Brahmacharinni Devi: नवरात्रि के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी (तपश्चारिणी) की करें उपासना ! तप, संयम और दीर्घायु में होती है वृद्धि

Navratri 2nd Day: शारदीय नवरात्रि के दूसरे दिन माँ दुर्गा के दूसरे स्वरूप ब्रह्मचारिणी मां का दिन होता है, इनके पूजन का विशेष महत्व है, माँ का यह स्वरूप भक्तों को अनंत फल देने वाला है. माता की उपासना से तप, त्याग, ब्रह्मचर्य और संयम की वृद्धि होती है. भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए माता पार्वती ने हज़ारो वर्ष कठोर तपस्या की थी, इन्हें तपश्चारिणी यानी तप का आचरण करने वाली देवी और ब्रह्मचारिणी भी कहा जाता है.

Brahmacharinni Devi: नवरात्रि के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी (तपश्चारिणी) की करें उपासना ! तप, संयम और दीर्घायु में होती है वृद्धि
माँ ब्रह्मचारिणी की करें आज उपासना, फोटो साभार सोशल मीडिया

हाईलाइट्स

  • शारदीय नवरात्रि के दूसरे दिन माता ब्रह्मचारिणी की करें आराधना
  • माता को तपश्चारिणी और ब्रह्नचारिणी भी कहा जाता है, तप,संयम और ब्रह्मचर्य में होती है वृद्धि
  • गुड़हल और कमल के पुष्प मां को प्रिय, शिव जी को पति रूप में पाने के लिए मां ने की थी हज़ारो वर्ष कठोर त

Worshiping Mata Brahmacharini on the second day of Navratri : माँ दुर्गा के नवरात्रि के नौ दिन के पूजन का विशेष फल मिलता है, हर दिन मां के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा की जाती है. ब्रह्माचारिणी माता जिन्होंने कठोर तपस्या की थी, ब्रह्मचारिणी का अर्थ तप का आचरण करने वाली, जानिए किस तरह से माता ब्रह्मचारिणी की पूजा करें, और इसके पीछे क्या कथा प्रचलित है.

माँ ब्रह्नचारिणी की करें उपासना

शारदीय नवरात्रि में माँ दुर्गा के 9 स्वरूपों की पूजा की जाती है, इन स्वरूपों में एक स्वरूप ब्रह्मचारिणी माता का भी है, नवरात्रि के दूसरे दिन माता ब्रह्नचारिणी की पूजा का महत्व है. देवी माता की विधि-विधान से उपासना करने से तप,धैर्य और संयम में बढोत्तरी होती है. माँ ब्रह्मचारिणी को तप की देवी कहा गया है, मां की उपासना से समस्त संसार के सुख प्राप्त होते हैं और दीर्घायु का आशीर्वाद मिलता है.

दाएं हाथ में जप की माला और बाएं में कमंडल

Read More: Ram Lala Darshan: रघुनंदन राघव राम हरे ! करिए राम लला के प्रथम दर्शन, जानिए उनकी प्रतिमा की विशेषता

देवी माता का स्वरूप अद्भुत है, श्वेत वस्त्र धारण किए माता, दाएं हाथ में जप की माला और बाएं हाथ में कमंडल है, तभी इन माता को तपश्चारिणी या ब्रह्मचारिणी माता कहा गया है.इनका वाहन पर्वत की चोटी को बताया गया है, इनके पूजन और आराधना से सम्पूर्ण विषयों का ज्ञान और मंत्र सिद्धि प्राप्त होती है. मां के इस स्वरूप को गुड़हल और कमल पुष्प प्रिय है,इसके साथ ही शक्कर या खीर के भोग मां को लगाया जाता है,इससे माँ प्रसन्न होती है.

