Republic Day Speech In hindi: गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर भाषण कैसे दें ! जान लीजिए सही तरीका

गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है स्पीच?

26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर आपको स्कूल, कॉलेज, कार्यालयों या कहीं समारोह में स्पीच देनी है तो सही तरीका जानना बहुत आवश्यक है. गणतंत्र दिवस के उस इतिहास की गाथा को और उसके महत्व को आप अपने भाषण में जोड़ सकते हैं. यह याद रखें कि भाषण बहुत लम्बा न हो क्योंकि लोग फिर बोर होने लगते हैं. इसलिए आप अपने भाषण की शुरुआत कैसे करें इन तरीकों (Tricks) को आजमा सकते है जिससे आपको भाषण (Speech) देने में काफी मदद मिलेगी.

Republic Day Speech In hindi: गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर भाषण कैसे दें ! जान लीजिए सही तरीका
गणतंत्र दिवस पर भाषण, फोटो साभार सोशल मीडिया

गणतंत्र दिवस पर देना है हिंदी में भाषण, सही ट्रिक आजमाएं

अक्सर 15 अगस्त हो या 26 जनवरी दोनों ही राष्ट्रीय पर्व (National Festivals) के मौकों पर भाषण (Speech) देने की बात जब सामने आती है, तो बच्चों व लोगों का आत्मविश्वास डगमगाने लगता है. यदि इस बार आप किसी स्कूल, कॉलेज में या फिर कहीं गणतंत्र दिवस समारोह (Republic Day) पर भाषण देने जा रहे हैं और आपको सही से समझ नहीं आ रहा कि भाषण की शुरुआत (Start Speech) कैसे करें, कितना लम्बा भाषण होना चाहिए, तो घबराइए नहीं आप इस तरह से आसानी से इन सही तरीकों को अपनाकर भाषण तैयार कर सकते हैं. फिर देखिएगा आपके इस भाषण पर कितनी तालियां बजती (To Clap) रहेंगी.

भाषण में समझिए गणतंत्र दिवस के महत्व को

सबसे पहले यदि आप गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर स्कूल, कार्यालयों व कहीं समारोह पर 26 जनवरी को लेकर भाषण (Speech) देने जा रहे हैं तो बिल्कुल आत्मविश्वास के साथ मंच पर पहुंचे. अपने भीतर देश की आजादी और संविधान (Constitutuon) से जुड़ी गाथाओ का स्मरण कीजिये. यह दिन केवल तिरंगा फहराने और मिठाईयां खाने का नहीं, बल्कि गणतंत्र के उस महान प्रारूप को समझना आवश्यक है.

आख़िर इस दिन हुआ क्या था, यह दिन क्या सीख देता है. एक बात और भाषण शुरू करने से पहले यह बात समझ लें बहुत स्पष्ट बोलें और लम्बा भाषण न (Not Long Speech) हो, क्योंकि लंबा भाषण किसी को भी बोर (Bored) कर सकता है. आपके भाषण में गणतंत्र दिवस से जुड़ी हर वह स्मृति होनी चाहिए जो गणतंत्र के रूप में जानी जाती है. चलिए आप भाषण की शुरुआत कुछ शायरियों (Poet) से भी कर सकते हैं.

'ये दुनिया एक दुल्हन, के माथे की बिंदिया, ये मेरा इंडिया ये मेरा इंडिया, आई लव माई इंडिया'

Read More: Sushil Modi Death: बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी का निधन ! गम्भीर बीमारी से जूझ रहे थे, जानिए राजनीतिक सफर

'अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं'

Read More: New Criminal Laws In Hindi: आज से पूरे भारत में बदल गए अंग्रेजों के जमाने के कानून ! BNS से होगा लोगों का न्याय

फिर आप अपने भाषण की शुरुआत करें 

आदरणीय प्रधानचार्य जी, शिक्षक, व आये हुए अतिथिगण व समस्त विद्यार्थियों को 75 वें गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देता हूँ. आज का दिन 26 जनवरी गणतंत्र दिवस हर भारतीय के लिए बड़ा ही गर्व (Proud) का दिन है. 15 अगस्त 1947 को जब हमारा देश आजाद हुआ था तब हमारे देश में संविधान (Constitution) नहीं बना था, लेकिन 3 साल बाद हमारे देश में संविधान लागू हुआ और वह दिन 26 जनवरी 1950 का दिन था. हमारा संविधान हाथों से लिखा गया था न कि प्रिंटेड था. संविधान लिखने वाले शख्स प्रेम बिहार नारायण रायजादा थे. नेहरु जी ने उन्हें यह जिम्मेदारी दी थी, संविधान की नींव डॉक्टर भीमराव अंबेडकर (Dr. B. R Ambedkar) ने रखी. अंबेडकर जी ने अपनी शिक्षा और कड़े संघर्षों की गाथा लिखी फिर संविधान को अस्तित्व में लाने में उनकी बड़ी भूमिका रही.

