×
विज्ञापन

फतेहपुर:देवर संग फाँसी में झूल गई भाभी.दोनों में इश्क़ था.!

विज्ञापन

फतेहपुर में देवर भाभी का शव फाँसी के फंदे में लटके हुए मिलने से सनसनी फैल गई है, बताया जा रहा है कि दोनों के बीच काफ़ी समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था..पढ़ें पूरी खबर युगान्तर प्रवाह पर..

फतेहपुर:नाज़ायज रिश्तों में पनप रहे इश्क़ का अंत अक्सर दर्दनाक होता है।ऐसा ही एक वारदात ज़िले के गाजीपुर थाना क्षेत्र अन्तर्गत हुई है।जहाँ देवर और उसकी सगी भाभी के बीच इश्क़ हुआ औऱ जब घर वालों को इसकी जानकारी हुई औऱ युवक की दूसरी जगह शादी तय कर दी तो दोनों ने बीती रात साड़ी के फंदे से फाँसी लगा आत्महत्या कर ली।fatehpur news

उपलब्ध जानकारी के अनुसार गाजीपुर थाना क्षेत्र के ब्राह्मणतारा मजरे लमेहटा गाँव निवासी राममिलन निषाद(23) का अपनी सगी भाभी सुनीता(28) से प्रेम प्रंसग चल रहा था।

मृत युवक का बड़ा भाई (सुनीता का पति) हरिओम बाँदा ज़िले में किसी मौरंग खदान में जेसीबी चलाता है।सुनीता औऱ हरिओम की शादी क़रीब पाँच साल पहले हुई थी एक तीन का साल बेटा और 6 माह की एक बेटी भी है।Fatehpur crime news

लेक़िन इस दरम्यान हरिओम के छोटे भाई राममिलन का अपनी भाभी के साथ प्रेम प्रंसग हो गया।प्रेम प्रंसग की चर्चा धीरे धीरे पूरे गांव में फैलने लगी, घर वालों को भी दोनों के सम्बंध के बारे में जानकारी हो गई।

Fatehpur devar bhabhi love

परिजनों के मुताबिक दोनों का काफ़ी समझाया गया था,और युवक की शादी भी दूसरी लड़की के साथ तय कर दी जो मई महीने में होनी थी।बताया जा रहा है कि दोनों ही इस शादी की बात से परेशान रहने लगे थे।

बीती रात राममिलन औऱ उसकी भाभी सुनीता ऊपर के कमरे में लेटे हुए थे।सुबह जब काफ़ी देर तक ऊपर से कोई नहीं आया तो घर में मौजूद राममिलन के पिता ऊपर पहुँचे तो देखा दरवाजा अंदर से बन्द था।खिड़की से जब अंदर झांककर देखा तो राममिलन और सुनीता के शव फाँसी के एक ही फंदे में लटके हुए थे।Fatehpur devar bhabhi news

गाजीपुर थाना अध्यक्ष कमलेश पाल ने बताया कि सूचना के बाद मौक़े पर पहुँची पुलिस टीम शवों को कब्ज़े में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया था।मृतकों के बीच प्रेम प्रंसग था।प्रथम दृष्टया प्रेम प्रंसग में आत्महत्या किए जाने की बात सामने आई है।फारेंसिक टीम मौक़े पर पहुँचीं हैं।जाँच कर आगे की कार्यवाही की जाएगी।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।