×
विज्ञापन

फतेहपुर:पूर्व प्रधान हत्याकांड-राजनीतिक षड्यंत्र में उलझ गई हत्या की गुत्थी..साध्वी की चौखट पर पहुँचे सैकड़ों ग्रामीण..!

विज्ञापन

थरियांव थाना क्षेत्र के फरीदपुर गाँव में हुई पूर्व प्रधान की हत्या की गुत्थी सुलझाने में लगी पुलिस मकड़जाल में फंसकर रह गई है!असली क़ातिल कौन हैं..इसका खुलासा अब तक नहीं हो सका है.पूर्व प्रधान हत्याकांड पर पढ़े युगान्तर प्रवाह की यह फाओअप रिपोर्ट।

फतेहपुर:थरियांव थाना क्षेत्र के फरीदपुर गाँव में हुई पूर्व प्रधान शिवशंकर सिंह यादव की हत्या की गुत्थी बुरी तरह उलझ गई है।पूरे मामले में तगड़ा राजनीतिक हस्तक्षेप के चलते पुलिस के ऊपर दबाव बढ़ गया है।लेकिन थरियांव पुलिस राजनीतिक दबाव में आकर जल्दबाजी में किसी निर्दोष को जेल भेजने के पक्ष में नहीं है।

ये भी पढ़े-फतेहपुर:पूर्व प्रधान हत्याकांड-रात्रि के अंधेरे में किसने दाग दी सीने में गोली..पूछताछ जारी..!

इधर दो दिनों से पुलिस पूछताछ के लिए मृतक के बेटे चमन को ढूंढ रही थी लेकिन वह पुलिस से दूर था।बेटे का इस तरह से पुलिस से दूर होना भी अपने आप में एक रहस्य बना हुआ है।अब ख़बर यह है कि रविवार रात पुलिस ने उसे ढूढ निकाला है।एक बार फ़िर से पुलिस उससे पूछताछ कर सकती है।

क्या राजनीति का शिकार हो रहे हैं वर्तमान ग्राम प्रधान.!

हत्या में नामजद आरोपी बनाए गए वर्तमान ग्राम प्रधान जय सिंह भाई शेर सिंह, उदय सिंह व अन्य से पुलिस लगातार पूछताछ कर रही है।लेकिन पुलिस को अब तक कोई ठोस सबूत नामजद आरोपियों के विरुद्ध हाँथ नहीं लगा है।पूरे क्षेत्र में यह चर्चा आम है कि वर्तमान ग्राम प्रधान को क्षेत्रीय राजनीतिक कारणों से साजिशन फँसाया जा रहा है।क्षेत्र के कुछ एक नेता इस पूरे मामले में जमकर राजनीति कर रहे हैं।ज़िले के एक जनप्रतिनिधि का दबाव भी पुलिस पर पड़ा है।अब ऐसा लग रहा है कि राजनीतिक प्रतिद्वंदता के चलते हत्या के बाद की पूरी पटकथा लिखी जा रही है।

सैकड़ो ग्रामीण पहुँचे केंद्रीय मंत्री साध्वी से मिलने..

रविवार को फरीदपुर गाँव से क़रीब एक सैकड़ा ग्रामीण जिसमें बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल थीं।जिला मुख्यालय स्थित केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति के आवास पर पहुँचे थे।ग्रामीणों का कहना था कि वर्तमान ग्राम प्रधान व उनके भाइयों को साजिश के तहत इस मामले में फंसाया जा रहा है।नामज़द किए गए सभी लोग पूरी तरह से निर्दोष हैं।इस लिए सभी को छोड़ा जाए।हालांकि मौक़े पर साध्वी नहीं मिली इस लिए ग्रामीण उनके कार्यालय प्रतिनिधि को ज्ञापन देकर वापस लौट आए।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।