×
विज्ञापन

UP:दबंगो से परेशान माँ और बेटी ने विधान भवन के सामने ख़ुद को लगाई आग..हालत नाज़ुक..!

विज्ञापन

सूबे की राजधानी में स्थित विधान भवन गेट के सामने दबंगो से पीड़ित माँ और बेटी ने ख़ुद को आग ली..दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है..माँ की हालत बेहद नाज़ुक है..पढ़ें पूरी खबर युगान्तर प्रवाह पर..

लखनऊ:शुक्रवार की शाम क़रीब 6 बजे लोकभवन के बाहर जो हुआ उसने सड़ चुके सरकारी सिस्टम की ताजी बानगी एक बार फ़िर पेश कर दी।ये घटना जिलों में तैनात रहने वाले अधिकारियों के बेईमान हो जाने की कहानी है,ये कहानी है उस राजा के राज्य में अंधेरगर्दी की जिसने कुर्सी में बैठने से पहले रामराज्य लाने की बात कही थी, ये कहानी है उन नेताओं के भ्रष्ट हो जाने की जिनको जनता ने चुनकर लोकतंत्र के मंदिर में भेजा था!लोकतंत्र की छाती में बैठकर राष्ट्रवाद का बिगुल फूँकते नेताओं से कौन कहे कि आज सूबे की राजधानी में जो हुआ उसे देख भारत माता की आँखे भी शर्म से झुक गई होंगीं।

क्या है पूरा मामला..

यह मामला विधानसभा के सामने लोकभवन के गेट नंबर तीन के पास का है।जिसके पास में ही सूबे के मुखिया(मुख्यमंत्री) का आफ़िस है।शाम के करीब 5:50 बज रहे थे, तभी बापू भवन के सामने दो महिलाओं ने खुद को आग लगा लिया। इसके बाद लपटों के बीच दौड़ते हुए लोकभवन के गेट तक आ गईं।दोनों ने मिट्टी का तेल छिड़ककर खुद को आग लगा लगाई थी।यह देखते ही पुलिस मौके पर दौड़ी और आग पर काबू पाया गया।झुलसी मां-बेटी को सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।हालांकि माँ बुरी तरह झुलस गई उसकी हालत गम्भीर बनी हुई है।जबकि बेटी फ़िलहाल खतरे से बाहर बताई जा रही है।

ये भी पढ़ें-गुना:दलितों की पीठ शिवराज की पुलिस ने उधेड़ दी..रोते बिलखते बच्चों की तस्वीरों ने खड़े किए सिस्टम पर सवाल.!

जानकारी के अनुसार ये पीड़ित महिलाएं अमेठी जिले की हैं।जी हाँ सही पढ़ा आपने वही अमेठी जिला जहाँ से केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी सांसद हैं ऐसी वैसी सांसद नहीं वो सांसद जो मुख्य विपक्षी दल के सबसे बड़े नेता राहुल गांधी को हरा ससंद पहुँची हैं।सूबे में भी उन्ही की पार्टी की सत्ता है।ऐसे में उनके ससंदीय क्षेत्र की महिलाओं को न्याय न मिले और वह परेशान होकर सीएम आफ़िस के सामने तेल डालकर आत्महत्या का प्रयास कर लें तो सवाल तो उठेंगे हीं!

ये भी पढ़ें-विकास दुबे एनकाउंटर मामले में यूपी सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में ये बयान दिया गया है..!

पीड़ित महिलाएं अमेठी के जामो की रहने वाली हैं नाम है गुड़िया और सोफिया है।गुड़िया का आरोप है कि नाली के विवाद में सुनील, अर्जुन, राजकरन, राम मिलन ने मां सोफिया को पीटा था। जब एफआईआर लिखाने के लिए जामो थाने पहुंचे तो वहां भी दबंग पहुंच गए थे।किसी तरह थाने में मुकदमा तो लिखा गया था।लेकिन, उसके बाद रात में दबंगों ने घर पर चढ़ाई कर हमला बोल दिया और माँ को बुरी तरह पीट दिया।पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है।इसलिए अमेठी से यहां आकर आत्मदाह करने का प्रयास किया था।लखनऊ के हजरतगंज थाने की पुलिस पीड़िताओं के बयान ले रही है।इस मामले में शासन ने अमेठी के अधिकारियों से भी जवाब तलब किया है।


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।