×
विज्ञापन

Pitru Paksha Date 2021:कब से शुरु हो रहा है पितृ पक्ष देखें पूरा कलेंडर

विज्ञापन

पितृ पक्ष का हिन्दू धर्म में बहुत ही ज़्यादा महत्व है।संसार से विदा ले चुके अपने पूर्वजों को याद करने के लिए यह 15 दिनों का पितृ पक्ष होता है।इस साल पितृ पक्ष जिसे पितर भी कहा जाता है इस साल 21 सितंबर से शुरू हो रहें हैं.Pitru Paksha dates in Hindi shradh 2021 date in india calendar sharad 2021 date in india calendar pitru paksha amavasya 2021

Pitru Paksha Date 2021:हिन्दू धर्म में अति महत्वपूर्ण पितृ पक्ष श्राद्ध का समय आने वाला है।अश्वनी मास के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि से 15 दिनों का पितृ पक्ष शुरू हो जाता है। इस साल अंग्रेजी कलेंडर के अनुसार 21 सितंबर से पितृ पक्ष शुरू होंगे जो 6 अक्टूबर के दिन पितृ अमावस्या से समाप्त हो जाएंगे।Pitra visarjan 2021 date pitra dosh pitru paksha 2021 shradh and navratri 2021

विज्ञापन
विज्ञापन

पितृ पक्ष में श्राद्ध की महत्वपूर्ण तिथियां..Pitru Paksha Calendar 2021

पितृ पक्ष में अलग अलग तिथियों के हिसाब से अपने पूर्वजों का श्राद्ध किया जाता है।इस साल की महत्वपूर्ण श्राद्ध तिथियां हैं प्रतिपदा का श्राद्ध 21 सितंबर षष्ठी श्राद्ध 27 सितंबर नवमी का 30 सितंबर एकादशी का 2 अक्टूबर, चतुर्दशी का 5 अक्टूबर औऱ अमावस्या का श्राद्ध 6 अक्टूबर को होगा।पितृ पक्ष के समाप्त होते ही अगले दिन यानि कि 7 अक्टूबर से शारदीय नवरात्र का प्रारंभ हो जाएगा। Pitru Paksh Visarjan Date 2021

क्या है महत्व.. Pitru Paksha 2021 Importance

हिंदू धर्म में पितृ पक्ष बहुत ही महत्‍वपूर्ण स्थान रखता है।मृत्‍यु के बाद भी हिंदू धर्म में पूर्वजों का समय-समय पर स्‍मरण किया जाता है और श्राद्ध पक्ष उन्‍हीं के प्रति अपनी कृतज्ञता जाहिर करने और उनके निमित्‍त दान करने का पर्व है। मान्‍यता है कि यदि श्राद्ध न किया जाए तो मरने वाले व्यक्ति की आत्मा को मुक्ति नहीं मिलती है। Pitru Paksha 2021 Date

ये भी पढ़ें- Halchhath 2021 Kab Hai:कब है हरछठ औऱ बलराम जयंती जानें मुहूर्त औऱ पूजा विधि

ये भी पढ़ें- Janmashtami 2021 Puja Time Vidhi:अपनी राशि के अनुसार करें इस बार श्रीकृष्ण जन्माष्ठमी पर पूजा होगा लाभ ही लाभ


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।