×
विज्ञापन

UP News: गंगा में बहते हुए जा रहा था लकड़ी का बॉक्स खोलकर देखा तो सब दंग रह गए

विज्ञापन

यूपी के गाजीपुर में गंगा नदी में एक लकड़ी का बॉक्स बहते हुए जा रहा था।एक मल्लाह की नज़र उस बॉक्स में पड़ी तो वह उसे किनारे ले आया औऱ बॉक्स खोलकर देखा तो सब दंग रह गए. Up ghazipur district a wood box found in ganga

UP News: यह ख़बर आपको किसी फ़िल्म, सीरियल की कहानी लग सकती है।धार्मिक पुस्तकों में भी आपने शायद ऐसी कहानी पढ़ी या सुनी होगी लेकिन क्या सच में ऐसा हो सकता है तो शायद आपको पहली बार में यक़ीन न हो लेकिन हम आज जो ख़बर आपको बताने जा रहें हैं पूरी तरह से सत्य है।घटना यूपी के गाजीपुर ज़िले की है।uttar pradesh girl found in a wooden box flowing in the ganges in ghazipur

गाजीपुर के सदर कोतवाली इलाके के ददरी घाट के किनारे गंगा में बहते हुए लोगों ने एक लकड़ी के बक्से को देखा बॉक्स के भीतर से किसी बच्चे के रोने की आवाज आ रही थी।यह सुनकर लोगों ने तत्काल उसे निकालने का प्रयास शुरू किया एक मल्लाह बक्सा किनारे लेकर आया औऱ बक्सा जब खोला तो सभी अवाक रह गए।

विज्ञापन
विज्ञापन

बक्से को बाहर निकालने वाले मल्लाह गुल्लू चौधरी ने बताया कि बक्से को जब खोला गया तो उसके भीतर एक नवजात बच्ची लाल चुनरी में लिपटी हुई पड़ी थी।बच्ची के साथ देवी दुर्गा और भगवान विष्णु का चित्र भी लगा हुआ था और बच्ची के कमर में चुंदरी बंधी थी। बच्ची की कुंडली भी बाक्स में मिली है।इसमें उसका नामकरण गंगा किया गया था।बक्से में रखी कुंडली के अनुसार बच्ची 21 दिनों की है।Ghazipur Latest News

जानकारी पुलिस तक पहुंची। बच्ची के साथ मिले हुए सभी सामान के साथ मल्लाह कोतवाली पहुंचा और बच्ची को पुलिस को सुपुर्द कर दिया। इसके पश्चात इस परिवार ने बच्ची को पालने की लालसा से इन लोगों ने जिला अधिकारी को एक पत्र भी सौंपा। इस पर जिलाधिकारी ने इन लोगों से 1 सप्ताह बाद इस संबंध में निर्णय लेने की बात कही। फिलहाल बच्ची को आशा ज्योति केंद्र में रखा गया है। पुलिस प्रशासन बच्ची के बारे में और जानकारी पता करने में जुटा है।

ये भी पढ़ें- Fatehpur UP News: लड़की का शव मिलने से सनसनी दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका

ये भी पढ़ें- Uttar Pradesh News: एक दुल्हन के लिए पहुँच गई दो बारातें वरमाला पहले के साथ विदाई दूसरे के पुलिस जाँच में जुटी!


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।