खुद की गलती से सड़क दुर्घटना हुई तो बीमा नहीं – सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट

खुद की गलती से सड़क दुर्घटना हुई तो बीमा नहीं – सुप्रीम कोर्ट
sadak

सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को कहा कि यदि कोई व्यक्ति वाहन चलाते समय स्वयं कोई दुर्घटना करता है और उसमें कोई दूसरा वाहन शामिल न हो तो परिजन मुआवजे का दावा नहीं कर सकते। जस्टिस आरवी रमण और एसए नजीर की पीठ अगरतला में हुए हादसे में मृतक के परिजनों को मुआवजे के मामले में त्रिपुरा हाईकोर्ट के फैसले पर बीमा कंपनी की याचिका पर सुनवाई कर रही थी। पीठ ने कहा, उक्त मामले में यह सत्य है कि मृतक चालक वाहन का मालिक था और दुर्घटना लापरवाही और तेज गति से वाहन चलाने से हुई है। कानून की नजर में वह थर्ड पार्टी नहीं है।

कोर्ट ने कहा, दावेदार अपनी गलती के कारण दुर्घटनाग्रस्त होने पर बीमा का दावा नहीं कर सकते। पीठ ने त्रिपुरा हाईकोर्ट द्वारा दिए फैसले को निरस्त करते हुए बीमा कंपनी की अपील स्वीकार कर ली। कोर्ट ने कहा,व्यक्तिगत दुर्घटना के लिए बीमा कंपनी ने दो लाख रुपये देने का अनुबंध किया था, इसलिए मृतक के वारिसों को सिर्फ ये दो लाख रुपये ही मिलेंगे। जबकि मृतक के परिजनों ने 68 लाख रुपये मुआवजे की मांग की थी।

Tags:

युगान्तर प्रवाह एक निष्पक्ष पत्रकारिता का संस्थान है इसे बचाए रखने के लिए हमारा सहयोग करें। पेमेंट करने के लिए वेबसाइट में दी गई यूपीआई आईडी को कॉपी करें।

Related Posts

Latest News

UP Board Exam Paper Leak: 12 वीं पेपर लीक मामले में बोर्ड की बड़ी कार्रवाई ! स्कूल की मान्यता निरस्त, 2 गिरफ्तार,1 की तलाश जारी UP Board Exam Paper Leak: 12 वीं पेपर लीक मामले में बोर्ड की बड़ी कार्रवाई ! स्कूल की मान्यता निरस्त, 2 गिरफ्तार,1 की तलाश जारी
पेपर लीक का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है. अब यूपी बोर्ड परीक्षा में पेपर लीक का मामला...
Anant Ambani-Radhika Pre Wedding: अनन्त अम्बानी-राधिका की प्री वेडिंग सेरेमनी में दुनिया भर से दिग्गजों का आना हुआ शुरू ! जानिए कौन-कौन हस्तियां हो रही इस भव्य समारोह में शामिल
Banshidhar Tobacco Company IT Raid: तम्बाकू कम्पनी के कानपुर समेत कई ठिकानों पर IT की रेड ! दिल्ली-गुजरात में भी छापेमारी, क्या-क्या मिला?
Mahashivratri 2024: कब हैं 'महाशिवरात्रि' का महापर्व? क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि ! जानिये पौराणिक महत्व
March Muhurat 2024: विवाह-गृह प्रवेश व मुंडन संस्कार के जान लीजिए मार्च माह के शुभ मुहूर्त और तिथि
Fatehpur Sadar Asptal: मैं मना करती रही और वो हथौड़ी चलाता रहा ! डॉक्टर की करतूत बताते हुए भावुक हो गई सिस्टर इनचार्ज
Cardiac Arrest Treatment: कार्डियक अरेस्ट आने पर नहीं मिलता है जान बचाने का मौका ! इसलिए हो जाइए सचेत

Follow Us