×
विज्ञापन

Fatehpur News Today: फतेहपुर के सीवीओ का कोरोनो से निधन.अबतक पच्चीस की जा चुकी है जान।

विज्ञापन

कोरोनो महामारी फ्रंटलाइन वर्कर के लिए घातक होती जा रही है।बड़ी संख्या में मौतों से प्रदेश सहित देश के हाल बेहाल हो गए हैं।फ़तेहपुर के मौजूदा समय में सीवीओ रहे डॉ0 राजेन्द्र कुमार शर्मा का कोरोना संक्रमण के चलते निधन हो गया है।पढ़ें युगान्तर प्रवाह की एक रिपोर्ट(Fatehpur Chief Veterinary Officer Dr.Rajendra Kumar Sharma Passes Away)

Fatehpur News Today: यूपी में बढ़ते कोरोना के मामलों में मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है जिसमें अधिकतर फ़्रंटलाइन वर्कर भी शामिल हैं।फ़तेहपुर के मुख्य पशुचिकित्सा अधिकारी(Chief Veterinary Officer)डॉ0 राजेन्द्र कुमार शर्मा (Dr.Rajendra Kumar Sharma)का कोरोना संक्रमण के चलते सोमवार सुबह निधन हो गया।बताया जा रहा है कि 17 अप्रैल को उनको बुख़ार खासी हुई थी जिसके 19 अप्रैल को जब कोविड एंटीजेन टेस्ट किया गया तो उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।

ये भी पढ़ें- Shesh Narayan Singh: कोरोनो वैक्सीन की दोनों डोज लेने के बाद भी नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार शेष नारायण सिंह।

विज्ञापन
विज्ञापन

डॉ0 पी0एन0 शुक्ला ने युगान्तर प्रवाह को जानकारी देते हुए बताया कि 19 अप्रैल को एंटीजेन टेस्ट के बाद उनको सांस लेने में तकलीफ हो गई थी।हम लोगों ने पकड़ कर उनको गाड़ी में बैठाया था और वो यहां से नोयडा अपने घर चले गए थे लेकिन जब तकलीफ़ ज्यादा हुई तो जयपुर में एडमिट हो गए उसके बाद भी उनको आराम नहीं मिला।

उन्होंने बताया कि उनका ऑक्सीजन लेवल हमेशा कम रहा जिसको अंततः वो सारी सुविधाओं के बाउजूद मेंटेन नहीं कर सके और सोमवार को उनका निधन हो गया। डॉ0 पी0एन शुक्ला बतातें हैं कि डॉ0 राजेन्द्र कुमार शर्मा(Dr.Rajendra kumar Sharma)मूलरूप से मथुरा के रहने वाले थे लेकिन नोयडा में वो फ्लैट लेकर रह रहे थे उनकी पत्नी विनीता शर्मा यूपी में शिक्षा विभाग में निदेशक नहीं जिनका सितंबर 2020 को रिटायरमेंट हो गया। जिससे वो नोयडा शिफ्ट हो गईं जबकि सीवीओ के पद पर रहे डॉ0 राजेंद्र शर्मा सितंबर 2021 में रिटायर्ड होने वाले थे। डॉ0 शुक्ला ने कहा कि वो मथुरा पशुचिकित्सा महाविद्यालय में हमारे तीन साल के सीनियर थे तब से वो हमारे बेहद करीबी रहे।

इस घटना के बाद पशुधन विभाग में शोक की लहर है और नाराजगी भी है।डॉ0 अनिल कुमार बतातें हैं कि पूरे प्रदेश में अबतक 25 डॉक्टरों की मौत कोरोनो संक्रमण से हो चुकी है।फ़्रंटलाइन वर्कर में शामिल होने के बाद भी हमारा सावर्जनिक वैक्सिनेशन नहीं कराया गया है।हमारी ओपीडी को अभी भी शुरू रखा गया है जबकि हम ऑन कॉल काम करना चाहते हैं।उन्होंने बताया कि पंचायत चुनाव में लगी ड्यूटी की वज़ह से अधिकतर लोग संक्रमित हो रहे हैं।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।