Nipah Virus In Keral: केरल में निपाह वायरस से हाहाकार ! जानिए मानव शरीर में कैसे फैलता है ये संक्रमण और क्या है इसके लक्षण

Nipah Virus Symptoms: केरल में निपाह वायरस का संक्रमण फैल रहा है, राज्य सरकार ने स्वास्थ्य विभाग को पूरी तरह से अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दिए हैं. कोझिकोड जिले में निपाह वायरस का संक्रमण फैल रहा है. जिसमें अबतक दो की मौत भी हो चुकी है. इस वायरस से तेज बुखार और सिर दर्द कई दिनों तक रहता है जिससे जान भी जा सकती है. ऐसे लोग जिन्हें जरा से भी ऐसे लक्षण है उन्हें कांट्रेक्ट ट्रेसिंग के जरिये घर पर ही क्वारेंटिंन किया जा रहा है. केंद्र सरकार की एक टीम केरल पहुँचकर संक्रमित क्षेत्र का दौरा करते हुए

Nipah Virus In Keral: केरल में निपाह वायरस से हाहाकार ! जानिए मानव शरीर में कैसे फैलता है ये संक्रमण और क्या है इसके लक्षण
केरल में निपाह वायरस से हड़कंप : फोटो साभार सोशल मीडिया

हाईलाइट्स

  • निपाह वायरस ने केरल में दी दस्तक, कोझिकोड में मिल रहे संक्रमित
  • सुअर और चमगादड़ से फैलता है इंसान में, इंसान के इंसान से सम्पर्क से तेजी से फैलता है संक्रमण
  • सिर दर्द, तेज बुखार, उल्टी जैसे लक्षण, केंद्र सरकार की एक टीम केरल पहुंचकर संक्रमित क्षेत्रो का किया

Nipah virus is spreading rapidly in Kerala : केरल में निपाह वायरस तेजी से फैल रहा है. ऐसे में यदि कोई लक्षण इस तरह के यानी तेज बुखार और सिर दर्द के लग रहे हो तो चिकित्सक से परामर्श लें. हालांकि यह वायरस एक दूसरे के सम्पर्क आने से फैल रहा है. तो खुद को बचाना है साथ मे दूसरे को भी, इसलिये ऐसे लक्षण दिखे तो अपनों से कुछ दूरी बना कर रहें. चलिए बताते है कि निपाह वॉयरस क्या है, और यह कैसे पनपता है और कितना खतरनाक हो सकता है.

 

केरल में निपाह वायरस से दो की मौत, केंद्र सरकार की एक टीम ने किया दौरा

केरल में निपाह वायरस ने दस्तक दी है. केरल के कोझीकोड जिला काफी प्रभावित हुआ है. इस वायरस की चपेट में दो लोगों की मौत हो चुकी है. वही कई लोगों में इस वायरस के लक्षण देखे जा रहे हैं. जिनके लिए राज्य सरकार ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया है कि ऐसे लोगों के कांटेक्ट ट्रेसिंग कर उन्हें घर पर रहने की सलाह दी जाए साथ ही उन्हें टेलीमेडिसिन भी दी जाए. कोझिकोड में बढ़ रहे इस वायरस को देखते हुए स्कूल, कालेज बंद कर दिए है. उधर केंद्र सरकार की एक टीम संक्रमित क्षेत्र के दौरे के लिए पहुंच चुकी है जहां इस संक्रमण की चपेट में आने वाले लोगों के इंतजाम करना शुरू कर दिया है.

Read More: World Malariya Day 2024: जानिए क्यों मनाते हैं विश्व मलेरिया दिवस ! क्या हैं इस जानलेवा बीमारी के लक्षण और बचाव

स्वास्थ्य मंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को दिए हैं कड़े निर्देश

Read More: Mumps Disease Outbreak News: बच्चों में पाई जाने वाली ये बीमारी है बेहद खतरनाक ! समय रहते नहीं करवाया इलाज तो बढ़ सकती है मुश्किलें

कोझिकोड जिले में लगातार कांटेक्ट ट्रेसिंग कराई जा रही है. जिसमें अब तक 706 में से कांटेक्ट ट्रेसिंग में 77 हाई रिस्क कैटेगरी में आ रहे हैं जबकि 153 स्वास्थ्य कर्मी लो रिस्क कैटेगरी में है जिन मरीजों में हाई रिस्क दिखाई दे रही है. उन्हें घरों पर रहने के निर्देश दिए गए हैं. यदि उन्हें कोई लक्षण समझ में आते हैं तो वह कॉल सेंटर व अन्य नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं.

