Shardiya Navaratri Katyayani Devi: नवरात्रि के छठवें दिन मां कात्यायनी की करें उपासना, जानिए क्या है पौराणिक महत्व

Shardiya Navaratri Katyayani Devi: शारदीय नवरात्रि में माँ दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा की जाती है. यह पवित्र 9 दिन माता का ध्यान,आराधना और उपासना करने से माँ प्रसन्न होती हैं. नवरात्रि का छठा दिन माता दुर्गा के छठे स्वरूप मां कात्यायनी का है, इस दिन माता कात्यायनी की पूजा करना लाभकारी होता है.मां की आराधना से विवाह में आ रही बाधाओं से मुक्ति मिलती है. माता ने ऋषि कात्यायन के घर पुत्री रूप में जन्म लिया था तभी से माता का नाम कात्यायनी देवी पड़ गया.

Shardiya Navaratri Katyayani Devi: नवरात्रि के छठवें दिन मां कात्यायनी की करें उपासना, जानिए क्या है पौराणिक महत्व
नवरात्रि के छठे स्वरूप मां कात्यायनी की करें उपासना, फोटो साभार सोशल मीडिया

हाईलाइट्स

  • शारदीय नवरात्रि के छठे दिन माँ कात्यायनी की करें आराधना और उपासना
  • माता का छठा स्वरूप कात्यायनी है,विधि विधान से करें इनका पूजन
  • ऋषि कात्यायन से जुड़ा है पौराणिक महत्व, माँ को भोग में शहद की खीर अर्पित करें

Navratri Worship Goddess Katyayani : नवरात्रि के हर दिन देवी माता के अलग-अलग स्वरूपों के पौराणिक महत्व के बारे में आपको बता रहे हैं, इन पावन दिनों में मां की उपासना करना फलदायी होती है. माता के इस छठवें स्वरूप कात्यायनी देवी के पूजन का विशेष महत्व है, इनके पूजन से सम्पूर्ण सुख की प्राप्ति होती है. चलिए जानते है मां के पूजन की विधि और इनकी उतपत्ति कैसे हुई थी.

छठे स्वरूप मां कात्यायनी की करें उपासना

नवरात्रि के दिनों में मां दुर्गा आदि शक्ति की पूजा की जाती है, भारत के कोने-कोने में कई शक्तिपीठ और प्रसिद्ध देवी मंदिर है, नवरात्रि के दिनों में देवी मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ती है, नवरात्रि के पावन 9 दिनों में माता दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों के पूजन का महत्व होता है. दुर्गा माता का छठवें स्वरूप मां कात्यायनी देवी है. नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी देवी का पूजन किया जाता है. मां को शहद की खीर का भोग लगाना चाहिए, जिससे माता प्रसन्न होती हैं. इसके साथ ही विधि विधान और सच्चे हृदय से जो भक्त मां की आराधना,उपासना करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण और जीवन में संपूर्ण सुख की प्राप्ति होती है.

जानिए कैसे पड़ा नाम मां कात्यायनी

Read More: Bhagwan Ki Murti Uphar Me deni Chahiye: भगवान की मूर्ति गिफ्ट में देनी चाहिए या नहीं ! प्रेमानन्द महाराज ने क्या बताया

कात्यायनी देवी माता से जुड़ी एक कथा भी प्रचलित है. प्राचीन काल में महर्षि कात्यायन हुआ करते थे, उन्होंने कठोर तपस्या कर मां को प्रसन्न किया मां ने कहा कि मांगो क्या वर मांगते हो, जिस पर कात्यायन ऋषि ने कहा कि मां मैं यह चाहता हूं कि आप मेरे घर पुत्री रूप में जन्म ले. जब पृथ्वी पर महिषासुर राक्षस का अत्याचार बढ़ गया था तब त्रिदेवों ने एक शक्ति को उत्पन्न किया. जिसने महर्षि कात्यायन के घर पुत्री रूप में जन्म लिया. ऋषि कात्यायन के नाम पर ही देवी का नाम कात्यायनी देवी पड़ा. भक्तो में माता के पूजन की अटूट आस्था जुड़ी हुई है, पूजन से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है, रोगों से मुक्ति मिलती है और शत्रुओं का भी नाश होता है.ध्यान करने के लिए गोधूलि बेला महतवपूर्ण समय है.

