×
विज्ञापन

कानपुर कांड:गाड़ी पंचर हुई और प्रभात मिश्रा का एनकाउंटर..बउवा दुबे इटावा में ढेर..अब तक पाँच का हो चुका है एनकाउंटर..!

विज्ञापन

कानपुर कांड का मुख्य आरोपी विकास दुबे गुरुवार सुबह उज्जैन मध्यप्रदेश के महाकाल मंदिर के बाहर से गिरफ्तार हुआ है..इसके पहले भोर पहर विकास के दो और साथी एनकाउंटर में मारे गए हैं..पढ़ें पूरी खबर युगान्तर प्रवाह पर।

कानपुर:बिकरु में मुठभेड़ के दौरान आठ पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतारने वाले विकास दुबे गैंग के दो और सदस्य गुरुवार सुबह एनकाउंटर में मार दिए गए।फरीदाबाद पुलिस ने जिस प्रभात मिश्रा को गिरफ्तार कर यूपी पुलिस को सौंपा था।उसका पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया।सुबह ही इटावा में एक अन्य साथी बउवा दुबे भी पुलिस के एनकाउंटर में मारा गया।

ये भी पढ़ें-कानपुर कांड:विकास दुबे को पकड़ने में नाकाम रही यूपी पुलिस..उज्जैन में किया सरेंडर..!

एडीजी कानपुर ने बताया कि प्रभात मिश्रा को कानपुर लाते वक्त रास्ते में वैन खऱाब हो गई। इसका फायदा उठाकर उसने पुलिसवालों पर पिस्तौल तान दी और भागने की कोशिश की। उसने फायरिंग की तब पुलिस ने जवाब दिया और वह मारा गया।

ये भी पढ़ें-कानपुर कांड:एसटीएफ को मिली बड़ी सफ़लता..विकास दुबे का राइट हैंड हमीरपुर में ढ़ेर..!

प्रभात मिश्रा कानपुर शूटआउट कांड में शामिल था। वह विकास दुबे का साथी था। बुधवार कोयूपी पुलिस की एसटीएफ और हरियाणा पुलिस ने फरीदाबाद की न्यू इंदिरा कॉलोनी से पकड़ा था। इसके बाद उसे कोर्ट में पेश किया गया था। कोर्ट से यूपी पुलिस ने पूछताछ के लिए प्रभात को एक दिन के ट्रांजिट रिमांड पर लिया था। यूपी पुलिस उसे पूछताछ के लिए कानपुर ले गई थी।पुलिस का दावा है कि रास्ते में पुलिस की गाड़ी पंक्चर हो गई थी। इसी दौरान प्रभात ने भागने की कोशिश की और पुलिस ने उसे गोली मार दी।

ये भी पढ़ें-कानपुर एनकाउंटर:दो बदमाश ढ़ेर..पुलिस का सर्च अभियान जारी..सारी सीमाएं सील..!

इटावा सिविल लाइन पुलिस ने कचौरा रोड पर एक मुठभेड़ में एक बदमाश को मार गिराया, जिसकी पहचान कानपुर के बिकरू कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे गैंग के सदस्य बउवा दुबे के रूप में की गई है।

इसके पहले बुधवार को हमीरपुर के मौदहा में विकास का राइट हैंड बताए जा रहे अमर दुबे और कानपुर कांड के अगले दिन सुबह प्रेम प्रकाश पांडेय और अतुल दुबे पुलिस एनकाउंटर में मारे जा चुके हैं।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।