Read More: Benefits Of Watermelon: आ गया तरबूज का मौसम ! गर्मियों में तरबूज का करें सेवन, मिलेंगे इस तरह के फायदे

इस मामले में केरल के स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने बताया कि लगातार हमारी टीम स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित कर रही है कि कहीं भी संक्रमित लोग पाए जाए तो तत्काल उन्हें घरों पर रहने की सलाह दी जाए. यदि लक्षण गंभीर है तो उन्हें मेडिकल कॉलेज भेजा जाएगा.  निपाह वायरस संक्रमण से निपटने के लिए 19 समितियां भी बनाई है. कोझिकोड प्रशासन ने 7 ग्राम पंचायत को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है.

मलेशिया से पता चला था इस वायरस के बारे में

बात की जाए निपाह वायरस की यह कैसे फैलता है, तो यह वाइरस इंसान और जानवरों में तेजी से फैलता है. सबसे पहले इसके बारे में 1998 में मलेशिया से पता चला था. सूअर और चमगादड़ से यह वायरस इंसानों में फैलता है और इंसान के इंसान से सम्पर्क से भी फैलता है. इसके लक्षण तेज बुखार और सर दर्द बना रहना,उल्टी, थकान हैं, दिमाग को भी नुकसान ज्यादा होता है. इसमें करीब 3 से 14 दिन तक लग सकते हैं. ऐसे में मरीज कोमा में जा सकते हैं और उनकी मौत तक हो सकती है. अबतक इसके बचाव के लिये कोई इंजेक्शन नहीं बना है. इस संक्रमण से सांस लेने व इंसेफेलाइटिस की इंसानों में समस्या हो सकती है. सेंटर फ़ॉर डिसीज़ कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक़ निपाह वायरस का इंफ़ेक्शन एंसेफ़्लाइटिस से जुड़ा है, जिसमें दिमाग़ को नुक़सान होता है.

चमगादड़ और सुअर से फैलता है वायरस

इससे पहले साल 1998 में इस वायरस की चपेट में करीब 265 लोग आए थे जिसमें कई लोगों की मौत भी हुई थी. आमतौर पर यह निपाह वायरस सुअर और चमगादड़ से इंसानों में प्रवेश करता है. मलेशिया में सुअर की वजह सामने आयी थी, जबकि बांग्लादेश में इंसान से इंसान के बीच संक्रमण वजह थी.

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Bindki Accident News: फतेहपुर के बिंदकी में दर्दनाक हादसा ! बाइक सवार दो लोगों की मौत Bindki Accident News: फतेहपुर के बिंदकी में दर्दनाक हादसा ! बाइक सवार दो लोगों की मौत
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) में सड़क हादसे में बाइक सवार दो लोगों की मौत हो गई. घटना...
Fatehpur Brajesh Pathak: फतेहपुर पहुंचे डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक अचानक क्यों भड़क उठे ! एक दिन का काटा वेतन
फतेहपुर थाना न्यूज़: मां-बेटे ने मिलकर पिता को लगाया 50 लाख का चूना ! तिकड़म जान कर रह जाएंगे भौचक्के
Fatehpur News: फतेहपुर में ससुराल गए युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौ'त ! परिजनों ने लगाया ह'त्या का आरोप
UPSC EPFO APFC Result 2024: फतेहपुर की विप्लवी बनी असिस्टेंट कमिश्नर ! गांव में ख़ुशी की लहर, जानिए लोगों ने क्या कहा
Fatehpur UPPCL News: फतेहपुर के बिजली विभाग में 14 सालों से जमा बुद्धराज बाबू हटाया गया ! इस एक्सईन का था राइट हैंड
Fatehpur Snake News In Hindi: नौ बार तुम्हें काटूंगा 8 बार तू बच जाएगा ! कोई नहीं बचा पाएगा तुझे, जानिए फतेहपुर की रहस्यमय घटना

Follow Us