Read More: Jaya Kishori Biography: जानिए कौन हैं कथावाचिका 'जया किशोरी'? बाल्यकाल से ही भगवान श्रीकृष्ण के प्रति रही अटूट आस्था

एक कथा है प्रचलित

Read More: Swati Mishra Bhajan Singer: 'राम आयेंगे तो अंगना सजाऊंगी' भजन गाने वाली स्वाती मिश्रा कौन हैं? जिनकी Narendra Modi ने की तारीफ़

ब्रह्माचारिणी देवी ने राजा हिमालय के घर पुत्री रूप में जन्म लिया था, इन्हें माता पार्वती भी कहते हैं, ऐसा बताया जाता है कि नारदजी के उपदेश से  माता ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त करने के लिए कठिन हज़ारो वर्ष तपस्या की थी, इस कठिन तपस्या के कारण इन्हें तपश्चारिणी या फिर ब्रह्मचारिणी नाम से जाना गया, माता की घोर कठिन तपस्या देख देवता और ऋषि भी अचंभित हो उठे, करीब 1 हजार वर्ष तक माता ने केवल फल-फूल खाकर बिताए और सौ वर्षों तक केवल जमीन पर रहकर शाक पर निर्वाह किया. अंत में भोलेनाथ माता की तपस्या से प्रसन्न हुए.

इस तरह करें पूजन

माँ दुर्गा के 9 स्वरूप में से दूसरा स्वरूप मां ब्रह्माचारिणी का है, दूसरे दिन माँ तपश्चारिणी अर्थात ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है. सुबह जल्द उठकर, स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण कर लें.  पंचामृत से स्नान कराएं. इसके बाद मां को अक्षत, चंदन और रोली चढ़ाएं. कमल और गुड़हल के पुष्प अर्पित करें. उसके बाद कलश देवता और नवग्रह की विधि विधान से पूजा करें. फिर दीपक से मां की आरती उतारें और उनका ध्यान करें. मां ब्रह्माचारिणी को पीले रंग की मिठाई का भोग जरूर लगाएं.

इन मंत्रों का जाप करें

या देवी सर्वभूतेषु माँ ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

दधाना कर पद्माभ्याम अक्षमाला कमण्डलू।

देवी प्रसीदतु मई ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा।।

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Kanpur Crime In Hindi: एक लाख का इनामिया हिस्ट्रीशीटर अजय ठाकुर को क्राइम ब्रांच ने राजधानी दिल्ली से किया गिरफ्तार Kanpur Crime In Hindi: एक लाख का इनामिया हिस्ट्रीशीटर अजय ठाकुर को क्राइम ब्रांच ने राजधानी दिल्ली से किया गिरफ्तार
कानपुर पुलिस ने एक लाख के इनामिया हिस्ट्रीशीटर (Historysheeter) अजय ठाकुर को गिरफ्तार (Arrested) कर लिया है. यह गिरफ्तारी एसटीएफ...
Akhilesh Yadav News: बोले अखिलेश ! चुनाव आते ही नोटिस आने लगते हैं, सीबीआई के सामने नहीं होंगे पेश, जानिये किस मामले में भेजा गया समन?
Kanpur Crime In Hindi: लापता किशोरियों के बेर के पेड़ पर झूलते मिले शव ! परिजनों ने लगाए भट्टे ठेकेदार पर गम्भीर आरोप
Who Is Kanpati Maar Shankariya: कनपटी मार किलर जिसने 25 साल की उम्र में किए 70 कत्ल ! कोर्ट ने पांच महीने में दी फांसी, जानिए उसने मरने से पहले क्या कहा
Barabanki Cheating In LLB Exam: सरकार के नियम व कानून ठेंगें पर रख नकल माफियाओं ने उड़ाई धज्जियां ! 'कानून' की परीक्षा में गाइड रखकर की जा रही सामूहिक नकल का वीडियो वायरल
Sonbhadra Crime In Hindi: रिलेशनशिप में रहने के बावजूद नहीं कर रहा था शादी ! इसलिए गर्लफ्रेंड का कर डाला मर्डर
Gorakhpur Crime In Hindi: कलयुगी पिता ने हैवानियत की हद की पार ! अश्लील वीडियो दिखाकर बेटी के साथ करता रहा दरिंदगी, मना करने पर पीड़िता को किया घायल अब मौके से हुआ फरार

Follow Us