Read More: Akshay Tritiya 2024: आज है अक्षय तृतीया का पावन पर्व ! दान-पुण्य और सोना खरीदने का है बड़ा महत्व

इस मंत्र का करें जाप, पूजन से मन एकाग्र रहता है

Read More: Mohini Ekadashi 2024 Kab Hai: जानिए कब रखा जाएगा मोहिनी एकादशी का व्रत ! क्या है इस एकादशी का पौराणिक महत्व

या देवी सर्वभूतेषु मां कात्यायनी रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥

माँ कात्यायनी की पूजा- अर्चना से साधकों में सकारात्मक विचार बने रहते हैं, इनके पूजन से मन कभी इधर उधर नहीं भटक सकता है, कात्यायनी मां असुरों का नाश करने वाली देवी है, मां कात्यायनी के स्वरूप की बात करें तो उनका स्वरूप सोने जैसा चमकीला है, माता की चार भुजाएं हैं औ सवारी सिंह है, ऐसा भी आया है कि मां ने महिषासुर नामक दैत्य का वध किया था.

माता की आराधना से कन्याओं का शीघ्र विवाह हो जाता है

ऐसा आया है कि माता का सम्बन्ध भगवान कृष्ण और उनकी गोपिकाओं से रहा और ये बृज मंडल की अधिष्ठात्री देवी भी है. माता के पूजन से विवाह में आ रही बाधाओं से मुक्ति मिलती है. कन्याओं के जल्द विवाह के लिए इनकी पूजा करना श्रेष्ठ है. वैवाहिक जीवन के लिए भी इनकी पूजा लाभकारी होती है. अगर कुंडली में विवाह का योग क्षीण हो, माता के पूजन से इसमें लाभ मिलता है और फिर विवाह हो जाता है.

ऐसे करें पूजन

सुबह जल्द उठकर स्नान करने के बाद माता कात्यायनी का ध्यान करें, लाल कपड़ा बिछा लें चौकी पर, फिर उसपर माता की मूर्ति रखें, मंत्र का जाप करते हुए माता को पुष्प अर्पित करें. रोली और सिन्दूर का तिलक करें. इसके साथ ही शहद का भोग लगाएं. फिर दुर्गा सप्तशती का पाठ करें, आरती करें. मंत्र का जाप करें, जिससे माता प्रसन्न होती है, भक्तों पर कृपा करते हुए उन्हें सुख सम्पन्न बनाती हैं.

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Bindki Accident News: फतेहपुर के बिंदकी में दर्दनाक हादसा ! बाइक सवार दो लोगों की मौत Bindki Accident News: फतेहपुर के बिंदकी में दर्दनाक हादसा ! बाइक सवार दो लोगों की मौत
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) में सड़क हादसे में बाइक सवार दो लोगों की मौत हो गई. घटना...
Fatehpur Brajesh Pathak: फतेहपुर पहुंचे डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक अचानक क्यों भड़क उठे ! एक दिन का काटा वेतन
फतेहपुर थाना न्यूज़: मां-बेटे ने मिलकर पिता को लगाया 50 लाख का चूना ! तिकड़म जान कर रह जाएंगे भौचक्के
Fatehpur News: फतेहपुर में ससुराल गए युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौ'त ! परिजनों ने लगाया ह'त्या का आरोप
UPSC EPFO APFC Result 2024: फतेहपुर की विप्लवी बनी असिस्टेंट कमिश्नर ! गांव में ख़ुशी की लहर, जानिए लोगों ने क्या कहा
Fatehpur UPPCL News: फतेहपुर के बिजली विभाग में 14 सालों से जमा बुद्धराज बाबू हटाया गया ! इस एक्सईन का था राइट हैंड
Fatehpur Snake News In Hindi: नौ बार तुम्हें काटूंगा 8 बार तू बच जाएगा ! कोई नहीं बचा पाएगा तुझे, जानिए फतेहपुर की रहस्यमय घटना

Follow Us