×
विज्ञापन

UP:फर्रुखाबाद में अघोषित बिजली कटौती से बर्बाद हो रही है किसानों की फ़सल..!

विज्ञापन

यूपी के फर्रूखाबाद ज़िले में ग्रामीण क्षेत्र में हो रही अघोषित बिजली कटौती से किसानों के सामने फसलों को बचाने का संकट पैदा हो रहा है..पढ़े पूरी खबर युगान्तर पर..

फर्रुखाबाद:जहाँ एक ओर देश कोरोना जैसी महामारी से जूझ रहा है।वहीं दूसरी ओर बिजली न मिल पाने की वजह से किसानों को फसलों के बर्बाद होने का अंदेशा सता रहा है।बार बार शिकायत होने के बावजूद भी बिजली विभाग के जिम्मेदार समस्या का समाधान करने के लिए गम्भीर नहीं दिख रहे हैं!

ये भी पढ़े-मौसम:क्या है नौतपा जिसके चलते आग उगलने लगा है सूरज..!

जानकारी के अनुसार मोहम्मदाबाद क्षेत्र में पिछले कुछ समय से बिजली की भयंकर कटौती जारी है।जिसके चलते इलाक़े के किसानों में रोष व्याप्त हो गया है।गनेशपुर के किसानों ने युगान्तर प्रवाह संवाददाता से अपनी पीड़ा व्यक्त करते हुए कहा मक्का की फ़सल पूरी तरह से बर्बाद हो रही है।किसान अपनी पीड़ा सुनाते सुनाते रोने लगे।उन्होंने कहा कि मक्का की फसल खराब होने से अब किसान बर्बादी की कगार पर खड़ा हुआ है।किसानों का आरोप है कि इलाक़े के जेई और विधुत विभाग के अधिकारी बार बार शिकायत करने के बावजूद भी समस्या का समाधान नहीं कर रहे हैं।

ये भी पढ़े-लॉकडाउन:श्रमिकों को लेकर गुजरात से फर्रुखाबाद पहुँची श्रमिक स्पेशल.. स्टेशन पर मौजूद रहे डीएम एसपी..!

जिला कृषि अधिकारी डॉ राकेश कुमार ने बताया कि जनपद में इस समय लगभग 33000 हजार हेक्टेयर जमीन पर मक्के की फसल खड़ी है।जिसमे मोहम्दाबाद ब्लॉक में 5000 हजार हेक्टेयर के करीब व नवाबगंज ब्लॉक में 5500 हेक्टयर के बीच मक्के की फसल खड़ी है।

कृषि अधिकारी ने यह भी बताया कि मक्के की फसल में 6 से 8 बार सिचाई की जाती है।जो 15 से 18 दिन के अंतराल पर होती है।

ये भी पढ़े-CBSE Exam 2020:दशवीं औऱ बारहवीं की स्थगित हुई परीक्षाओं को लेकर आई है,ये बड़ी ख़बर..!

इस सम्बन्ध में जेई सुधीर कुमार का कहना था कि नीवकरोरी से आने वाली 33000 हजार लाइन पर काम की वजह से आपूर्ति सुचारू रूप से नही दे पा रहे हैं।जल्द से जल्द आपूर्ति सुचारू रूप से रोस्टर के हिसाब से ग्रामीण क्षेत्र में 16 से 17 घण्टे के बीच दी जाएगी।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।