oak public school

नवरात्रि विशेष:आठवें दिन माँ दुर्गा की महागौरी स्वरूप में होगी पूजा..जाने महत्व और पूजा विधि.!

शारदीय नवरात्रि के आठवें दिन माँ दुर्गा के महागौरी स्वरूप की पूजा होती है।क्या है पूजन का शुभ समय और क्या है महत्व पढ़े युगान्तर प्रवाह की यह रिपोर्ट।

नवरात्रि विशेष:आठवें दिन माँ दुर्गा की महागौरी स्वरूप में होगी पूजा..जाने महत्व और पूजा विधि.!
फ़ोटो साभार गूगल

अध्यात्म:आज शारदीय नवरात्रि का आठवां दिन है।इस दिन माँ दुर्गा अपने भक्तों को महागौरी स्वरूप में दर्शन देती हैं।माता दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है।

ये भी पढ़े-मां के इस स्वरूप की इस विधि विधान से करे पूजा..

भगवान शिव की प्राप्ति के लिए मां गौरी ने कठोर पूजा की थी जिससे इनका शरीर काला पड़ गया था। जब भगवान शिव ने इन्हें दर्शन दिए तो उनकी कृपा से इनका शरीर अत्यंत गोरा हो गया और इनका नाम गौरी हो गया।

पूजन का शुभ समय..

Read More: Holi Me Gobar badkulla Balle Ka Mahtva: जानिए होलिका दहन में गोबर के उपलों से बनी मालाओं का क्या है महत्व?

पाठ का समय संधि पूजा के समय हो तो बेहतर। अष्टमी, नवमी तिथि एकसाथ होने पर संधि पूजा काल आता है।48 मिनट की संधि होती है। अष्टमी जाती है और नवमी आती है।पूजा की दृष्टि से सबसे अहम होता है संधि काल।ऋतु, दिवा, मुहूर्त की संधि बहुत महत्वपूर्ण होती है।10:30 से 11:18 बजे तक समय है।11:46 बजे से कभी भी पूजा कर सकते हैं।तीसरा समय सूर्यास्त के बाद रात 09:48 बजे तक. साढ़े 9 से 10:18 बजे के बीच का समय संधि समय है।

Read More: Kanpur Tapeshwari Mata Temple: मां सीता के त्याग और तप से जुड़ा हुआ है इस मंदिर का इतिहास ! यहाँ लव-कुश का हुआ था मुंडन संस्कार

क्या है महत्ता..

Read More: Abu Dhabi Hindu Mandir: अबूधाबी में पहले हिन्दू मन्दिर का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया उद्घाटन ! नागर शैली तर्ज व 27 एकड़ क्षेत्र में बना है यह भव्य मंदिर, 1 मार्च से कर सकेंगे दर्शन

माना जाता है कि माता सीता ने श्रीराम की प्राप्ति के लिए मां गौरी की ही पूजा की थी।विवाह संबंधी तमाम समस्याएं इनकी पूजा से हल हो जाती हैं। जिन कन्याओं का विवाह नहीं होता है तो उनके लिए गौरी पूजन विधान किया जाता है।जब भगवती सीता का एक साल तक स्वंयवर होने के बाद भी विवाह नहीं हो रहा था तो जनक जी ने माता सीता को इन्हीं की पूजा करने मंदिर भेजा था।

मां गौरी के लिए मंत्र- मां गौरी को प्रसन्न करने के लिए ‘ऊँ भगवते महागौर्यै नमः’ इसी मंत्र का जाप करना चाहिए।

Tags:

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Hanuman Jayanti 2024 Kab Hai: हनुमान जयंती कब हैं? इस बार बन रहा है अद्भुद संयोग, जानिए राम नवमी से क्या है संबंध Hanuman Jayanti 2024 Kab Hai: हनुमान जयंती कब हैं? इस बार बन रहा है अद्भुद संयोग, जानिए राम नवमी से क्या है संबंध
Hanuman Jayanti 2024 Kab Hai: हनुमान जी को भगवान शिव यानी रुद्र का 11वां अवतार कहा जाता है. साल 2024...
Political Kavita: आने वाले हैं शिकारी मेरे गांव में Lyrics In Hindi ! Aane Wale Hai Shikari Mere Ganv Me
Fatehpur News: मजदूर के घर जन्मी सफलता ! आंक्षा ने बदली पेशानी की रेखाएं
Fatehpur News Today: फतेहपुर में करंट की चपेट में आने से दो मजदूरों की मौत, चार घायल, FCI गोदाम में पड़ रही थी स्लैब
UP Board Result 2024 Intermediate Topper: यूपी बोर्ड की इंटरमीडिएट परीक्षा में सीतापुर के शुभम वर्मा टॉपर ! फतेहपुर को मिला तीसरा स्थान
UP Board Result 2024 High School Topper: यूपी बोर्ड हाईस्कूल की परीक्षा में ये रहे टॉपर ! फतेहपुर में इन्होंने मारी बाजी
Fatehpur Local News: मौत बांट रहे हैं फतेहपुर के नर्सिंग होम ! धृतराष्ट्र बना स्वास्थ्य विभाग

Follow Us