oak public school

Akshaya Tritiya 2023 : आखिर क्यों मनाई जाती है अक्षय तृतीया क्या कहता है भविष्य पुराण ?

Akshaya Tritiya 2023 Date : प्रत्येक वर्ष वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया के रूप में मनाया जाता है इसे आखा तीज के नाम से भी जानते हैं. इस पर्व को भगवान भगवान परशुराम की जयंती के रूप में भी मनाया जाता है. कहते हैं कि इस दिन किए गए शुभ काम आपके जीवन को सफ़ल बनाते हैं

Akshaya Tritiya 2023 : आखिर क्यों मनाई जाती है अक्षय तृतीया क्या कहता है भविष्य पुराण ?
क्या है अक्षय तृतीया का पौराणिक महत्त्व : Akshya Tritiya 2023

हाईलाइट्स

  • अक्षय तृतीया का क्या है विशेष महत्व पुराणों ने इसे क्यों बताया है विशेष तिथि ?
  • अक्षय तृतीया के दिन ही मां गंगा धरती पर हुईं थीं अवतरित, मां अन्नपूर्णा भगवान विष्णु के कई अवतार सहि
  • अक्षय तृतीया पर होता है सर्वसिद्धि मुहुर्त सोमवार और रोहणी नक्षत्र प्रदोष काल का होता है विशेष महत्व

Akshaya Tritiya 2023 Date Shubh Muhurat Katha : साल भर की पड़ने वाली शुक्ल पक्ष की तृतीया का अपना महत्व होता है लेकिन वैशाख महीने की शुक्ल पक्ष तृतीया अपना विशेष महत्व रखती है जिसे अक्षय तृतीया आखा तीज या अक्षय तीज के नाम से जाना जाता है. शास्त्रों में वर्णित है की इस दिन बिना विचार विमर्श और पंचांग देखे बिना कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है. इस दिन भगवान परशुराम जी की जयंती के रूप मे भी मनाया जाता है.

अक्षय तृतीया तिथि को लेकर क्या कहता है भविष्य पुराण (Importance of Akshaya Tritiya According To Bhavishya Puran)

अक्षय तृतीया को सर्वसिद्ध मुहूर्त के रूप में भी जाना जाता है इस दिन किए गए कार्य में सफलता अवश्य मिलती है. भविष्य पुराण के अनुसार सतयुग, त्रेता और कलयुग का आरंभ भी अक्षय तृतीया तिथि को ही हुआ था साथ ही द्वापर काल समाप्ति भी इसी तिथि को हुई थी. पुराणों के अनुसार भगवान विष्णु ने मत्स्य, हयग्रीव, कूर्म, वाराह और नृसिंह का अवतार इसी तिथि को हुआ था साथ ही भगवान परशुराम राम की जयंती (Parshuram Jayanti) भी इस दिन मानने का महत्व है.

पुराणों में वर्णन है की भगीरथ ने अपने पितरों का उद्धार करने के लिए कठोर तपस्या की थी और जिस दिन मां गंगा का धरती पर अवतरण हुआ वह तिथि अक्षय तृतीया की थी. कहते हैं की इस दिन पिंडदान और पूर्वजों की पूजा अर्चना करने से उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है. पुराणों के अनुसार मां अन्नपूर्णा का अवतरण भी इसी तिथि को हुआ था इसलिए दिन उनकी पूजा अर्चना और दान पुण्य करने से लोगों के धन धान्य भरे रहते हैं.

Read More: Basant Panchami 2024: जानिए देश के इन राज्यों में कैसे मनायी जाती है बसंत पंचमी ! हर जगह का अलग ही महत्व

अक्षय तृतीया में इन शुभ कार्यों की करें शुरुवात (Importance Of Akshaya Tritiya)

Read More: Vikram Samvat Hindu Nav Varsh 2024: विक्रम संवत की शुरुआत कब हुई? क्यों कहा जाता है इसे हिंदू नववर्ष

कहते हैं कि अक्षय तृतीया तिथि के दिन का सर्वसिद्ध मुहूर्त होता है जिसका विशेष महत्त्व है. इस दिन बिना पंचांग देखे ही शुभ और मांगलिक कार्य किए जा सकते हैं उनमें विवाह, गृह-प्रवेश, आभूषणों वस्त्रों की खरीददारी, घर खरीदा जमीन खरीदना वाहन लेना और किसी भी शुभ कार्य की शुरुवात की जा सकती है लेकिन फिर भी किसी विद्वान ज्योतिषाचार्य से परामर्श करना अति आवश्यक होता है. कहते हैं कि सोमवार के दिन होने वाली अक्षय तृतीया का विशेष महत्व होता है अगर तृतीया तिथि प्रदोष काल तक रहती है तो उस समय पूजा अर्चना हवन और दान करने से कई मनोरथ पूर्ण होते हैं.

Read More: Chaitra Navratri 2024 Kab Hai: जानिए चैत्र नवरात्रि कब से हो रही प्रारम्भ ! माता के 9 स्वरूपों के पूजन का महत्व, घोड़े पर सवार होकर आएंगी मां

अक्षय तृतीया 2023 का मुहूर्त (Akshaya Tritiya 2023 muhurat)

1 - अक्षय तृतीया तिथि शुरू - 22 अप्रैल 2023, सुबह 07.49 मिनट

2 - अक्षय तृतीया तिथि समाप्ति -  23 अप्रैल 2023, सुबह 07.47 मिनट

3 - पूजा मुहूर्त - सुबह 07.49 -  दोपहर 12.20 (22 अप्रैल 2023) प्रदोष काल की पूजा अति महत्वपूर्ण 

4 - सोना कब खरीदें शुभ मुहूर्त - 22 अप्रैल 2023, सुबह 07.49 - 23 अप्रैल 2023, सुबह 07.47

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Sitapur Daroga Suicide News: फतेहपुर निवासी सीतापुर में तैनात दारोगा ने खुद को गोली से उड़ाया ! एसपी चक्रेश मिश्रा कर रहे हैं जांच Sitapur Daroga Suicide News: फतेहपुर निवासी सीतापुर में तैनात दारोगा ने खुद को गोली से उड़ाया ! एसपी चक्रेश मिश्रा कर रहे हैं जांच
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सीतापुर (Sitapur) के मछरेहटा थाने में तैनात दारोगा मनोज कुमार (Manoj Kumar) ने सर्विस रिवाल्वर...
Kanpur Buddha Devi Temple: कानपुर में दो सौ साल पुराना ऐसा देवी मंदिर ! जहां मिठाई की जगह हरी सब्जियों का लगता है भोग
Kanpur Dehat News: पारिवारिक कलह के चलते 7 महीने के बच्चे की माँ ने उठाया खौफ़नाक कदम ! जिसे सुनकर सभी की आंखे हुई नम
Harisiddhi Mata Shaktipith: उज्जैन नगरी में सिद्ध शक्तिपीठ हरिसिद्घि माता के करें दर्शन, यहाँ माता के हाथ की गिरी थी कोहनी
Kashi Vishwanath Police Pujari: काशी विश्वनाथ मंदिर में पुजारी की वेशभूषा में ड्यूटी करेंगे पुलिसकर्मी ! सपा अध्यक्ष ने साधा निशाना
Fatehpur News Today: फतेहपुर में भाजपा नेता समेत दस के खिलाफ़ मुकदमा ! कोर्ट के आदेश पर कार्रवाई
Crime In Fatehpur: फतेहपुर में ईद के दिन खूनी खेल ! मटन की दुकान में शेर अली के सीने पर कई वार

Follow Us