oak public school

Who Is Kanpati Maar Shankariya: कनपटी मार किलर जिसने 25 साल की उम्र में किए 70 कत्ल ! कोर्ट ने पांच महीने में दी फांसी, जानिए उसने मरने से पहले क्या कहा

कनपटी मार शंकरिया क्रिमिनल हिस्ट्री

वर्तमान के युवा उसके खौफ से वाकिफ न हो लेकिन पुराने लोगों के मुताबिक 70 के दशक में देश भर में इस युवक के नाम से ही लोग थर-थर कांपने (To Tremble) लगते थे. आलम तो यह था कि अब रात के समय लोगों ने सड़कों पर निकलना ही बंद कर दिया था. यही नहीं 25 की उम्र में साल के अंदर 70 लोगों को मौत के घाट (Death Row) उतार दिया और खतरनाक सीरियल किलर (Serial Killer) बन गया उसका डर ऐसा था कि अगर कोई कंबल ओढ़ दिख जाए तो अक्सर लोग अपना रास्ता ही बदल देते थे. इस हत्यारे का मारने का तरीका एक ही था.

Who Is Kanpati Maar Shankariya: कनपटी मार किलर जिसने 25 साल की उम्र में किए 70 कत्ल ! कोर्ट ने पांच महीने में दी फांसी, जानिए उसने मरने से पहले क्या कहा
कनपटी मार शंकरिया, image credit original source

रात के अंधेरे में कम्बल ओढ़कर अंजान लोगों को बनाता था निशाना

देखने में भोला-भाला उम्र केवल 25 साल लेकिन शौक ऐसा कि जिसे सुनकर एक बार के लिए आप सभी की रूह कांप जाएगी. दरअसल राजस्थान (Rajasthan) का यह सीरियल किलर शंकरिया (Shankariya) जिसे लोगों का कत्ल करना बड़ा ही अच्छा लगता था. उसके मुताबिक उसे लोगों को चिल्लाता और तड़पता हुआ दिखने से दिल को सुकून मिलता था इसलिए वह हथौड़ा मार कर लोगों की जान ले लिया करता था उसने अपने जीवन काल में जितने भी मर्डर किये थे सभी की कनपटी यानी कान के नीचे हथौड़े से गर्दन के पास वार करता था जिससे आदमी तड़प तड़प कर मर जाता था. इसलिए उसे कनपटीमार किलर का नाम दिया था आईए जानते हैं कौन था यह कनपटी मार सीरियल किलर....

कौन था शंकरिया?

कनपटी मार (Kanpati Maar) सीरियल किलर (Serial Killer) यानी शंकरिया का जन्म साल 1952 में राजस्थान (Rajasthan) के जयपुर (Jaipur) में हुआ था, लेकिन बचपन से ही उसकी सोच और रहन-सहन बाकी बच्चों से थोड़ा अलग थी. धीरे-धीरे बड़ा होता गया और उसका स्वाभाव बड़ा ही अजीब सा होने लगा. लेकिन ऐसे में सोचने वाली बात यह भी है कि उसने केवल मजे के लिए एक के बाद एक 70 लोगों को मौत के घाट उतार दिया. वही जब पुलिस ने उसे अरेस्ट किया तो उसने बताया कि जिनको भी उसने मारा है वह उन्हें जनता भी नहीं था वह तो केवल लोगों के कराहने और चीख सुनकर काफी खुश होता था इसलिए उसने 70 लोगों को मार डाला. इन सब बातों को सुन पुलिस भी हैरान हो गयी.

serial_killer_brutal_murder_with_hammer
हथौड़े से कनपटी पर वार करता था, image credit original source

अलग-अलग 70 हत्याएं लेकिन तरीका एक

70 के दशक में राजस्थान में एक के बाद एक हो रही हत्याओं की घटनाएं पुलिस के लिए सर दर्द बन चुकी थी पूरे राजस्थान जिले के अलग-अलग शहरों से रोजाना एक-दो हत्याएं हो रही थी लेकिन सुराग हाथ नहीं लग पा रहा था. वही जब कत्ल की यह वारदातें बढ़ने लगी तो पुलिस ने इन सभी हत्याओं की जब कड़ी बनाई तो उसमें पाया गया की सारी हत्याएं एक ही तरह से हो रही है. जिनमें किसी अंजान व्यक्ति द्वारा लोगों के गर्दन व कान के नीचे यानी कनपटी पर वार किया जा रहा है जिसे देखकर एक बार ऐसा लगता है कि कोई भारी हथियार से लोगों के कान के नीचे गर्दन पर वार करके उन्हें मौत के घाट उतारा जा रहा है.

