चंद्रग्रहण2019:माघ पूर्णिमा पर 149 वर्ष बाद हो रहा खंडग्रास चंद्रग्रहण..नहीं कर सकेंगे अपने आराध्य के दर्शन.!

गुरु पूर्णिमा की रात्रि को होने वाला चंद्रग्रहण बेहद ख़ास बताया जा रहा है।ज्योतिषाचार्यो के अनुसार इसबार का चंद्रग्रहण 149 वर्षों के बाद 16 जुलाई की मध्य रात्रि होने वाला है।पढ़े चंद्रग्रहण और सूतक से जुड़ी ख़ास रिपोर्ट युगान्तर प्रवाह पर..

चंद्रग्रहण2019:माघ पूर्णिमा पर 149 वर्ष बाद हो रहा खंडग्रास चंद्रग्रहण..नहीं कर सकेंगे अपने आराध्य के दर्शन.!
फोटो साभार गूगल

युगान्तर प्रवाह डेस्क: आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा की मध्यरात्रि को होने वाला चंद्रग्रहण बेहद ख़ास बताया जा रहा है। खगोल शास्त्रियों के अनुसार 16 और 17 जुलाई की मध्य रात्रि को खंडग्रास चंद्रग्रहण दिखाई देगा।

यह भी पढ़े:महाशिवरात्रि पर बन रहा है दुर्लभ संयोग..इस विधि से करें पूजा।

149 वर्षों के बाद पड़ने वाला चंद्रग्रहण माह पूर्णिमा के दिन होने के कारण बेहद ख़ास बताया जा रहा है।

चंद्रग्रहण में कब लगेगा सूतक..क्या होगा ग्रहण का समय.?

Read More: Navratri Ke Totke Upay: नवरात्रि में अद्भुत है लौंग का ये प्रयोग ! धन की कमी होगी पूरी

16 जुलाई की मध्यरात्रि को होने वाला चंद्रग्रहण भारत में रात 1:31 से सुबह 4:31 तक होगा। धर्मशास्त्रों के अनुसार चंद्रग्रहण में सूतक 9 घंटे पहले 16 जुलाई को दिन में 4:30 से शुरू हो जाएगा। ग्रहण आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा को धनु राशि के उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में लग रहा है। यह ग्रहण 149 वर्ष बाद माघ पूर्णिमा के अवसर पर लग रहा है। इस ग्रहण से कुछ राशियों के लोगों पर शुभ प्रभाव पड़ेगा और कुछ राशियों पर अशुभ।

चंद्रग्रहण के 13 घंटे पहले से बंद रहेंगे चारो धामों के पट...

16 जुलाई को चंद्रग्रहण होने के कारण के सभी प्रमुख मंदिरों के साथ-साथ चारो धामों के पट शाम को चार बजे सूतक लगने के कारण बंद हो जाएंगे। जो दूसरे दिन बुधवार सुबह खुलेंगे। यानि चंद्रग्रहण के कारण 13 घंटे मंदिर के आराध्य के दर्शन नहीं हो सकेंगे। बताया जा रहा है कि भारत के साथ ही यह ग्रहण आस्ट्रेलिया, अफ्रीका, एशिया, यूरोप और दक्षिण अमेरिका में भी दिखाई देगा।

 खगोल शास्त्र के अनुसार क्या होता है चंद्रग्रहण.?

चंद्रग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते है जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता है। ऐसा तभी हो सकता है जब सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा इस क्रम में लगभग एक सीधी रेखा में स्थित हों। इस ज्यामितीय प्रतिबंध के कारण चंद्रग्रहण केवल पूर्णिमा को घटित हो सकता है।

Tags:

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Related Posts

Latest News

Fatehpur News Today: फतेहपुर के पिछड़े गांव का बेटा सेना में बना लेफ्टिनेंट ! किसान पिता के छलके आंसू Fatehpur News Today: फतेहपुर के पिछड़े गांव का बेटा सेना में बना लेफ्टिनेंट ! किसान पिता के छलके आंसू
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) में पिछड़े गांव के संदीप कुमार पाल (Sandeep Kumar Pal) ने NDA की...
Pradeep Mishra Radha Rani Controversy: राधा रानी टिप्पणी पर फंसे कथावाचक प्रदीप मिश्रा ! Premanand Maharaj ने दिया करारा जवाब
NEET 2024 NTA Supreme Court Judgment In Hindi: नीट परीक्षा 2024 के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दिया ये निर्णय ! अब बदल जाएगी मेरिट लिस्ट
Fatehpur News: फतेहपुर में नलकूप पर सो रहे किसान की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत ! पास में पड़ीं थीं बोतले, शरीर नीला था
Fatehpur Local News: फतेहपुर में ट्रक की टक्कर से दो की मौ'त ! रात भर रौंदते रहे वाहन
Modi Cabinet 3.O List 2024: नरेंद्र मोदी के कैबिनेट में किसको मिला कौन सा मंत्रालय ! यूपी के इस नेता को मिली महत्वपूर्ण जगह
Fatehpur News: फतेहपुर में पेशाब के बहाने बदमाश ने तान दी रायफल ! बीसी संचालक से लूट में तीन हुए गिरफ्तार

Follow Us