oak public school

Franklin Kameny: कौन हैं अमेरिकी समलैंगिक कार्यकर्ता फ्रैंक कमेनी जिनका Google Doodle सेलिब्रेशन मना रहा है।

समलैंगिकता के अधिकारियों की लड़ाई लड़ने वाले फैंक कमेनी (Franklin Edward Kameny)का Google डूडल आज व्यापक रूप से सेलिब्रेशन मना रहा है। Google के होम पेज में Franklin Kameny की तस्वीर नज़र आ रही है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि फ्रैंक कमेनी कौन थे और समाज के प्रति उनका क्या योगदान रहा। पढ़ें युगान्तर प्रवाह की एक रिपोर्ट(Google Doodle Celebrates American Gay Rights Fames Activist Frank Edward Kameny Latest Hindi News Today Biography)

Franklin Kameny: कौन हैं अमेरिकी समलैंगिक कार्यकर्ता फ्रैंक कमेनी जिनका Google Doodle सेलिब्रेशन मना रहा है।
फ्रैंक कमेनी सर्च गूगल फोटो (गूगल साभार)

Frank Kameny Biography: गूगल आज अमेरिकी समलैंगिक कार्यकर्ता फ्रैंक कमेनी का सेलिब्रेशन अपने Doodle पर मना रहा है। Frank Kameny ने अमेरिका में रहने वाले समलैंगिक लोगों के अधिकारों के लिए लंबी लड़ाई लड़ी। इनके आंदोलन को यूएस एल्जिबिटीक्यू अधिकार आंदोलन के आंकड़ों में सबसे प्रमुख माना जाता है। लेकिन इसके अलावा फ्रैंक कमेनी कौन थे ये भी जानना आपके लिए बेहद जरूरी है। (Google Doodle Celebrates American Gay Rights Fames Activist Frank Edward Kameny Latest Hindi News Today Biography)

फ्रेंकलिन एडवर्ड कमेनी (Franklin Edward Kameny ) का जन्म सन 1925 में क्वींस न्यूयॉर्क में हुआ था। फ्रैंक एक खगोलशास्त्री सैनिक और समलैंगिक अधिकारों के कार्यकर्ता थे। बचपन से ही तीव्र बुद्धि के धनी फ्रैंक ने 15 वर्ष की आयु में भौतिक विज्ञान का अध्ययन करने के लिए क्वींस कॉलेज में दाखिला लिया। दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान उन्होंने सेना में सेवा भी लेकिन सेना छोड़ने के बाद वह फिर से क्वींस कॉलेज लौट आए और अपनी आगे की पढ़ाई करते हुए सन 1948 में भौतिकी में स्नातक की उपाधि हासिल की।

Franklin Edward Kameny फोटो गूगल साभार

इसके पश्चात उन्होंने 1949 में उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से खगोल विज्ञान में मास्टर डिग्री ली इसके बाद वहीं से खगोल विज्ञान में 1956 में डॉक्टरेट की उपाधि ही। उन्होंने जार्ज टाउन विश्वविद्यालय के खगोल विज्ञान विभाग में एक साल तक शिक्षण कार्य भी किया। सन 1957 में फ्रेंकलिन एडवर्ड कमेनी (Franklin Edward Kameny)ने अमेरिकी सरकार के खगोलशास्त्री के रूप में नौकरी कर ली।

लेकिन समलैंगिक होने के कारण उनको कुछ समय पश्चात नौकरी से निकाल दिया गया। इसके लिए उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में इसका विरोध किया बताया जा रहा है कि उन्होंने सन1960 में अमेरिकी राष्ट्रपति के व्हाइट हाउस के बाहर समलैंगिक अधिकारों के विरोध में आंदोलन किया। 1965 में समलैंगिक अधिकारों का व्हाइट हाउस और पेंटागन में विरोध करने वाले वे पहले व्यक्ति बने। इसके साथ मे 70 के दशक में उन्होंने अमेरिकन साइकियाट्रिक एसोसिएशन के समलैंगिगता को मानसिक विकार के रूप में वर्गीकृत करने पर इसके लिए लम्बी लड़ाई लड़ी इसका परिणाम ये रहा कि 1975 में सिविल आयोग ने LGBTQ कर्मचारियों पर अपने प्रतिबंध को हटा दिया।

Read More: Shoaib Malik-Sana Javed Wedding: पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शोएब मलिक ने की तीसरी शादी ! जानिए कौन है शोएब की नई दुल्हनियां, क्या सानिया को दे दिया तलाक?

1971 में उन्होंने अमेरिकी कांग्रेस के रूप में पहली बार एक समलैंगिक उम्मीदवार के रूप में चुनाव भी लड़ा। Franklin Kameny को उनके जीवन के अंतिम वर्षों में समलैंगिक अधिकारों की लड़ाई लड़ने वाले अग्रणी शख्सियत के रूप में व्यापक रूप से पहचान मिली। जून 2010 मे वाशिंगटन डीसी ने उनके सम्मान में ड्यूपॉन्ट सर्कल के पास 17 वी स्ट्रीट एनडब्ल्यू के एक खंड का नाम "फ्रैंक कमेनी वे"रखा दिया। सन 2011 में 86 वर्ष की आयु में फ्रैंक कमेनी का निधन हो गया (Google Doodle Celebrates American Gay Rights Fames Activist Frank Edward Kameny Latest Hindi News Today Biography)

Read More: Valentine Day 2024: क्यों मनाया जाता है वैलेंटाइन डे ! जानिए इससे जुड़ी रोचक कहानी और इतिहास

Tags:

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Latest News

Sitapur Daroga Suicide News: फतेहपुर निवासी सीतापुर में तैनात दारोगा ने खुद को गोली से उड़ाया ! एसपी चक्रेश मिश्रा कर रहे हैं जांच Sitapur Daroga Suicide News: फतेहपुर निवासी सीतापुर में तैनात दारोगा ने खुद को गोली से उड़ाया ! एसपी चक्रेश मिश्रा कर रहे हैं जांच
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सीतापुर (Sitapur) के मछरेहटा थाने में तैनात दारोगा मनोज कुमार (Manoj Kumar) ने सर्विस रिवाल्वर...
Kanpur Buddha Devi Temple: कानपुर में दो सौ साल पुराना ऐसा देवी मंदिर ! जहां मिठाई की जगह हरी सब्जियों का लगता है भोग
Kanpur Dehat News: पारिवारिक कलह के चलते 7 महीने के बच्चे की माँ ने उठाया खौफ़नाक कदम ! जिसे सुनकर सभी की आंखे हुई नम
Harisiddhi Mata Shaktipith: उज्जैन नगरी में सिद्ध शक्तिपीठ हरिसिद्घि माता के करें दर्शन, यहाँ माता के हाथ की गिरी थी कोहनी
Kashi Vishwanath Police Pujari: काशी विश्वनाथ मंदिर में पुजारी की वेशभूषा में ड्यूटी करेंगे पुलिसकर्मी ! सपा अध्यक्ष ने साधा निशाना
Fatehpur News Today: फतेहपुर में भाजपा नेता समेत दस के खिलाफ़ मुकदमा ! कोर्ट के आदेश पर कार्रवाई
Crime In Fatehpur: फतेहपुर में ईद के दिन खूनी खेल ! मटन की दुकान में शेर अली के सीने पर कई वार

Follow Us