oak public school

Khichdi kyo Khai Jati Hai: मकर संक्रान्ति में लोग खिचड़ी क्यों खाते हैं, जाने इसका धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

Importanc of Khichdi In Makar Sankranti

मकर संक्रांति पर खिचड़ी (Khichdi) खाने का महत्व है, लेकिन आप सबके मन में एक सवाल जरूर आता होगा कि आख़िर मकर संक्रांति (Makar Sankranti) पर खिचड़ी ही क्यों खाई जाती है, आइए जानते हैं खिचड़ी का धार्मिक औऱ वैज्ञानिक महत्व.

Khichdi kyo Khai Jati Hai: मकर संक्रान्ति में लोग खिचड़ी क्यों खाते हैं, जाने इसका धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व
Khichdi Festival

Khichadi Festival : हिन्दू धर्म का मकर संक्रांति (Makar Sankranti) जिसे खिचड़ी का पर्व भी कहा जाता है उसका बड़ा महत्व है. सूर्य के मकर राशि पर प्रवेश करने के खिचड़ी का पर्व मनाया जाता है. इस दिन सबके घर में खिचड़ी बनाई और खाई जाती है.विद्वानों के मुताबिक मकर संक्रांति पर जो खिचड़ी बनाई जाती है उसका संबंध किसी न किसी ग्रह से रहता है.

खिचड़ी से होता है ग्रहों का सम्बंध 

खिचड़ी में इस्तेमाल होने वाले चावल का संबंध चंद्रमा से होता है. खिचड़ी में डाली जाने वाली उड़द की दाल का संबंध शनिदेव, हल्दी का संबंध गुरु देव से और हरी सब्जियों का संबंध बुध देव से माना गया है. इसके अलावा खिचड़ी में घी का संबंध सूर्य देव से होता है. इसलिए मकर संक्रांति की खिचड़ी को बेहद खास माना जाता है.

मकर संक्रांति पर खिचड़ी खाने के साथ साथ जरूरत मंद, गरीब औऱ आचार्य, पुरोहितों को खिचड़ी (Khichdi) का दान भी जरूर करें. वैज्ञानिकता के आधार पर मकर में सूर्य के आने के बाद प्रकृति में गर्मी की शुरुवात होने लगती है और खिचड़ी एक सुपाच्य भोजन माना जाता है और इस दिन का आधार यह भी है कि इस दिन से गरिष्ठ भोजन कम कर देना चाहिए.

इस साल मकर संक्रांति 15 जनवरी को मनाई जाएगी, हर साल यह पर्व 14 या 15 जनवरी को पड़ता है, क्योंकि सूर्य का मकर रेखा में प्रवेश 14, 15 जनवरी को ही होता है. इस साल 15 जनवरी को मकर संक्रांति (Makar Sankranti) मनाई जाएगी.

Read More: Abu Dhabi Hindu Mandir: अबूधाबी में पहले हिन्दू मन्दिर का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया उद्घाटन ! नागर शैली तर्ज व 27 एकड़ क्षेत्र में बना है यह भव्य मंदिर, 1 मार्च से कर सकेंगे दर्शन

मकर संक्रांति के दिन मां गंगा का हुआ था अवतरण 

मकर संक्रांति के सम्बंध में कई मान्यताएं प्रचलित हैं उनमें से ही एक पौराणिक मान्यता के अनुसार, मकर संक्रांति के दिन देवी गंगा भगवान विष्णु के अंगूठे से निकलकर भागीरथ के पीछे-पीछे कपिल मुनि के आश्रम से होकर सागर में जा मिली थीं. यहां उन्होंने भागीरथ के पूर्वज महाराज सगर के 60 हजार पुत्रों को मोक्ष प्राप्ति का वरदान दिया था. इसलिए बंगाल के गंगासागर में कपिल मुनि के आश्रम पर एक विशाल मेला भी लगता है.

Read More: Chaitra Navratri 2024: चैत्र नवरात्रि पर इन बातों का रखें विशेष ध्यान ! पड़ सकते हैं लेने के देने

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Prayagraj Crime In Hindi: प्रयागराज के बंद कमरे में महिला पुरूष कांस्टेबल के शव ! पुलिस महकमे में हड़कंप, आखिर क्या हुआ Prayagraj Crime In Hindi: प्रयागराज के बंद कमरे में महिला पुरूष कांस्टेबल के शव ! पुलिस महकमे में हड़कंप, आखिर क्या हुआ
यूपी (Up) के प्रयागराज (Prayagraj) जिले से एक बेहद सनसनीखेज मामला (Sensational Case) सामने आया है जहां एक कमरे में...
Upsc Topper Donuru Ananya Reddy Success story: यूपीएससी में ऑल इंडिया रैंक 3 हासिल करने वाली डोनुरू अनन्या रेड्डी की सफलता की कहानी ! क्रिकेटर विराट कोहली से है प्रभावित
Upsc Pawan Kumar Success Story: आर्थिक स्थिति से लड़ते हुए छप्पर में रहने वाले किसान के बेटे पवन कुमार ने UPSC में मारी बाजी ! परिवार में छाई खुशी
Bhaye Pragat Kripala Din Dayala Likhit Me: रामनवमी में पढ़ें श्री राम जन्म की स्तुति 'भए प्रगट कृपाला दीनदयाला' लिखित में
Fatehpur Local News: फतेहपुर में खंडित की गईं मंदिर की प्रतिमाएं ! तनाव बढ़ता देख पहुंची पुलिस
UPSC Topper Animesh Pradhan Success Story: यूपीएससी में द्वितीय स्थान पाने वाले अनिमेष प्रधान का संघर्षों से भरा रहा है जीवन ! माता-पिता की मौत के बाद भी नहीं टूटने दी हिम्मत
Hardoi Crime In Hindi: प्रेमी के साथ मिलकर खेत में पति की कर दी हत्या ! फिर वहीं मनाई रंगरेलियां, घटनास्थल पर मिली चप्पल से हुआ हत्या का खुलासा

Follow Us