खौफ के चलते लोगों ने रात के समय निकलना किया बन्द

अब राज्य में यह बात फैलने लगी और पुलिस की गश्त बढ़ा दी गयी लेकिन अलग-अलग इलाको में ठीक वैसा ही मौत का नजारा चलता रहा. यह बात फैलने लगी कि रात के अंधेरे में कोई अंजान शख्स कंबल ओढ़ कर सड़कों पर निकलता है और रास्ते में चल रहे अकेले आदमी पर पीछे से कान व गर्दन पर हथौड़े से वार कर देता है यह वार इतना तेज होता है कि आदमी की तुरंत ही मौत हो जाती है. कई अखबारों में यह मामला चर्चाओं में आ गया.

Read More: Rajasthan Crime In Hindi: भाभी और ननद से गैंगरेप ! ब्लैकमेलिंग का खेल, मीडिया में बयान फिर किया मौत के हवाले

इस अंजान हत्यारे को 'कनपटीमार' का नाम दिया गया. उधर दूसरी तरफ लोगों में इस अंजान सीरियल किलर का खौफ इस कदर हावी था कि लोगों ने रात के अंधेरे में सड़क पर निकलना ही बंद कर दिया था अक्सर यह उन्हीं लोगों को शिकार बनाता था जो लोग अकेले होते थे क्योंकि उसे डर था कि यदि एक या दो से अधिक लोग होने पर वह पकड़ा जाएगा. इसलिए वह केवल अकेले आदमी को ही अपना शिकार बनाकर उसे मौत की नींद सुला दिया करता था.

Read More: Hardoi Crime In Hindi: प्रेमी के साथ मिलकर खेत में पति की कर दी हत्या ! फिर वहीं मनाई रंगरेलियां, घटनास्थल पर मिली चप्पल से हुआ हत्या का खुलासा

shankariya_covered_with_blanket_killed_peoples
कम्बल ओढ़कर निकलता था शंकरिया, image credits original source
कम्बल ओढ़कर करता था अपने शिकार का इंतजार

अक्सर रात के अंधेरे में यह सीरियल किलर खुद को छुपाने के उद्देश्य से एक कंबल ओढ़ कर सड़क किनारे बैठ जाया करता था और उस रास्ते से गुजरने वाले लोगों का इंतजार किया करता था ऐसे में जो भी व्यक्ति उसे अकेला दिखता था वह उसे पीछे से दौड़ाकर उसके कान के नीचे गर्दन के पास एक भारी हथौड़े से वार करके उसकी हत्या कर दिया करता था. साल 1978 से 1979 के बीच उसने एक के बाद एक 70 लोगों को मौत की नींद सुला दी. उसके तांडव से आम आदमी के साथ-साथ पुलिस भी हैरान और परेशान थी. कई चश्मदीद लोगों ने बताया भी था कि सड़क पर कम्बल ओढ़कर व्यक्ति बैठा था पास गए तो उसने अंदर छिपा रखे हथौड़े से वार करना चाहा, भागकर जान बचाई. पुलिस ने सभी चश्मदीदों को बुलाया और उसका हुलिया पूछा. स्केच बनवाये गए और तब यह आइडिया लगा कि इस किलर की उम्र ज्यादा नहीं लग रही.

Read More: Saharanpur Crime In Hindi: 58 वर्षीय शख्स ने ब्लेड से काटा अपना प्राइवेट पार्ट ! खून से लथपथ और तड़पता रहा दर्द से, वजह जानकार दंग रह जाएंगे आप

आखिरकार एक दिन पुलिस के हत्थे चढ़ गया सीरियल किलर

लेकिन वो कहते हैं ना की कातिल चाहे जितना भी शातिर हो एक न एक दिन वह कानून के शिकंजे में आ ही जाता है. इसलिए उसके बढ़ते हुए अपराध को देखते हुए पुलिस की कई टीमें अलग-अलग स्थान पर आम आदमी की तरह रात के अंधेरे में छुपकर अब सीरियल किलर का इंतजार करने लगी ऐसे में एक रात वह सीरियल किलर सड़क किनारे पेड़ की ओट लिए घात लगाए कम्बल ओढ़े हुए बैठा था शायद वह अपने अगले शिकार का इंतजार कर रहा था लेकिन इस बार उसकी किस्मत इतनी अच्छी नहीं थी जैसे ही उसने एक और व्यक्ति की हत्या करना चाही पुलिस ने उसे धर दबोचा इस दौरान पुलिस ने उसके पास से हत्या में प्रयोग किए जाने वाले हथौड़े और एक कंबल को भी बरामद किया.

