×
विज्ञापन

फ़तेहपुर:बागी हुए सचान,कांग्रेस के टिकट पर चुनावी समर में कूदने की तैयारी!

विज्ञापन

फतेहपुर लोकसभा सीट बसपा के खाते में जाने से पूर्व में सपा के उम्मीदवार के तौर अपनी सियासी ज़मीन तैयार कर चुके राकेश सचान को तगड़ा झटका लगा है.. अब वो बागी बनने की तैयारी में हैं पढ़े युगान्तर प्रवाह की एक्सक्लुसिव रिपोर्ट।

फ़तेहपुर: सपा बसपा गठबंधन होने के बाद से दोनों पार्टियों में बगावत का दौर शुरू हो चुका है,सपा के कद्दावर नेता पूर्व सांसद राकेस सचान टिकट न मिलने से नाराज़ हैं।विश्वनीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार राकेश सचान ने बसपा खाते में सीट जाने के बाद अपनी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से बातचीत कर बसपा के सिंबल में टिकट लेकर चुनाव लड़ने की मांग की थी जिस पर अखिलेश ने सचान को आश्वासन देकर कहा था कि इस पर बसपा सुप्रीमो मायावती से बात की जाएगी।

लेक़िन मायावती ने यह प्रस्ताव मानने से इंकार कर दिया औऱ बसपा के कद्दावर नेता पूर्व विधायक सुखदेव वर्मा को फतेहपुर लोकसभा से प्रत्याशी बनाया।जिसके बाद से ही लगातार ये कयास लगाए जा रहे थे कि राकेश सचान सपा से बगावत कर किसी अन्य पार्टी के सिंबल से चुनाव लड़ सकते हैं।

 राकेश सचान का मानना है कि 2014 का लोकसभा चुनाव फतेहपुर में हारने के बाद वो लगातार वहां पर अपनी जमीन मजबूत कर रहे थे।एक-एक बूथ पर जाकर अपनी टीम खड़ी की है इसके लिए दिन रात मेहनत की है और जब चुनाव का वक्त आया तो यह सीट बसपा के खाते में चली गई।इस सम्बन्ध में जब राष्ट्रीय अध्यक्ष से बात की तो उन्होंने कहा सब ठीक हो जाएगा। कोई अश्वासन नहीं मिलने से नाराज राकेश सचान अब कांग्रेस पार्टी के संपर्क में हैं।

2014 के लोकसभा चुनाव में फतेहपुर से सांसद और केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने राकेश सचान को 306270 वोटो से हराया था।राकेश सचान फतेहपुर में तीसरे स्थान पर रहे थे और बसपा के अफजल सिद्दकी दूसरे स्थान पर रहे थे।2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की साध्वी निरंजन ज्योति को 485,994 वोट मिले थे।बसपा के अफजल सिद्दकी को 298,788 वोट मिले थे।सपा के राकेश सचान को 179,724 वोट मिले थे।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।