×
विज्ञापन

लॉकडाउन:मजदूरों के लगातार मरने का सिलसिला जारी है.रोडवेज ने रौंदा.6 की मौक़े पर ही मौत.!

विज्ञापन

लॉकडाउन के चलते पलायन को मजबूर प्रवासी मजदूरो के मरने का सिलसिला जारी है..कईयों ने तो चलते चलते दम तोड़ दिया और कई सड़क हादसों का शिकार हो चुके हैं.पढ़े युगान्तर प्रवाह की ये रिपोर्ट।

डेस्क:भारत में कोरोना से बड़ी त्रासदी प्रवासी मजदूरों का पलायन है।लॉकडाउन के चलते अपने घरों के लिए पैदल ही निकल पड़े इन मजदूरों का दर्द शायद अब सुनने वाला कोई नहीं है।आए दिन सड़क हादसों की आ रही खबरें और भी दर्दनाक हैं।औरंगाबाद में रेल की पटरियों में ट्रेन द्वारा कटकर हुई 16 मजदूरों की मौत का वो भयावह मंजर अब तक हर किसी के दिमाग में होगा।और इसी बीच गुरुवार भोर पहर यूपी के मुजफ्फरनगर में पैदल जा रहे प्रवासी मजदूरों को रोडवेज की बस ने कुचल डाला जिसमें 6 मजदूरों की मौक़े पर ही मौत हो गई।जबकि कई मजदूरों के घायल होने की ख़बर है।

ये भी पढ़े-भारत में अगले कुछ महीनों के अंदर हो सकती है क़रीब 3 लाख बच्चों की मौत:रिपोर्ट

आज तक में प्रकाशित ख़बर के अनुसार सभी मजदूर पंजाब में काम कर रहे थे और बिहार जा रहे थे।मजदूर पैदल ही गुरुवार को मुजफ्फरनगर कोतवाली के सहारनपुर रोड पर पहुंचे थे, तभी एक रोडवेज बस ने उन्हें कुचल दिया।इस घटना में 6 मजदूरों की मौके पर मौत हो गई है, जबकि दो घायल हैं।घायलों को स्थानीय अस्पताल में एडमिट कराया गया है।

ये भी पढ़े-कोरोना का ख़तरा-फतेहपुर में एक साथ दो लोगों की रिपोर्ट आई कोरोना पॉजिटिव..!

घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस प्रशासन में हडकंप मच गया और मौके पर पहुंची पुलिस ने शवों को कब्जे में ले लिया। साथ ही घायल मजदूरों को जिला चिकित्सालय लाकर भर्ती कराया गया है। पुलिस के अनुसार मृतक मजदूर बिहार के गोपालगंज जिले के रहने वाले हैं, जो पंजाब से पैदल ही वापस लौट रहे थे।

इस बीच यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे पर शोक जताते हुए मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख के मुआवजे का ऐलान किया है। सीएम योगी ने घायलों को 50-50 हजार की आर्थिक मदद देने के भी निर्देश दिए हैं। मृतकों के शव बिहार भिजवाने का इंतजाम किया जा रहा है। वहीं, मंडलायुक्त सहारनपुर को घटना की जांच कर रिपोर्ट देने को कहा गया है। 


युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।