कबूल किया अपना गुनाह

पुलिस जब उसे गिरफ्तार करके थाने ले आई तो एक बार के लिए पुलिस को भी उस पर विश्वास नहीं हुआ कि राजस्थान राज्य में दहशत लाने और 70 लोगों को मौत के घाट उतारने वाला यह वही लड़का है. क्योंकि देखने में काफी भोला-भाला उम्र महज 25 साल जैसे की हत्या करना मानो कोई बच्चों का खेल हो. हालांकि पुलिसिया पूछताछ के दौरान उसने अपना सारा गुनाह कबूल कर लिया.

लेकिन उसने जो बात बताई वह सुनकर पुलिस भी हैरान और परेशान रह गई दरअसल उसने बताया कि उसने जितने भी लोगों को मारा है वह उन्हें जानता भी नहीं था वह केवल अपने मजे के लिए इन लोगों की हत्याएं कर रहा था उसका ऐसा कहना था कि लोगों की चीख सुनना उसे बड़ा ही पसंद था. इसलिए वह एक के बाद एक लोगों को मारता जा रहा था और पुलिस ने पूछा अब तक तुम 60 हत्याएं कर चुके हो तो उसने खुद बताया कि नहीँ आप गलत है अभी तक मैं 70 लोगों को मार चुका हूँ.

कनपटीमार के अंतिम शब्द सुनकर सभी हुए हैरान

वहीं पुलिस ने उसके बयान दर्ज करते हुए उसे कोर्ट के सामने पेश किया गया जहां पर कोर्ट ने भी इस मामले को गंभीरता से लेते हुए महज 3 महीने के अंदर ही इस कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई करते हुए उसे फांसी की सजा सुना दी. 16 मई 1979 को उसे फांसी दे दी गयी. सीरियल किलर कनपटिमार शंकरिया ने फांसी दी जाने से पहले एक ऐसी बात कही जिससे सभी के होश उड़ गए दरअसल उसने कहा कि "मैंने बेवजह ही हत्याएं की है किसी को मेरी तरह नहीं बनना चाहिए" 70 लोगों की हत्याएं करने वाले इस सीरियल किलर की यह अंतिम बातें सुनकर सभी को लगा कि उसे अपने किए का पछतावा है लेकिन वह कहते हैं ना कि जुर्म कोई भी कर लो उसका अंत काफी बुरा होता है यहां पर भी कुछ यही देखने को मिला.

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

UP Board Result 2024 Intermediate Topper: यूपी बोर्ड की इंटरमीडिएट परीक्षा में सीतापुर के शुभम वर्मा टॉपर ! फतेहपुर को मिला तीसरा स्थान UP Board Result 2024 Intermediate Topper: यूपी बोर्ड की इंटरमीडिएट परीक्षा में सीतापुर के शुभम वर्मा टॉपर ! फतेहपुर को मिला तीसरा स्थान
उत्तर प्रदेश बोर्ड (UP Board) साल 2024 का इंटरमीडिएट परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया गया है. सीतापुर (Sitapur) के शुभम...
UP Board Result 2024 High School Topper: यूपी बोर्ड हाईस्कूल की परीक्षा में ये रहे टॉपर ! फतेहपुर में इन्होंने मारी बाजी
Fatehpur Local News: मौत बांट रहे हैं फतेहपुर के नर्सिंग होम ! धृतराष्ट्र बना स्वास्थ्य विभाग
Fatehpur UP News: फतेहपुर में पकड़ा गया अंतर्जनपदीय टप्पेबाज गैंग ! काली बुलेरो से ज्वैलरी शॉप को करते थे टार्गेट
Fatehpur News: जब निषादराज के लिए करुणा निधान बन उठ गए सहस्त्र हांथ ! विलख रहे पिता के नेत्र से निकल रही थी अविरल धारा
Google Pixel 8 A Smartphone: गूगल पिक्सल लवर्स के लिए खुशखबरी ! अगले महीने फीचर्स से भरपूर, लॉन्च हो सकता है यह नया स्मार्टफोन
Upsc Vishal Dubey Success Story: हवलदार पिता का सपना पूरा कर बेटा बनेगा आईपीएस अफसर

Follow Us