Premanand Maharaj ji Inspiration Thoughts: प्रेमानन्द महाराज जी ने बताया प्राण प्रतिष्ठा के बाद राम लला की मूर्ति क्यों बदल गयी ! कहा मंत्रों और भावों में है बड़ा सामर्थ्य

राम लला की प्राण प्रतिष्ठा अयोध्या (Pran Pratistha Ayodhya) में हो चुकी है. प्रभू बालक राम रूप में विराज गए हैं. इन दिनों राम लला की मूर्ति पर तेज और परिवर्तन (Ram Lala Idol Changed) देखा गया जिसका जिक्र खुद मूर्तिकार अरुण योगिराज ने किया. अब मूर्ति के बदलाव को लेकर मथुरा वृन्दावन वाले प्रेमानन्द महाराज ने महत्वपूर्ण बात बताई है.

Premanand Maharaj ji Inspiration Thoughts: प्रेमानन्द महाराज जी ने बताया प्राण प्रतिष्ठा के बाद राम लला की मूर्ति क्यों बदल गयी ! कहा मंत्रों और भावों में है बड़ा सामर्थ्य
प्रेमानन्द महाराज जी, फोटो साभार सोशल मीडिया

रामलला की मूर्ति को देख मूर्तिकार भी हुए अचंभित, प्रेमानन्द जी ने बताई ये बात

सोशल मीडिया पर प्रेमानन्द महाराज जी (Premanand Maharaj) को काफी फॉलो किया जाता है. दरअसल उनके प्रेरणादायक सत्संग और प्रवचन (Inspirational Sermon) हर किसी को जीवन की नई दिशा देने का काम करते हैं. विराट कोहली से लेकर रेसलर खली व आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी उनके दर्शन के लिए पहुंच चुके हैं. आये हुए भक्तों के प्रश्नों का जवाब बड़े ही सहजता से देते हैं. एक सवाल आया था कि अयोध्या में रामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा होने के बाद इतना परिवर्तन कैसे आया. ख़ुद मूर्तिकार भी इस बात को लेकर एक बार अचंभित हुए थे. जिसपर महाराज जी की प्रतिक्रिया सामने आई है. 

नाम भाव से जपते रहो, प्रभू का अवतार मंत्र से हो गया

प्रेमानन्द महाराज जी कहते है कि भगवान का अवतार मंत्र से हो गया आज भी मंत्र से ही अवतार हो रहा है. हम जिस प्रभू के नाम का जप करते है उसके अनन्य हो जाएंगे, मंत्रों के लिए गुरु प्रदत्त होना चाहिए. प्रभु के नाम अनन्य है पर नाम एक पकड़ो जो पकड़ो उसके अनन्य हो जाओ. नाम जपने का बड़ा महत्व है जो पाप को भष्म कर देता है. नाम जप रहे हो और अपराध कर रहे हो वो ह्रदय में चल नहीं सकता. ध्यान रखें नाम की आढ़ में कोई पाप न करें. भूल से कोई गलती हुई तो नाम अपने आप मे प्रभावशाली है जपते रहो अपने आराध्य का नाम भाव से अपने आप पाप नष्ट कर देगा. 

वेदमंत्रों और भाव से भगवान को कहीं भी किया जा सकता प्रकाशित

प्रेमानन्द जी ने बताया कि प्राण प्रतिष्ठा के समय वेद मंत्रों का उच्चारण किया जाता है. हमारे शास्त्रों में मंत्रों में बहुत सामर्थ्य है. उस शुभ समय पर ऐसे तपस्वी संत और महापुरुष भी होते हैं जिनके द्वारा दिव्य वेद मंत्रों का प्रयोग कर प्राण प्रतिष्ठा की जाती है. ऐसे में मूर्ति में स्वयं भगवान प्रकाशित हो जाते हैं यानी मूर्ति में भगवान का वास होता है. मंत्र और भाव से कहीं भी भगवान को प्रकाशित किया जा सकता है. कौन सा महात्मा किस कोटि का है यह आप समझते है. मंत्र विद्या ब्रह्म ऋषियो का आव्हान और असंख्य भक्तों की भक्ति से प्रभू प्रकाशित हो जाते हैं. वेद मंत्र में बहुत शक्ति है, वेद मंत्र भगवान की ही वाणी है. खुद भगवान उनके रचयिता है. मंत्रों में असंख्य भक्तों के भाव छिपे हैं.

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

NEET 2024 NTA Supreme Court Judgment In Hindi: नीट परीक्षा 2024 के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दिया ये निर्णय ! अब बदल जाएगी मेरिट लिस्ट NEET 2024 NTA Supreme Court Judgment In Hindi: नीट परीक्षा 2024 के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दिया ये निर्णय ! अब बदल जाएगी मेरिट लिस्ट
NTA Neet Exam 2024: मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम को लेकर Supreme Court ने अब बड़ा निर्णय दिया है. अब 1563 छात्रों...
Fatehpur News: फतेहपुर में नलकूप पर सो रहे किसान की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत ! पास में पड़ीं थीं बोतले, शरीर नीला था
Fatehpur Local News: फतेहपुर में ट्रक की टक्कर से दो की मौ'त ! रात भर रौंदते रहे वाहन
Modi Cabinet 3.O List 2024: नरेंद्र मोदी के कैबिनेट में किसको मिला कौन सा मंत्रालय ! यूपी के इस नेता को मिली महत्वपूर्ण जगह
Fatehpur News: फतेहपुर में पेशाब के बहाने बदमाश ने तान दी रायफल ! बीसी संचालक से लूट में तीन हुए गिरफ्तार
J&K Bus Attack In Reasi: मोदी के शपथ ग्रहण के दौरान जम्मू कश्मीर में आतंकी हमला ! 10 की मौत 33 घायल
Kaushambi Rape Case: कौशांबी में नाबालिग छात्रा से रेप करने वाला प्रिंसिपल गिरफ्तार ! क्या बाबा का चलेगा बुलडोजर?

Follow Us