है।

ये भी पढ़ें-कोरोना:फतेहपुर में कोरोना ब्लास्ट..45 नए पाज़िटिव..!

धुंध अंधेरे के बीच मंदिर के अंदर मुर्गे चूज़े,नींबू और उन पर सिन्दूर और तंत्र मंत्र करते तांत्रिक की तस्वीर को देखिये और समझिए 21 वीं सदी के इस युग मे जब हम कोरोना की वैक्सीन खोज रहे तब ये साहब सारे मर्ज़ का इलाज महज़ तंत्र और मंत्र से कर देने का दावा करते हैं।

मामला राठ कोतवाली इलाके के पड़रा गांव का है जहा जगदंबा देवी का वर्षों पुराना मंदिर लोगों की आस्था का केंद्र है, ग्रामीणों ने बताया कि मंदिर परिसर में चार माह से अखंड रामायण का पाठ चल रहा है और गांव का बाबूलाल रैकवार अपने पुत्र कपलेश, दामाद श्रीराम व जालौन निवासी तांत्रिक श्रीराम के साथ मंदिर पहुंचा, तांत्रिक ने 108 नीबू व तीन गिलास शराब से तंत्र क्रिया करने के बाद मुर्गा की बलि दी, तंत्र क्रिया के बाद चारों मौके से चले गए,अखंड रामायण के दौरान जब श्रद्धालु मंदिर में आरती करने पहुंचे तो वहां का नजारा देख होश उड़ गए, मंदिर में नीबू, शराब के गिलास सहित मरा हुआ मुर्गा देख गांव में तनाव फैल गया, ग्रामीणों ने बाबूलाल रैकवार को गांव से ही दबोच लिया, बताया जा रहा है कि बाबुलाल की बहू नीलम की तबियत खराब चल रही है। जिसके चलते  तांत्रिक श्रीराम से यह तंत्र क्रिया कराई गयी है, घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस फोर्स के  मौके पर पहुंची और तंत्र क्रिया करने और कराने वाले चारों ही लोगों को हिरासत में ले लिया।

ये भी पढ़ें-फतेहपुर:दोपहर का भोजन और लोहे का गेट..पति पत्नी की हो गई दर्दनाक मौत..!

देश मे हर साल तंत्र मंत्र और सही इलाज न मिल पाने की वजह से लाखों लोगों की जान जाती है, कहने को तो हम चांद पर पहुंच गए, इलेक्ट्रॉनिक युग मे दाखिल हो गए, लेकिन ये तंत्र मंत्र, टोटका जैसी दकियानूसी बातों से आज तक आगे नही बढ़ पाये है।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।