Saphala Ekadashi 2024: साल की पहली एकादशी 'सफला एकादशी' का करें व्रत ! मिलेगा मोक्ष, जानिए पूजन महत्व और मुहूर्त

हमारे हिन्दू धर्म में एकादशी व्रत (Ekadashi Fast) का बड़ा ही महत्व है. साल में कई एकादशी पड़ती हैं. साल 2024 की शुरुआत हो चुकी है और इस साल की पहली एकादशी 7 जनवरी को पड़ रही है. इस एकादशी को सफला एकादशी (Saphala Ekadashi) कहते हैं. एकादशी का दिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu) को समर्पित होता है. सफला एकादशी (Saphala Ekadashi) का व्रत करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं.

Saphala Ekadashi 2024: साल की पहली एकादशी 'सफला एकादशी' का करें व्रत ! मिलेगा मोक्ष, जानिए पूजन महत्व और मुहूर्त
सफला एकादशी 2024, फोटो साभार सोशल मीडिया

साल की पहली एकादशी सफला एकादशी

एकादशी का दिन भगवान विष्णु को समर्पित हैं. साल की पहली एकादशी 7 जनवरी यानी रविवार को पड़ेगी. यह एकादशी काफी शुभ संयोग लेकर भी आ रही है. एक तो साल की पहली एकादशी है, तो जाहिर है कुछ खास तो होगी ही. पौष माह के कॄष्ण पक्ष की एकादशी को सफला एकादशी (Saphala Ekadashi) कहते हैं. सफला एकादशी के व्रत का बड़ा महत्व है. विधि-विधान से व्रत पूजन करने से भगवान विष्णु की कृपा उनके भक्तों पर बरसती है. उनके सभी कार्य सिद्ध होते हैं. घर में सुख-समृद्धि आती है. चलिए आपको बताएंगे कि सफला एकादशी का शुभ मुहूर्त क्या है, कबसे एकादशी लगेगी और कब समाप्त होगी. इस एकादशी के पीछे क्या कथा प्रचलित है यह भी आपको बताएंगे.

सफला एकादशी का व्रत विधि विधान से करें बरसती है कृपा

सफला एकादशी (Saphala Ekadashi) का व्रत और पूजन का विशेष महत्व होता है. मान्यताओं के अनुसार भगवान श्री हरि का पूजन जो भक्त विधि विधान से करता है वह हमेशा दुखों से दूर रहता है, घर में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहती है. इस दिन रात्रि को जागरण करना चाहिए और श्री हरि का जाप करते रहना चाहिए. जो लोग सफला एकादशी का व्रत विधि-विधान से करते हैं उन्हें मोक्ष व स्वर्ग की प्राप्ति होती है. इस दिन गरीब और ब्राह्मणों को भोजन कराएं जो काफी फलदायी होता है.

सफला एकादशी को लेकर कथा है प्रचलित

एक पौराणिक कथा के अनुसार चंपावती नगर में एक राजा के चार पुत्र थे, इसमें एक पुत्र का नाम लुम्पक था वह अपने पिता के धन का दुरुपयोग करने लगा. मांसाहारी बन गया, लूटपाट व चोरी करने लगा. पिता अपने इस बेटे से तंग आकर उसे नगर से बाहर निकाल दिया. फिर भी उसने अपने इन कार्यों को नहीं छोड़ा और फिर से चोरी करने लगा. एक दिन उसे भूख लगी कई दिनों से उसने खाना भी नहीं खाया था. फिर वह थका-हारा जंगल में बनी एक कुटिया के पास जा पहुंचा. कुटिया में एक साधू महात्मा मौजूद थे, उसकी हालत देख उन्होंने लुम्पक को भोजन कराया. भोजन पाते ही लुम्पक को नया जीवन मिला.