Read More: NEET 2024 NTA Supreme Court Judgment In Hindi: नीट परीक्षा 2024 के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दिया ये निर्णय ! अब बदल जाएगी मेरिट लिस्ट

आज हम सभी गणतंत्र दिवस (Republic Day) मना रहे हैं. देश की अखंडता, संप्रभुता इसे प्रदर्शित करता है. वीर सपूतों की कुर्बानियां को यह याद करने का दिन है जिन्होंने देश की आजादी में बड़ी भूमिका निभाई और खास तौर पर यह गणतंत्र दिवस आपसी भाईचारे और सद्भाव का ही दिवस है, जब देश आजाद हुआ था देश काफ़ी गरीबी में था. धीरे-धीरे देश ने विकास की रफ्तार पकड़ी. हमारे भारत ने कई बार उतार चढ़ाव देखे. वैश्विक महामारी कोरोना का ही देख लीजिए उस वक्त आर्थिक मंदी के चलते स्थिति चरमरा गई थी, लेकिन धीरे-धीरे फिर से मंदी का दौर समाप्त हो गया और देश विकास के पथ पर बढ़ चला.

आज का यह खास दिन वीर स्वतंत्रता सेनानियों को याद करने का है जिन्होंने देश की आजादी के लिए क्या कुछ नहीं किया और गणतंत्र दिवस में संविधान का बड़ा ही महत्व है. हम सभी गणतंत्र दिवस पर संकल्प ले कि देश के विकास रथ को ऐसे ही आगे बढ़ाएंगे. अच्छे से अच्छा सकारात्मक कार्य करें जिससे हमारे देश की तरक्की हो. आपसी नफरत को भुलाकर आपसी भेदभाव को दूर करें और देश में सद्भाव और आपकी भाईचारे का संकल्प ले. जिससे हमारा देश हमेशा एक दूसरे के लिए खड़ा रहे. इन्हीं सब बातों के बाद अपनी वाणी को विराम देता हूं.

जय हिंद.

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Somnath Jyotirlinga Story: सावन स्पेशल-करिए प्रथम ज्योतिर्लिंग के दर्शन, चंद्रदेव से जुड़ा है सोमनाथ ज्योतिर्लिंग का पौराणिक महत्व Somnath Jyotirlinga Story: सावन स्पेशल-करिए प्रथम ज्योतिर्लिंग के दर्शन, चंद्रदेव से जुड़ा है सोमनाथ ज्योतिर्लिंग का पौराणिक महत्व
Somnath jyotirlinga Story: ज्योर्लिगप्रसिद्ध 12 ज्योतिर्लिंगों में से गुजरात के सोमनाथ मंदिर की अद्भुत महिमा है. कई बार आक्रमण करके...
Fatehpur News: फतेहपुर में क्यों हो रही है हिंदू महापंचायत ! हजारों की संख्या में पहुंचने का अनुमान
Bindki Accident News: फतेहपुर के बिंदकी में दर्दनाक हादसा ! बाइक सवार दो लोगों की मौत
Fatehpur Brajesh Pathak: फतेहपुर पहुंचे डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक अचानक क्यों भड़क उठे ! एक दिन का काटा वेतन
फतेहपुर थाना न्यूज़: मां-बेटे ने मिलकर पिता को लगाया 50 लाख का चूना ! तिकड़म जान कर रह जाएंगे भौचक्के
Fatehpur News: फतेहपुर में ससुराल गए युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौ'त ! परिजनों ने लगाया ह'त्या का आरोप
UPSC EPFO APFC Result 2024: फतेहपुर की विप्लवी बनी असिस्टेंट कमिश्नर ! गांव में ख़ुशी की लहर, जानिए लोगों ने क्या कहा

Follow Us