मानो उसके नकारात्मक विचार और पापों का नाश हो गया हो. उसमें परिवर्तन हुआ और वह भगवान विष्णु का रात भर ध्यान करने लगा. उस दिन पौष मास के कृष्ण पक्ष की सफला एकादशी ही थी, वह पूरी तरीके से भगवान की शरण में चला गया उसने क्षमा मांगी. तब कुटिया में बैठे महात्मा अपने असली रूप रूप में आए और उन्होंने कहा कि जाओ बेटा अपने गृह नगर लौट जाओ और अपने पिता की सेवा करो भगवान श्री हरि का नाम लेकर वह नगर लौट गया और अपने पिता के राजपाट को संभाल लिया और जिस दिन उसने यह कार्य किया उस दिन सफला एकादशी का दिन था. फिर वह एकादशी का व्रत करने लगा बाद में लुम्पक को संतान प्राप्ति हुई और अंत में मोक्ष की प्राप्ति हुई.

Read More: Mohini Ekadashi 2024 Kab Hai: जानिए कब रखा जाएगा मोहिनी एकादशी का व्रत ! क्या है इस एकादशी का पौराणिक महत्व

कबसे लग रही है एकादशी क्या है मुहूर्त?

सफला एकादशी 7 जनवरी की रात 12 बजकर 41 मिनट पर शुरू होगी और समाप्त 8 जनवरी को 12 बजकर 46 मिनट पर होगा. व्रती लोगों के पारण का समय 8 जनवरी सुबह 7:15 से 9:20 तक रहेगा.

Read More: Akshay Tritiya 2024: आज है अक्षय तृतीया का पावन पर्व ! दान-पुण्य और सोना खरीदने का है बड़ा महत्व

सफला एकादशी के दिन जल्द सुबह उठकर नित्य क्रिया कर स्नान कर लें. इसके बाद स्वच्छ वस्त्र धारण करके व्रत का संकल्प लें. फिर भगवान विष्णु की पूजा शुरू करें. सबसे पहले जल, पंचामृत आदि से अभिषेक करें इसके बाद पीले फूल, पीला चंदन, माला आदि चढ़ाने के साथ अनार, लौंग, पुरारी, नारियल, भोग लगाने के साथ जल चढ़ाएं. इसके बाद घी का दीपक और धूप जलाकर एकादशी व्रत कथा, विष्णु चालीसा, विष्णु मंत्र करें. फिर आरती करें और भगवान का स्मरण कर रात्रि जागरण करें.

Read More: Narsimha Jayanti 2024: कब है नरसिंह जयंती ! भक्त प्रह्लाद की रक्षा और राक्षस हिरण्यकश्यप के अत्याचारों का अंत करने के लिए भगवान ने धारण किया नरसिंह अवतार

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Bindki Accident News: फतेहपुर के बिंदकी में दर्दनाक हादसा ! बाइक सवार दो लोगों की मौत Bindki Accident News: फतेहपुर के बिंदकी में दर्दनाक हादसा ! बाइक सवार दो लोगों की मौत
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) में सड़क हादसे में बाइक सवार दो लोगों की मौत हो गई. घटना...
Fatehpur Brajesh Pathak: फतेहपुर पहुंचे डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक अचानक क्यों भड़क उठे ! एक दिन का काटा वेतन
फतेहपुर थाना न्यूज़: मां-बेटे ने मिलकर पिता को लगाया 50 लाख का चूना ! तिकड़म जान कर रह जाएंगे भौचक्के
Fatehpur News: फतेहपुर में ससुराल गए युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौ'त ! परिजनों ने लगाया ह'त्या का आरोप
UPSC EPFO APFC Result 2024: फतेहपुर की विप्लवी बनी असिस्टेंट कमिश्नर ! गांव में ख़ुशी की लहर, जानिए लोगों ने क्या कहा
Fatehpur UPPCL News: फतेहपुर के बिजली विभाग में 14 सालों से जमा बुद्धराज बाबू हटाया गया ! इस एक्सईन का था राइट हैंड
Fatehpur Snake News In Hindi: नौ बार तुम्हें काटूंगा 8 बार तू बच जाएगा ! कोई नहीं बचा पाएगा तुझे, जानिए फतेहपुर की रहस्यमय घटना

Follow Us